army officers initiated to tribute lt. umer faiyaz let light candle and nation prove we love and respect him - सैन्‍य अफसरों की मुहिम, मत करें सरकारी पहल की उम्‍मीद, शहीद उमर के ल‍िए जलाएं मोमबत्‍ती - Jansatta
ताज़ा खबर
 

सैन्‍य अफसरों की मुहिम, मत करें सरकारी पहल की उम्‍मीद, शहीद उमर के ल‍िए जलाएं मोमबत्‍ती

उसके अपने कश्मीरी भाई उसके परिवार को परेशान करते हैं और पिछली हिंसा में उनके घर पर पत्थर भी फेंके थे।

Author नई दिल्ली | May 12, 2017 1:43 PM
हम उमर को वो श्रद्धांजली देंगे जिसका वो हकदार है।

आतंकियों द्वारा मारे गए सेना के अधिकारी लेफ्टिनेंट उमर फैयाज़ के शहीद होने के बाद सैन्य अधिकारियों ने कहा कि हमें सरकारी पहल की उम्मीद नहीं करनी चाहिए, सभी को आगे बढ़कर शहीद उमर के लिए मोमबत्ती जलाकर उन्हें श्रद्धांजली देनी चाहिए। कुछ सैन्य अधिकारी व्हाट्सअप के जरिए लोगों तक संदेश पहुंचा रहे कि हमें बिना सरकारी प्रयासों के शहीद उमर फैयाज़ को श्रद्धांजली देनी चाहिए। एक अधिकारी ने कहा कि हमने बस एक संदेश भेजा ही था कि वह संदेश सभी जगहों पर वायरल हो गया है। हम अपने साथी की शहादत को जाया नहीं जाने देंगे। हम सभी उसको बहुत प्यार और उसका सम्मान करते हैं।

वायरल हो रहे इस संदेश में लिखा है कि क्या हम उमर के लिए कुछ कर सकते हैं? आइए हम सब मिलकर उमर के लिए कुछ करते हैं। देश को दिखाते हैं कि हम कैसे उमर को श्रद्धांजली दे रहे हैं। क्यों न शनिवार या रविवार को इंडिया गेट पर मोमबत्ती जलाकर कुछ समय वहां बिताएं और उमर को याद करें। सैन्य अधिकारी और कुछ उमर के दोस्त इस मुहिम को आगे बढ़ा रहा हैं। हम उमर को वो श्रद्धांजली देंगे जिसका वो हकदार है। उसे उसी के कश्मीरी आतंकी भाई ने मार दिया। उसके अपने कश्मीरी भाई उसके परिवार को परेशान करते हैं और पिछली हिंसा में उनके घर पर पत्थर भी फेंके थे।

उमर का परिवार किस सदमें से गुजर रहा होगा यह हम समझ सकते हैं, इसलिए उमर के परिवार के साथ हमें खड़े होना होगा। इस संदेश में उमर को श्रद्धांजली देने के लिए दूसरी सेंट्रल जगहों को चूना गया, जहां पर लोगों से शनिवार और रविवार को इकट्ठा होकर उमर को श्रद्धांजली देने की बात कही गई। संदेश में आगे लिखा उमर हमारा प्यार और सम्मान का अधिकार रखता है। यह कदम वन रेंक वन पेंशन से अच्छा है। निर्भया रेप कांड में जैसा प्रदर्शन पूरे देश ने किया था। इस बार भी वैसे ही प्रदर्शन करने की जरुरत है। आओ साबित करते हैं कि हमारे दिल में हमारे शहीदों के लिए कितना प्यार और सम्मान है। आखिर में इस संदेश में लिखा है कि इस संदेश को जितना हो सके उतना आगे बढ़ाओ और लोगों को इस मुहिम से जुड़ने के लिए कहो ताकि हम हमारे शहीदों को श्रद्धांजली दे सकें।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App