ताज़ा खबर
 

MCD चुनाव 2017: अरविंद केजरीवाल बोले- खराब नतीजें आए तो करूंगा आंदोलन

हम आंदोलन से आए थे। सत्ता का सुख भोगने नहीं आए थे। वापस आंदोलन का रास्ता तय करना पड़ेगा।

Author नई दिल्ली | April 26, 2017 12:36 PM
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (ANI Photo)

मुख्यमंत्री और आप के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को नगर निगम चुनाव के लिए तैनात पार्टी पर्यवेक्षकों की बैठक बुलाई। लगभग दो घंटे चली इस बैठक में पर्यवेक्षकों ने रविवार को संपन्न हुए निकाय चुनाव की रिपोर्ट सौंपी। पंजाब, गोवा और दिल्ली के राजौरी गार्डन विधानसभा चुनाव में पार्टी की हार के बाद निगम चुनाव के लिए आप ने युद्ध स्तर पर रणनीति तैयार की थी और अब पार्टी की नजर 26 अप्रैल को आने वाले परिणामों पर है।  रविवार को संपन्न हुए तीनों नगर निगमों के चुनाव और उसके बाद एक्जिट पोल में भाजपा को अच्छी खासी बढ़त की खबरों के बाद सोमवार को मुख्यमंत्री आवास पर बुलाई गई आप पर्यवेक्षकों की बैठक की काफी चर्चा रही और यह बात सामने आने लगी कि 26 अप्रैल को जो भी परिणाम आएगा, उसको लेकर पार्टी आगे की रणनीति तैयार कर रही है। इस बैठक का एक वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किया गया है। इस वीडियो में अरविंद केजरीवाल एक बार फिर ईवीएम पर सवाल खड़ा कर रहे हैं। नगर निगम चुनाव पर बोलते हुए अरविंद कहते हैं कि अगर इस तरह की नतीजे आए , जो इस तरह की बेमानी साबित करते हैं तो पंजाब में हुई है, उत्तर प्रदेश में हुई, मुंबई में हुई है तो हम आंदोलन से आए थे। सत्ता का सुख भोगने नहीं आए थे। वापस आंदोलन का रास्ता तय करना पड़ेगा।

 

 

हालांकि, दिल्ली आप के सचिव सौरभ भारद्वाज ने कहा कि यह चुनाव के बाद होने वाली रूटीन बैठक थी, जिसमें पार्टी पर्यवेक्षक अपनी रिपोर्ट सौंपते हैं। सौरभ भारद्वाज ने कहा, ‘नगर निगम चुनाव के दौरान सभी वार्डों के लिए चुनाव पर्यवेक्षक नियुक्त किए गए थे जिनका काम सभी बूथों पर जाकर कैसा माहौल है, वहां बूथ कार्यकर्ताओं ने मेजें लगा रखी हैं या नहीं इसकी रिपोर्ट तैयार करना था। साथ ही उनका काम पोलिंग एजेंस फॉर्म 17(सी) इकट्ठा करना था जिसमें कुल कितने वोट पड़े, कितनी महिलाओं और पुरूषों ने वोटिंग की यह ब्योरा होता है।’

 

MCD चुनाव नतीजे 2017: बीजेपी को मिल रही बड़ी जीत पर बोले बीजेपी नेता

MCD चुनाव 2017: एग्जिट पोल के मुताबिक बीजेपी की एकतरफा जीत, आप-कांग्रेस को 30 से भी कम सींटें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App