ताज़ा खबर
 

CBSE ने 9वीं और 11वीं से किताब खोलकर परीक्षा देने का नियम हटाया

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसइ) ने कक्षा नौ और 11वीं में किताब खोलकर परीक्षा देने के नियम को लागू करने के दो साल बाद इस नियम को अब वापस ले लिया है।

Author नई दिल्ली | Updated: February 4, 2017 1:02 AM
CBSE 10th and 12th class exam start on today on Tuesday. Express Photo by Manoj Kumar. 01.03.2016. *** Local Caption *** CBSE 10th and 12th class exam start on today on Tuesday. Express Photo by Manoj Kumar. 01.03.2016.

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसइ) ने कक्षा नौ और 11वीं में किताब खोलकर परीक्षा देने के नियम को लागू करने के दो साल बाद इस नियम को अब वापस ले लिया है। बोर्ड ने कहा कि इस साल से छात्र परीक्षा केंद्र में किताबें लेकर नहीं जा सकेंगे। बोर्ड का मानना है कि इससे छात्रों की अहम क्षमताओं के विकास में बाधा आती है। बोर्ड अधिकारियों ने कहा कि केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने खुली किताब आधारित मूल्यांकन (ओटीबीए) को हटाने का फैसला किया है क्योंकि इस व्यवस्था को लेकर स्कूलों से नकारात्मक प्रतिक्रिया आ रही थी। बोर्ड के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि विभिन्न हितधारकों से चर्चा के आधार पर बोर्ड ने साल 2017-18 के सत्र से नौंवी और ग्यारहवीं की शिक्षा योजना से ओटीबीए योजना हटाने का फैसला किया है।

उन्होंने कहा कि हमें स्कूलों से फीडबैक मिल रहा था कि इस व्यवस्था से छात्रों के विकास और अहम क्षमताओं में बाधा आ रही है। साल 2014 में सीबीएसई ने ओटीबीए को कक्षा नौवीं में वार्षिक परीक्षा में हिंदी, अंग्रेजी, गणित, विज्ञान और सामाजिक विज्ञान के लिए लागू किया था जबकि ग्यारहवीं के कुछ विषयों जैसे अर्थशास्त्र, जीवविज्ञान और भूगोल की वार्षिक परीक्षा में भी ये व्यवस्था लागू थी। ओटीबीए में छात्रों को पाठ्य सामग्री चार महीने पहले ही उपलब्ध करा दी जाती थी और उन्हें मामले में अपने अध्ययन को परीक्षा में साथ ले जाने की इजाजत रहती थी। छात्रों को इस बात की छूट रहती थी कि परीक्षा में सवालों का उत्तर लिखते समय वो अपने नोट्स या किताबों की मदद ले सकते थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 दिल्ली हाई कोर्ट ने कहा, अटार्नी जनरल का पद नहीं आता है आरटीआई के दायरे में
2 16 दिसंबर निर्भया गैंगरेप: आरोपियों की सज़ा पर सुप्रीम कोर्ट करेगी फिर से सुनवाई
3 ‘आरएमएल अस्पताल ने जान बूझकर अहमद के बारे में जानकारी देने में देरी की’