ताज़ा खबर
 

अश्विनी चौबे ने कहा, राहुल की बातें विक्षिप्तों जैसी

केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता अश्विनी चौबे ने शुक्रवार को कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी जिस तरीके से प्रधानमंत्री की आलोचना में मर्यादा भूल रहे हैं, उस तरह का आचरण कोई विक्षिप्त मानसिकता वाला व्यक्ति ही कर सकता है।

Author नई दिल्ली, 1 सितंबर। | September 2, 2018 4:42 AM
चौबे के बयान पर कांग्रेस के अलावा राजद ने भी तीखी प्रतिक्रिया जताई।

केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता अश्विनी चौबे ने शुक्रवार को कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी जिस तरीके से प्रधानमंत्री की आलोचना में मर्यादा भूल रहे हैं, उस तरह का आचरण कोई विक्षिप्त मानसिकता वाला व्यक्ति ही कर सकता है। ‘जनसत्ता’ से बातचीत में उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के बारे में गैरजिम्मेदाराना बातें कर कांग्रेस अध्यक्ष खुद ही भारत को कांग्रेस मुक्त बना रहे हैं। मीडिया में उनके हवाले से चल रही खबरों को लेकर चौबे ने कहा कि उन्होंने किसी तरह के अपशब्दों का प्रयोग नहीं किया और न ही कोई असंसदीय बात कही।

अश्विनी चौबे के मुताबिक, ‘राहुल गांधी अपनी बात नहीं रख पा रहे हैं तो प्रधानमंत्री के बारे में उल्टे-सीधे बयान दे रहे हैं। प्रधानमंत्री का आकार गगन की तरह है और कांग्रेस अध्यक्ष प्रधानमंत्री का अपमान कर रहे हैं।’ उन्होंने कहा कि सासाराम में एक कार्यक्रम के दौरान कुछ मीडियाकर्मियों ने उनसे राहुल गांधी के बयानों पर टिप्पणी मांगी थी और उन्होंने अपनी बात रखी। हालांकि, कुछ टेलीविजन चैनलों और समाचार एजंसियों पर जारी की गई खबरों के मुताबिक, केंद्रीय मंत्री ने अपने विवादास्पद बयान में कहा कि कांग्रेस अघ्यक्ष राहुल गांधी ‘सीजोफ्रेनिया जैसी दिमागी बीमारी’ से पीड़ित हैं और प्रधानमंत्री के सामने वह ‘नाली के कीड़े’ से ज्यादा कुछ भी नहीं हैं। उनके इस बयान को लेकर आक्रोशित कांग्रेस ने कहा कि राहुल गांधी मानसरोवर की यात्रा पर गए हैं, ऐसे में उनका अपमान करके भाजपा ने हिंदू परंपराओं के प्रति अपने झूठे सम्मान को उजागर कर दिया।

चौबे के बयान पर कांग्रेस के अलावा राजद ने भी तीखी प्रतिक्रिया जताई। हालांकि केंद्रीय मंत्री ने जनसत्ता के संपर्क करने पर अपनी बातचीत में किसी तरह की असभ्य बात कहने से इनकार किया। उन्होंने कहा कि मैंने इतना भर कहा कि प्रधानमंत्री का कद गगन की तरह है और राहुल गांधी उनका हर कदम पर अपमान कर रहे हैं। राहुल गांधी को संसदीय मर्यादा का पालन करना चाहिए और हम भी यह कर रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App