ताज़ा खबर
 

अरविंद केजरीवाल ने बवाना जीत का श्रेय ढाई साल के काम को दिया

उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने वीवीपीएटी का मुद्दा भी उठाया और आप की जीत को इसके उपचुनाव में इस्तेमाल से भी जोड़ने की कोशिश की।

Author नई दिल्ली | August 29, 2017 3:23 AM
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल। (File Photo)

आम आदमी पार्टी (आप) ने बवाना उपचुनाव में मिली जीत को दिल्ली में आप सरकार के ढाई साल के कामकाज की स्वीकृति करार दिया है। चुनाव के नतीजे पर प्रतिक्रिया देते हुए उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने वीवीपीएटी का मुद्दा भी उठाया और आप की जीत को इसके उपचुनाव में इस्तेमाल से भी जोड़ने की कोशिश की। जीत पर प्रतिक्रिया देते हुए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट किया, ‘आम आदमी पार्टी की स्वच्छ राजनीति और पिछले ढाई वर्षों के कामों पर मुहर लगाने के लिए बवाना की जनता को दिल से शुक्रिया और बधाई’। उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा, ‘बवाना उपचुनाव में आप की शानदार जीत हुई है। इसके लिए बवाना की जनता को धन्यवाद देना चाहता हूं कि उन्होंने तोड़फोड़ की राजनीति का करारा जवाब दिया है। जनता ने बता दिया कि अगर कोई नेता धोखा देता है तो जनता सबक सिखाएगी। पिछले दो-ढाई साल में जो काम हुए हैं यह जीत उसकी स्वीकृति दी है’। मनीष सिसोदिया ने कहा कि आप आदमी पार्टी अपना और सरकार का काम लेकर जनता के बीच गई थी। इसके साथ ही उन्होंने वीवीपीएटी का भी जिक्र कर कहीं न कहीं जीत का श्रेय इसके इस्तेमाल को भी देने की कोशिश की।

सिसोदिया ने कहा कि नगर निगम चुनाव में वीवीपीएटी के उपलब्ध होने के बावजूद एक साजिश के तहत इसका इस्तेमाल नहीं किया गया। उन्होंने कहा कि वीवीपीएटी की लड़ाई जारी रहेगी।   वहीं स्वराज इंडिया के अध्यक्ष योगेंद्र यादव ने कहा कि भाजपा की जीत पर लगाम लगना संतोष का विषय है, लेकिन इस एक जीत से आम आदमी पार्टी को यह नहीं सोचना चाहिए कि वह अगले चुनाव में वापस आ रही है। यादव ने दावा किया कि आप के वोट बैंक में कटौती हुई है। आप के राष्ट्रीय संयोजक और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के भ्रष्टाचार को उजागर करके बवाना में आप को हराने की जिम्मेदारी खुद पर लेने वाले बागी आप विधायक और पूर्व मंत्री कपिल मिश्र ने केजरीवाल को बधाई देते हुए कहा कि मेरे प्रयासों में कमी रह गई। आपके घोटालों को घर-घर तक नहीं पहुंचा पाया। कपिल मिश्र ने यह भी कहा कि भ्रष्टाचार से जंग जारी रहेगी।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App