ताज़ा खबर
 

स्थापना दिवस पर आप ने की जलसे की तैयारी, पर अब तक कुमार विश्वास को नहीं भेजा निमंत्रण

सूबे में सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी (आप) के स्थापना दिवस के जलसे पर पार्टी के आला नेताओं के बीच जारी तल्खी के हावी रहने के संकेत हैं।
Author नई दिल्ली | November 23, 2017 01:30 am
आप नेता कुमार विश्वास (फोटो-पीटीआई)

सूबे में सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी (आप) के स्थापना दिवस के जलसे पर पार्टी के आला नेताओं के बीच जारी तल्खी के हावी रहने के संकेत हैं। पार्टी ने अपनी सभी राज्य इकाइयों को इस समारोह में शामिल होने का निमंत्रण भेजा है, लेकिन कुमार विश्वास सरीखे पार्टी के संस्थापकों में से एक और राजस्थान के प्रभारी को अभी तक इस जलसे को लेकर कोई सूचना नहीं भेजी है। दूसरी ओर पार्टी की स्थापना करने वाले करीब आधा दर्जन अन्य प्रमुख नेता पहले ही पार्टी से बाहर हो चुके हैं। 26 नवंबर को आप की स्थापना के पांच साल पूरे होने के उपलक्ष्य में दिल्ली के ऐतिहासिक रामलीला मैदान में जोरदार जलसे की तैयारी शुरू कर दी गई है। पार्टी ने क्रांति के पांच साल का नारा देकर इस समारोह को लेकर सोशल मीडिया पर भी जोरदार अभियान छेड़ा है। पार्टी सूत्रों का कहना है कि सभी प्रदेश इकाइयों को इस कार्यक्रम में शामिल होने की सूचना भेज दी गई है। पार्टी पदाधिकारियों के अलावा सांसद, विधायक और पार्षद भी इस मौके पर उपस्थित रहेंगे। उन्होंने बताया कि तमाम नेताओं को स्पष्ट ताकीद कर दी गई है कि वे अपने खर्चे से कार्यक्रम में पहुंचें।

कुमार विश्वास आम आदमी पार्टी के संस्थापकों में तो शुमार हैं ही, पार्टी की राजस्थान इकाई के प्रभारी भी हैं। जाहिर तौर पर पार्टी की ओर से सूचना उनको भी भेजी जानी चाहिए, लेकिन अब तक उन्हें ऐसा कोई बुलावा नहीं आया है। उनके करीबी लोगों की मानें तो आने वाले दिनों में निमंत्रण तो आ भी सकता है। लेकिन कुमार का इस कार्यक्रम में जाना तय नहीं है क्योंकि वे पहले ही अपने पारिवारिक कार्यक्रम में व्यस्त हैं। बता दें कि कुमार ने पिछले दिनों मशहूर राजनीतिक चिंतक डॉ राममनोहर लोहिया को उद्धृत करते हुए कहा था कि सत्ता और संघर्ष के साथी अलग-अलग होते हैं। सोशल मीडिया में उनके ट्वीट से भी कई बार सत्ता में बैठे उनके मित्रों को लेकर रिश्तों की खटास के संकेत मिलते हैं। पार्टी की राष्टÑीय परिषद की बैठक के बाद जिस प्रकार पार्टी विधायक अमानतुल्लाह खान के बाकी समर्थकों ने कुमार के खिलाफ नारेबाजी की, उससे पार्टी में अंदरखाने जारी तकरार को लेकर तस्वीर काफी हद तक साफ हो गई।

पांच साल पहले जब वैकल्पिक सियासत की दलील देकर आम आदमी पार्टी की स्थापना की गई तो इसके संस्थापकों में पूर्व केंद्रीय मंत्री शांतिभूषण, उनके बेटे प्रशांत भूषण, योगेंद्र यादव, प्रो आनंद कुमार, अजीत झा सहित कई मशहूर नाम शुमार थे। अण्णा हजारे के आंदोलन से पैदा हुई राजनीतिक लहर पर सवार इस पार्टी ने स्थापना के तुरंत बाद ही दिल्ली की गद्दी पर कामयाबी का परचम लहरा दिया और डेढ़ दशक पुरानी कांग्रेस की हुकूमत को उखाड़ फेंका। यह दीगर बात है कि सत्ता में आने के कुछ ही दिनों बाद इसके संस्थापकों को बाहर किए जाने की भूमिका बनने लगी और आखिरकार इन तमाम लोगों को बाहर होना पड़ा। अब कुमार विश्वास सरीखे लोग हाशिए पर हैं और कपिल मिश्रा जैसे पूर्व मंत्री और कई अन्य विधायक भी बगावत की भाषा बोल रहे हैं। ऐसे में क्रांति के पांच साल का नारा देकर हो रहे आम आदमी पार्टी के स्थापना दिवस समारोह में ऐसे तमाम नेताओं की हाजिरी-गैरहाजिरी पर भी सबकी निगाह रहेगी।

’26 नवंबर को आप की स्थापना के पांच साल पूरे होने के उपलक्ष्य में दिल्ली के ऐतिहासिक रामलीला मैदान में जोरदार जलसे की तैयारी शुरू कर दी गई है। ’पार्टी ने क्रांति के पांच साल का नारा देकर इस समारोह को लेकर सोशल मीडिया पर भी जोरदार अभियान छेड़ा है।

’सभी प्रदेश इकाइयों को इस कार्यक्रम में शामिल होने की सूचना भेज दी गई है। पार्टी पदाधिकारियों के अलावा सांसद, विधायक और पार्षद भी इस मौके पर उपस्थित रहेंगे।’अब तक विश्वास को ऐसा कोई बुलावा नहीं आया है। उनके करीबी लोगों की मानें तो आने वाले दिनों में निमंत्रण आ भी सकता है। पर कुमार का इस कार्यक्रम में जाना तय नहीं है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.