ताज़ा खबर
 

PM मोदी के भाषण से निराश चीफ जस्टिस ठाकुर ने कहा- डेढ़ घंटे बोले लेकिन जजों पर एक शब्‍द नहीं

चीफ जस्टिस ने कहा कि अंग्रेजों के जमाने में 10 साल में इंसाफ मिल जाता था लेकिन अब तो 100 साल भी कम है।

Author नई दिल्‍ली | August 15, 2016 15:58 pm

मुख्‍य न्‍यायाधीश टीएस ठाकुर ने लाल किले से दिए गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण पर निराशा जताई है। उन्‍होंने कहा कि वे उम्‍मीद कर रहे थे कि पीएम मोदी जजों की नियुक्ति को लेकर बोलेंगे लेकिन ऐसा नहीं हुआ। यह मामला सरकार के पास बकाया पड़ा है। ठाकुर ने कहा, ”मैंने पीएम का डेढ़ घंटे का भाषण सुना। मुझे उम्‍मीद थी कि वे जजों की नियुक्ति को लेकर बोलेंगे। लेकिन पीएम ने कुछ नहीं कहा। कितने सारे केस पेडिंग पड़े हैं। मैंने जजों की नियुक्ति को लेकर सरकार से लगातार बात की है।” चीफ जस्टिस ने स्‍वतंत्रता दिवस पर आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान यह बात कही। इस दौरान केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद भी मौजूद थे।

चीफ जस्टिस ने कहा कि अंग्रेजों के जमाने में 10 साल में इंसाफ मिल जाता था लेकिन अब तो 100 साल भी कम है। रविशंकर प्रसाद ने इस बारे में कहा, ”न्‍यायपालिका को लेकर हमारा कमिटमेंट पूरा है। हम इस प्रक्रिया को पूरा करने के अंतिम चरण में हैं।” उन्‍होंने कहा कि हम न्‍यायपालिका के साथ मिलकर काम करेंगे। गुड गवर्नेंस के लिए न्‍यायपालिका का मजबूत होना जरूरी है। न्‍यायपालिका में 4000 से ज्‍यादा वैकेंसी है जो कि चिंताजनक बात है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार जजों की नियुक्ति के लिए मेमोरेंडम ऑफ प्रोसीजर तैयार किया जा रहा है।

आन्ध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू का मोदी सरकार पर हमला- वादे निभाने में रहे हैं नाकाम

गौरतलब है कि जजों की नियुक्ति में ढिलाई पर सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार(12 अगस्‍त) को भी सरकार को फटकार लगाई थी। चीफ जस्टिस ठाकुर की अगुवाई वाली बैंच ने कहा था, ”जजों की नियुक्ति में रूकावट हम बर्दाश्‍त नहीं करेंगे। इससे न्‍यायिक कार्यों का गला घोंटा जा रहा है। अब हम जिम्‍मेदारी में तेजी लाएंगे। ऐसा अविश्‍वास क्‍यों? यदि यह रूकावट जारी रही तो हमें न्यायिक रूप से दखल देने को मजबूर होना पड़ेगा। हम कॉलेजियम की ओर से आपको भेजी गई सभी फाइलों की जानकारी लेंगे।”

जजों की कमी: मोदी सरकार पर बरसे चीफ जस्टिस- कोर्ट के काम का गला घोंटा जा रहा है

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App