ताज़ा खबर
 

गुमशुदा नजीब की याद दिलाने संसद तक किया मार्च

प्रदर्शन इसलिए भी अलग दिखा कि इसमें ‘लाल-लाल’ के साथ ‘चांद-तारे’ के झंडे भी लहराए। असादुद्नीन ओवैसी की आॅल इंडिया मजलिस ए इत्तेहदुल मुसलिमीन भी इसमें शामिल हुई।
Author नई दिल्ली | December 15, 2016 04:50 am
एआईएमआईएम अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ।

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) प्रशासन और छात्र एक बार फिर आमने-सामने हैं। छात्रसंघ के भारी विरोध और अखबारों में छपी खबर के बाद हालांकि जेएनयू में संवाद-स्थल के रूप में पहचान बनी रहीं लाल रंगों वाली ‘लंबी सीढ़ियों’ पर रखे गमलों को हटा दिया गया। लेकिन छात्र नेता इसे अस्थायी कदम मान रहे हैं। वे प्रशासनिक भवन के पास मौजूद ‘फ्रीडम स्क्वायर’ में लगाइ गई स्थायी सलाखों को हटाने की मांग कर रहे हैं जिसे प्रशासन मे ठुकरा दिया है। इसके बाद जेएनयू के वाम गुट के छात्रों ने नजीब अहमद के मुद्दे पर प्रशासन को घेरने की कोशिश की। बुधवार को वे परिसर से बाहर निकल मंडी हाउस पर जुटे और फिर संसद मार्ग पहुंच,अपनी बात रखी। उन्होंने नजीब को ढूंढ पाने में तंत्र को विफल बताया।

अब तक के प्रदर्शनों से बुधवार का प्रदर्शन इसलिए भी अलग दिखा कि इसमें ‘लाल-लाल’ के साथ ‘चांद-तारे’ के झंडे भी लहराए। असादुद्नीन ओवैसी की आॅल इंडिया मजलिस ए इत्तेहदुल मुसलिमीन भी इसमें शामिल हुई। ओवैसी ने कहा कि वे नहीं समझ पा रहे हैं कि कौम के इस बच्चे को सरकारी अमला क्यों नहीं ढूंढ़ पा रहा है। दो महीने से छात्र गायब है और पुलिस केवल इनाम बढ़ाने की रस्म अदायगी कर रही है। जेएनयू के छात्रों ने कहा कि मंगलवार देर रात तक विश्वविद्यालय प्रशासन के सामने विरोध दर्ज कराया गया। बुधवार को वे संसद मार्ग पर हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि विश्वविद्यालय प्रशासन अपनी स्वायत्तता खो चुका है। वह पूरी तरह सरकार के एजंडे को लागू कर रहा है। प्रदर्शनकारी छात्रों ने कहा, ‘हमारे विश्वविद्यालय में संघी प्रशासन की यह स्थिति है। कैंपस आइए और देखिए! पहले जो जगह यहां विरोध-प्रदर्शनों के लिए अहम हुआ करती थी, वहां लोहे की सलाखें लगा दी गई हैं। प्रदर्शन के लिए जगह नहीं देने और नजीब मामले में न्याय नहीं मिलने को लेकर संसद के सामने प्रदर्शन वाला कदम उठाया गया है। संसद मार्ग पर एबीवीपी के लोग नहीं थे। हालांकि वे भी प्रशासनिक भवन के पास मौजूद ‘फ्रीडम स्क्वायर’ में लगाइ गई स्थायी सलाखों का विरोध कर रहे हैं। लेकिन उनकी टीम में मुखरता कम है।

 

राहुल गांधी का पीएम मोदी पर आरोप- चर्चा से भाग रहे हैं; नोटबंदी को बताया सबसे बड़ा घोटाला

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.