ताज़ा खबर
 

बीजेपी की मांग- आतंकवाद और अलगाववाद पर रुख साफ करें केजरीवाल

पंजाब पुलिस की ओर से गिरफ्तार तीन आतंकवादियों में से एक गुरदयाल सिंह के अरविंद केजरीवाल से राजनीतिक रिश्ते होने के खुलासे के बाद भाजपा ने इसे बेहद संवेदनशील मुद्दा करार दिया है।

Author June 7, 2017 7:34 AM
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल। (File Photo)

पंजाब पुलिस की ओर से गिरफ्तार तीन आतंकवादियों में से एक गुरदयाल सिंह के अरविंद केजरीवाल से राजनीतिक रिश्ते होने के खुलासे के बाद भाजपा ने इसे बेहद संवेदनशील मुद्दा करार दिया है। दिल्ली भाजपा ने कहा कि पंजाब चुनाव प्रचार के दौरान भी अरविंद केजरीवाल के एक आतंकवादी के घर में रुकने के समाचार सामने आए थे। किसी भी मुख्यमंत्री पर बार-बार इस तरह के आरोप लगना चिंता का विषय है। इसकी उच्च स्तरीय जांच होनी चाहिए।  दिल्ली प्रदेश भाजपा के उपाध्यक्ष राजीव बब्बर और प्रवक्ता तजेंद्रपाल सिंह बग्गा ने मंगलवार को एक प्रेस कांफ्रेंस में मांग की कि कश्मीर व पंजाब में आतंकवाद और अलगाववाद में लिप्त तत्वों पर केजरीवाल अपना और पार्टी का रुख स्पष्ट करें। उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी की स्थापना से आज तक केजरीवाल ने आतंकवाद और अलगाववाद चुप्पी साधी है या उन तत्वों का समर्थन किया है।

राजीव बब्बर ने कहा कि जब उनके तत्कालीन सहयोगी प्रशांत भूषण ने कश्मीर में जनमत संग्रह की बात कही थी तब केजरीवाल ने चुप्पी साधी थी। बीते साल दिल्ली में जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में कश्मीर से जुड़ा अलगाववादियों का प्रदर्शन हुआ तो उसमें केजरीवाल ने अलगाववादियों को प्रत्यक्ष समर्थन दिया। पाकिस्तान पर सेना के सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल उठाकर उन्होंने पुन: राष्टÑविरोधी तत्वों का मनोबल बढ़ाया।  तजेंद्रपाल सिंह बग्गा ने कहा कि केजरीवाल ने राजनीति में शुरू से ही अलगाववाद को बढ़ावा दिया है। जहां उन्होंने खालिस्तान की मांग का खुला समर्थन करने वाले जरनैल सिंह को चुनाव लड़वाया वहीं उनकी 49 दिनों की सरकार में राष्टÑपति से आंतकवादी प्रोफेसर भुल्लड़ को रिहा करने की सिफारिश की।

HOT DEALS
  • Apple iPhone SE 32 GB Gold
    ₹ 19959 MRP ₹ 26000 -23%
    ₹0 Cashback
  • Jivi Energy E12 8 GB (White)
    ₹ 2799 MRP ₹ 4899 -43%
    ₹0 Cashback

.

जन

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App