ताज़ा खबर
 

दिल्ली के सीएम के खिलाफ हाई कोर्ट में याचिका, केजरीवाल ने पीएम मोदी से ‘हाथ जोड़कर’ लगाई यह गुहार

अरविंद केजरीवाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक चिट्ठी लिखी है और हाथ जोड़कर निवेदन किया है कि यह हड़ताल आप या फिर एलजी ही खत्म करवा सकते हैं और चूकि उपराज्यपाल यह हड़ताल नहीं खत्म करवा रहे हैं, लिहाजा आप इस हड़ताल को तुरंत खत्म करवाएं ताकि दिल्ली में काम फिर से शुरू हो सके।

उपराज्यपाल के घर वेटिंग रुम में धरना पर बैठे सीएम एवं उनके कैबिनेट सहयोगी। फोटो सोर्स- ट्विटर

दिल्ली के मुख्यमंत्री अपने कुछ कैबिनेट सहयोगियों के साथ पिछले चार दिनों से उपराज्यपाल अनिल बैजल के घर धरने पर डटे हुए हैं। जिसकी वजह से दिल्ली में सरकारी कामकाज प्रभावित है। इधर अब हाईकोर्ट में दिल्ली सरकार के खिलाफ एक याचिका दायर की गई है। इस याचिका में कहा है कि दिल्ली के सीएम और उनके कैबिनेट सहयोगी अपनी संवैधानिक कर्तव्यों और जिम्मेदारियों को पालन नहीं कर रहे हैं जिसकी वजह से दिल्ली में इस समय गंभीर संवैधानिक संकट खड़ा हो गया है। याचिका में इस मामले पर जल्दी सुनवाई की मांग भी की गई है।

इधर दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक चिट्ठी लिखी है और हाथ जोड़कर निवेदन किया है कि यह हड़ताल आप या फिर एलजी ही खत्म करवा सकते हैं और चूकि उपराज्यपाल यह हड़ताल नहीं खत्म करवा रहे हैं, लिहाजा आप इस हड़ताल को तुरंत खत्म करवाएं ताकि दिल्ली में काम फिर से शुरू हो सके। पीएम को लिखे ख़त में दिल्ली के सीएम ने कहा है कि ‘पिछले तीन महीनों से दिल्ली के आईएएस अफसर हड़ताल पर हैं। उन्होंने मंत्रियों की सभी बैठकों में आना बंद कर दिया है। अफसरों की हड़ताल की वजह से दिल्ली के कई काम प्रभावित हो रहे हैं।

अपनी चिट्ठी में केजरीवाल ने लिखा है कि भारत के इतिहास में आईएएस अफसरों की यह पहली हड़ताल है। अगर ये अधिकारी दिल्ली सरकार के अधीन होते तो इनकी हड़ताल 24 घंटों में ही खत्म हो गई होती। इनपर सारा नियंत्रण एलजी और केंद्र सरकार का है, और बार-बार गुहार लगाने के बावजूद एलजी साहब इनकी हड़ताल खत्म नहीं करवा रहे हैं। इसलिए हाथ जोड़कर निवेदन है कि आप तुरंत इस हड़ताल को खत्म करवाएं’।

केजरीवाल ने अपनी चिट्टी में सिलसिलेवार इस बात का भी जिक्र किया है कि इस हड़ताल की वजह से दिल्ली में कौन-कौन से काम बाधित हो रहे हैं। बहरहाल दिल्ली में एलजी और सीएम के बीच इस टकराव की वजह से सरकारी कामकाज ठप पड़े हैं और दिल्ली के लोगों को कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। इस वक्त दिल्ली में प्रदूषण का लेवल भी अचानक काफी बढ़ गया है। इस चिट्ठी में यह भी कहा गया है कि पहले हर 15 दिनों में प्रदूषण की समीक्षा के लिए बैठक होती थी, लेकिन आईएएस अफसरों की हड़ताल की वजह से पिछले 3 महीनों से यह बैठक नहीं हुई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App