ताज़ा खबर
 

कोरोनाः 24 घंटे में देश में 96,982 नए केस, दिल्ली में 30 अप्रैल तक नाइट कर्फ्यू

दिल्ली में रात 10 बजे से सुबह के 5 बजे तक कर्फ्यू लगाया जाएगा। यह नाइट कर्फ्यू 30 अप्रैल तक जारी रहेगा। देशभर में तेजी से बढ़ते कोरोना के मामलों के बीच यह फैसला किया गया है।

corona virus, covid 19नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर कोविड टेस्ट कराती महिला। फोटो- पीटीआई

देशभर कोरोना के केस तेजी से बढ़ रहे हैं। मंगलवार को एक ही दिन में 96 हजार से ज्यादा नए मामले सामने आए। राजधानी दिल्ली में कोविड के मामलों में इजाफे को देखते हुए 30 अप्रैल तक नाइट कर्फ्यू लगाने का फैसला किया गया है। रात में 10 बजे से सुबह 5 बजे तक कर्फ्यू लगाया जाएगा। नाइट कर्फ्यू के वक्त केवल जरूरी सेवाओं या फिर इमर्जेंसी में आने-जाने वालों को ही छूट होगी। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल बार-बार कह चुके हैं कि लॉकडाउन कोई हल नहीं है। हालांकि दिल्ली का पॉजिटिविटी रेट जब 5 फीसदी से ज्यादा हो गया तो यह फैसला करना पड़ा।

सरकार ने एक लिस्ट जारी करके बताया है कि नाइट कर्फ्यू के दौरान किसे छूट दी जाएगी। ऐसी श्रेणी भी बनाई गई है जिसके तहत लोगों को ई पास लेने होंगे। अगर किसी अधिकारी को बाहर निकलना पड़े तो उसे आई कार्ड दिखाना होगा। राज्य में प्रवेश या यहां से बाहर जाने के लिए किसी तरह के पास की जरूरत नहीं होगी।

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से मंगलवार सुबह आठ बजे जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार, पिछले 24 घंटे में 446 और मरीजों की मौत के बाद मृतक संख्या बढ़कर 1,65,547 हो गई। भारत में सोमवार को अभी तक के सबसे ज्यादा 1,03,558 नए मामले सामने आए थे। आंकड़ों के अनुसार, देश में लगातार 27 दिनों से नए मामलों में बढ़ोतरी के साथ ही उपचाराधीन मामलों की संख्या भी बढ़कर 7,88,223 हो गई, जो कुल मामलों का 6.21 प्रतिशत है।

देश में 12 फरवरी को सबसे कम 1,35,926 उपचाराधीन मामले थे, जो उस समय के कुल मामलों का 1.25 प्रतिशत थे।,आंकड़ों के अनुसार, देश में 1,17,32,279, लोग अभी तक संक्रमण मुक्त हो चुके हैं। हालांकि मरीजों के ठीक होने की राष्ट्रीय दर में गिरावट आई है और वह अब 92.48 प्रतिशत है। वहीं, कोविड-19 से मृत्यु दर 1.30 प्रतिशत है।

देश में पिछले साल सात अगस्त को संक्रमितों की संख्या 20 लाख, 23 अगस्त को 30 लाख और पांच सितम्बर को 40 लाख से अधिक हो गई थी। वहीं, संक्रमण के कुल मामले 16 सितम्बर को 50 लाख, 28 सितम्बर को 60 लाख, 11 अक्टूबर को 70 लाख, 29 अक्टूबर को 80 लाख, 20 नवम्बर को 90 लाख रहे और 19 दिसम्बर को ये मामले एक करोड़ के पार चले गए थे।

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के अनुसार, देश में पांच अप्रैल तक 25,02,31,269 नमूनों की कोविड-19 संबंधी जांच की गई। इनमें से 12,11,612 नमूनों की जांच सोमवार को की गई थी। आंकड़ों के अनुसार, देश में पिछले 24 घंटे में जिन 446 लोगों की मौत वायरस से हुई, उनमें से महाराष्ट्र के 155, पंजाब के 72, छत्तीसगढ़ के 44, कर्नाटक के 32, दिल्ली, गुजरात तथा मध्य प्रदेश के 15-15, उत्तर प्रदेश के 13, केरल तथा राजस्थान के 12-12, तमिलनाडु के 11 और झारखंड के 10 लोग थे।

मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, देश में वायरस से अभी तक कुल 1,65,547 लोगों की मौत हुई है, जिनमें से महाराष्ट्र के 56,033, तमिलनाडु के 12,789, कर्नाटक के 12,657, दिल्ली के 11,096, पश्चिम बंगाल के 10,348, उत्तर प्रदेश के 8,894, आंध्र प्रदेश के 7,244 और पंजाब के 7,155 लोग थे। स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि अभी तक जिन लोगों की मौत हुई है, उनमें से 70 प्रतिशत से ज्यादा मरीजों को अन्य बीमारियां भी थीं। मंत्रालय ने अपनी वेबसाइट पर बताया कि उसके आंकड़ों का आईसीएमआर के आंकड़ों के साथ मिलान किया जा रहा है।

(भाषा से इनपुट्स के साथ)

Next Stories
1 इशारे को समझें
ये पढ़ा क्या?
X