ताज़ा खबर
 

संस्कृति मंत्री शर्मा को मिला कलाम का बंगला, आप ने की आलोचना

केंद्रीय संस्कृति मंत्री महेश शर्मा को यहां वह बंगला आबंटित किया गया है जिसमें पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम रहते थे। आम आदमी पार्टी ने सरकार के इस कदम की कड़ी आलोचना...

Author नई दिल्ली | October 29, 2015 1:13 AM

केंद्रीय पर्यटन व संस्कृति मंत्री महेश शर्मा को यहां वह बंगला आबंटित किया गया है जिसमें पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम रहते थे। आम आदमी पार्टी ने सरकार के इस कदम की कड़ी आलोचना की और कहा कि केंद्र ने इस बंगले को ज्ञान केंद्र का रूप न देकर पूर्व राष्ट्रपति का अपमान किया है। कलाम 2007 में राष्ट्रपति पद का अपना कार्यकाल समाप्त होने के बाद से 10, राजाजी मार्ग में रह रहे थे।

शर्मा ने पत्रकारों से कहा कि शहरी विकास मंत्रालय ने मुझे 10, राजाजी मार्ग आबंटित किया है। मैंने इस प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया है। शर्मा फिलहाल नोएडा के सेक्टर-15 में अपने निजी मकान में रह रहे हैं। दस राजाजी मार्ग को स्मारक का रूप देने के कलाम के समर्थकों और चाहने वालों की मांग के बारे में शर्मा ने कहा कि लुटियन दिल्ली स्थित सरकारी बंगलों को स्मारक का रूप नहीं देने की सरकार की नीति है। राष्ट्रीय लोक दल के नेता अजीत सिंह ने भी अपने पिता चरण सिंह के तुगलक रोड स्थित निवास को स्मारक घोषित करने की मांग की थी, जिसे सरकार ने स्वीकार नहीं किया था।

पूर्व राष्ट्रपति के बंगले को 31 अक्तूबर तक खाली कर दिया जाएगा और उनके सामान को जिनमें ढेर सारी किताबें और उनकी वीणा शामिल है, उनके गृह नगर रामेश्वरम ले जाया जाएगा। कलाम के निवास को स्मारक का रूप नहीं देने के लिए केंद्र सरकार की आलोचना करते हुए आम आदमी पार्टी के मंत्री कपिल मिश्रा ने कहा कि कलाम के कार्यों को रामेश्वरम तक सीमित करना और उनके सभी दस्तावेजों, किताबों और यहां तक कि उनकी वीणा को रामेश्वरम भेज देना अपमानजनक है। उनके निवास को खाली नहीं किया जाना चाहिए बल्कि, इस महान व्यक्तित्व की याद में उसे ‘ज्ञान केंद्र’ के रूप में तब्दील किया जाना चाहिए।

दिल्ली सरकार के पर्यटन व संस्कृति मंत्री ने यह भी कहा कि अगर कलाम का स्मारक बनाने के लिए केंद्र सरकार के पास संसाधन और स्थान नहीं है तो उनका सभी सामान दिल्ली सरकार को सौंप दे। दिल्ली में कलाम का एक स्मारक होना चाहिए। वे हम सभी के थे। उनका स्मारक दिल्ली और रामेश्वरम दोनों जगहों पर होना चाहिए।

बकौल शर्मा करीब ग्यारह महीने के बाद उन्हें सरकारी मकान मिल रहा है। इससे पहले उन्हे सात त्यागराज मार्ग बंगला आबंटित किया गया था, लेकिन वे वहां नहीं जा सके क्योंकि इसमें जो पहले से रह रहे थे उन्होंने इसे खाली नहीं किया।

लगातार ब्रेकिंग न्‍यूज, अपडेट्स, एनालिसिस, ब्‍लॉग पढ़ने के लिए आप हमारा फेसबुक पेज लाइक करेंगूगल प्लस पर हमसे जुड़ें  और ट्विटर पर भी हमें फॉलो करें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App