ताज़ा खबर
 

अरुण जेटली ने अरविंद केजरीवाल पर ठोका 10 करोड़ रुपये की मानहानि का दूसरा मुकदमा, जेठमलानी ने कोर्ट में कहा था धूर्त

हाईकोर्ट ने दोनों पक्षों की बहस पर नाराजगी जताते हुए कहा था कि कोर्ट में इस तरह की हरकत नहीं होनी चाहिए। सभी दलीलें कानून के दायरे में रखी जानी चाहए।

Author Updated: May 22, 2017 12:21 PM
अरुण जेटली (बाएं) ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल एवं अन्य पांच आप नेताओं पर मानहानि का मुकदमा दायर किया है।

मानहानि केस में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल बुरी तरह फंस गए हैं। दरअसल, पिछले एक साल से अरुण जेटली द्वारा दाखिल किए गए मानहानि के मुकदमे के बाद इसी मामले में जेटली ने एक और मानहानि का केस दाखिल कर दिया है। अरुण जेटली ने मानहानि मामले में नया केस केजरीवाल के वकील रामजेठमलानी द्वारा की गई टिप्पणी के बाद दर्ज कराया है। इस मानहानि केस में जेटली ने 10 करोड़ रुपये की मांग की है।

बता दें कि गुरुवार को केस की सुनवाई के दौरान जेठमलानी ने जेटली को बदमाश कह दिया था। इस शब्द से जेटली गुस्से में आ गए और दोनों पक्षों के बीच तीखी बहस हुई। जिसके बाद कोर्ट को सुनवाई भी स्थगित करनी पड़ी। सफाई में जेठमलानी ने कहा कि उन्होंने अपने मुवक्किल केजरीवाल के कहने पर इस शब्द का इस्तेमाल किया था।

हाईकोर्ट ने दोनों पक्षों की बहस पर नाराजगी जताते हुए कहा था कि कोर्ट में इस तरह की हरकत नहीं होनी चाहिए। सभी दलीलें कानून के दायरे में रखी जानी चाहए। इस प्रकार की टिप्पणियों से मानहानि करने वाले व्यक्ति को और अधिक अपमान का सामना करना पड़ता है। कोर्ट ने कहा कि अगर ऐसी टिप्पणियां दुष्कर्म के मामले में होने लगे तो पीड़िता का बार-बार बलात्कार अदालत में ही होगा।

कोर्ट ने जेटली के वकील से कहा कि अगर यह टिप्पणी केजरीवाल की ओर से किया गया है तो उन्हें यह कोर्ट में साबित करना होगा, नहीं तो इसे आगे बढ़ाने का कोई फायदा नहीं।

जेटली ने दिसंबर 2015 में अरविंद केजरीवाल, राघव चड्ढ़ा सहित छह आप नेताओं पर मानहानि का केस किया था। आप नेताओं ने जेटली पर आरोप लगाया था कि जेटली ने दिल्‍ली जिला क्रिकेट एसोसिएशन के अध्‍यक्ष के 13 साल के कार्यकाल में कई वित्‍तीय गड़बडि़यां कीं। इस पर जेटली ने सबूत पेश करने को कहा था। बाद में जेठमलानी ने कोर्ट में जेटली से सवाल जवाब भी किए थे। जेठमलानी ने जेटली से सवाल पूछा कि, ‘वो इस बात को समझाएं कि कैसे उनके सम्मान को पहुंचे चोट की भरपाई नहीं हो सकती और ये नुकसान मापे जाने योग्य नहीं है।’

देखिए वीडियो - वरिष्ठ वकील राम जेठमलानी के लिए केजरीवाल गरीब क्लाइंट की तरह; कहा- "फीस नहीं दे पाए तो मुफ्त में लड़ूंगा मुकदमा"

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 केजरीवाल की सफाई पर कपिल मिश्रा का पलटवार- “जेल में तो दाऊद और कलमाड़ी भी नहीं, क्या वो भी अपराधी नहीं?”
2 दिल्ली मेरी दिल्ली- आरोपों की जवाबदेही, मेट्रो की अक्लमंदी
3 तेजाब हमला पीड़ितों को भी दाखिले में मिलेगा आरक्षण