ताज़ा खबर
 

‘अब केजरीवाल की आंख का तारा नहीं रहे सिसोदिया’

मनीष सिसोदिया से सरकार का सबसे अहम राजस्व विभाग लेना स्पष्ट रूप से यह बताता है कि अब वे केजरीवाल के आंख का तारा नहीं रहे हैं।
Author नई दिल्ली | July 20, 2017 03:50 am
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और मनीष सिसोदिया

दिल्ली विधानसभा में विपक्ष के नेता विजेंद्र गुप्ता ने आरोप लगाया है कि दिल्ली के मंत्रियों के विभागों में बदलाव उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया से उपजे अविश्वास की कहानी बयां करता है। मुख्यमंत्री ने मंत्रियों के विभागों में फेरबदल का प्रस्ताव उपराज्यपाल को भेजा है। मनीष सिसोदिया से सरकार का सबसे अहम राजस्व विभाग लेना स्पष्ट रूप से यह बताता है कि अब वे केजरीवाल के आंख का तारा नहीं रहे हैं। मुख्यमंत्री ने उपमुख्यमंत्री के साथ उभरते मतभेदों के कारण उनके कद को निश्चित तौर पर कम किया है और उनका विभाग एक अनुभवहीन मंत्री को सौंप दिया है। राजस्व विभाग सबसे अहम विभाग होता है, क्योंकि इसकी सफलता और सुशासन ही सरकार का आधार स्तंभ होती है।

नए राजस्व मंत्री कैलाश गहलोत को मंत्री बने हुए मात्र 2 महीने भी नहीं हुए हैं और उनको यह जिम्मेदारी सौंपना अपनेआप में ही आम आदमी पार्टी की राजनीतिक उथल-पुथल की ओर इशारा कर रहा है।विजेंद्र गुप्ता ने कहा कि मुख्यमंत्री केजरीवाल ने एक बार फिर अपने आप को किसी भी मंत्रालय और विभाग की जिम्मेदारी से मुक्त रखा है। इससे विपक्ष की आशंका सिद्ध हो गई है कि मुख्यमंत्री एक बार फिर अपनी जिम्मेदारी से भाग रहे हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री की रूचि दिल्ली में न होकर आम आदमी पार्टी के अन्य राज्यों के विस्तार में निहित है। उनकी राजनीतिक महत्वकांक्षा सारे भारत में फैल जाने की है। उनका सारा समय और ध्यान इस महत्वकांक्षा को साकार करने में लग जाता है। यह दिल्ली का दुर्भाग्य है कि उसे ऐसा मुख्यमंत्री मिला जिसका ध्यान अपने राज्य की तरफ कम और अन्य राज्यों की तरफ ज्यादा है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.