ताज़ा खबर
 

बसई दारापुर मामला : गुस्साए लोगों ने निकाला जुलूस, दोषियों को फांसी की मांग

बसई दारापुर गांव में किराएदारों का पुलिस सत्यापन नहीं करवाना भी एक बड़ी समस्या है। स्थानीय लोगों की मानें तो आरोपियों में से किसी का भी पुलिस सत्यापन नहीं कराया गया था।

Author May 17, 2019 2:55 AM
कुछ लोग इस मामले को सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश कर रहे हैं।

निर्भय कुमार पांडेय

मोती नगर थाना क्षेत्र के बसई दारापुर गांव में की गई धु्रवराज त्यागी की हत्या के बाद स्थानीय लोगों का गुस्सा शांत होने का नाम नहीं ले रहा है। घटना के बाद से इलाके में तनाव की स्थिति बनी हुई है। गुस्साए स्थानीय लोगों ने गुरुवार को इलाके में जुलूस निकाला और दोषियों को फांसी की सजा देने की मांग की। दिल्ली पुलिस ने एहतियातन पुलिसकर्मियों के अलावा अर्द्धसैनिक बल के जवानों को भी बसई दारापुर गांव में तैनात किया है, ताकि इलाके का माहौल ना बिगड़े। पश्चिमी जिला पुलिस उपायुक्त मोनिका भारद्वाज भी मौके पर स्थिति का जायजा लेते हुए दिखीं। दोपहर तीन बजे के बाद गुस्साए स्थानीय लोगों ने दोषियों के खिलाफ जल्द से जल्द कार्रवाई की मांग। इसके लिए मोती नगर चौराहे को जाम कर दिया गया था। साथ ही गुस्साए लोगों ने जमकर नारेबाजी की।

वहीं, परिजनों का कहना है कि कुछ लोग इस मामले को सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन परिजन चाहते हैं कि इलाके की स्थिति ना बिगड़े और कोई ऐसी घटना ना घटे। इस कारण अन्य लोगों को किसी तरह की क्षति ना हो। धु्रवराज त्यागी के भाई तापेश्वर त्यागी ने कहा कि विभिन्न संगठन से जुड़े कुए कुछ लोग उनसे मिलने के लिए आए थे, जो इलाके का माहौल बिगाड़ने की कोशिश कर रहे थे। उन्हें ऐसा करने से रोका गया। वहीं, दोपहर करीब दो बजे डासना, गाजियाबाद से एक महंत आए थे, जो लोगों को भड़काने की कोशिश कर रहे थे।

तापेश्वर ने मोर्चा संभाला और महंत से गुजारिश की कि वह परिजनों को सांत्वना दें और अपनी बात कहें। कोई भी ऐसी बात नहीं कहें, जिससे इलाके के लोग उग्र हों और माहौल खराब हो। वहीं, बसई दारापुर गांव के त्यागी धर्मशाला में एक शोक सभा का आयोजन किया गया, जिसमें दिल्ली-एनसीआर के विभिन्न गांव से आए त्यागी समाज के लोग शामिल हुए। इस दौरान कई लोगों ने परिवार को आर्थिक मदद करने का आश्वासन दिया। इस संबंध में धु्रव के भाई तापेश्वर ने बताया कि भले ही लोगों ने मंच से आर्थिक मदद देने का आश्वासन दिया हो, लेकिन किसी ने अभी तक पीड़ित परिवार को एक रुपए की मदद नहीं की है। उन्होंने कहा कि बुधवार को वह केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मिले थे। उन्होंने धु्रवराज के बेटे को पढ़ाई पूरी होने के बाद नौकरी दिलवाने का आश्वासन दिया है।

किराएदारों का पुलिस सत्यापन नहीं करना भी बना जानलेवा

बसई दारापुर गांव में किराएदारों का पुलिस सत्यापन नहीं करवाना भी एक बड़ी समस्या है। स्थानीय लोगों की मानें तो आरोपियों में से किसी का भी पुलिस सत्यापन नहीं कराया गया था। मुख्य आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज होने की बात भी सामने आई है। वहीं, पुलिस का कहना है कि फिलहाल जांच का विषय है। जांच पूरी होने के बाद ही इस मामले में कुछ कहा जा सकता है। स्थानीय निवासी कृष्णा शर्मा ने बताया कि आरोपी ने होली के दौरान भी एक युवती पर गुब्बारा फेंका था। होली का दिन होने की वजह से किसी ने विरोध नहीं किया। आरोपी पहले भी गली के नुक्कड़ पर खड़े होकर एक-दो महिलाओं के साथ बदसलूकी कर चुका था। हर बार लोग नजरअंदाज करते रहे और आरोपी का हौसला बढ़ता रहा। ध्रुवराज त्यागी ने जब इसका विरोध किया तो उन्हें जान से हाथ धोना पड़ा।

ध्रुवराज त्यागी की बहन सीमा त्यागी का आरोप है कि इलाके में पुलिस गश्त नहीं होती। साथ ही नुक्कड़ पर खड़े होकर लोग आते-जाते महिलाओं और लड़कियों को घुरते रहते हैं। विरोध करने पर हाथापाई पर उतारू हो जाते हैं। हालांकि, इस बारे में स्थानीय लोगों का कहना है कि अधिकतर लड़के किराएदार हैं। पर कुछ स्थानीय लड़के भी उनके साथ होते हैं। इस कारण उन्हें यह हौसला मिलता है। आरोपियों ने जिस घर के सामने वारदात को अंजाम दिया था। वह घर भी उसी समुदाय के व्यक्ति का है, जिस समुदाय के आरोपी हैं। मकान मालिक के बेटे ने बचाने की भी कोशिश की थी। पर आरोपियों ने किसी की नहीं सुनी।

पुलिस भी जिम्मेदार
पीड़ित परिजनों का कहना है कि इस मामले के बाद पुलिस ने तुरंत कार्रवाई करते हुए इस मामले में दो महिलाओं समेत चार लोगों को पकड़ा है, जिसमें एक नाबालिग भी शामिल है। मुख्य आरोपी समेत दो महिलाओं को गिरफ्तार भी कर लिया है। पर इलाके में नाममात्र की गश्त होती है। साथ ही किरादारों के सत्यापन को लेकर पुलिस परेशान करती है। यही कारण है कि लोग बिना सत्यापन करवाए किराएदारों को रख लेते हैं। सत्यापन करवाने के लिए थानों के कई चक्कर लगाने पड़ते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App