ताज़ा खबर
 

किसानों की हत्या करने वाले अधिकारियों पर हो कार्रवाई: आप

गजब नौटंकी है कि एक पूर्ण राज्य के संपूर्ण मुख्यमंत्री पहले तो खुद किसानों पर गोली चलवाते हैं और फिर उपवास का ड्रामा करते हैं।

Author नई दिल्ली | June 12, 2017 02:24 am
आप लीडर संजय सिंह

आम आदमी पार्टी (आप) ने मांग की है कि मध्य प्रदेश में किसानों की हत्या करने वाले अधिकारियों पर मुकदमा दर्ज किया जाए और उन्हें गिरफ्तार किया जाए। साथ ही पार्टी ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को अपने पद से इस्तीफा दे देना चाहिए। एक प्रेस कांफ्रेंस में पार्टी नेता संजय सिंह ने कहा कि शिवराज सिंह उपवास का जो ड्रामा कर रहे थे वो अब खत्म हो गया है। यह बड़े दुख की बात है कि प्रदेश में शांति की अपील के लिए मुख्यमंत्री को उपवास करना पड़ता है। गजब नौटंकी है कि एक पूर्ण राज्य के संपूर्ण मुख्यमंत्री पहले तो खुद किसानों पर गोली चलवाते हैं और फिर उपवास का ड्रामा करते हैं। एक बूढ़ी महिला को डंडे मारे जाते हैं और एक के बाद एक कई किसानों को मार दिया जाता है।

उन्होंने कहा कि अगर देश के किसान को अपनी मांगों के लिए सड़क पर उतरकर लड़ने की जरूरत पड़ती है, तो यह किसी भी कृषि प्रधान देश के लिए बेहद दुख की बात है। फिर सरकार अगर उन किसानों पर गोलियां चलवाकर उनकी हत्या कराती है तो यह और गंभीर हो जाता है। मध्य प्रदेश में किसानों की मांगें मानने के बजाय सरकार ने किसानों पर गोलियां चलवाकर उनकी हत्या करवा दी। यह सच है कि मध्य प्रदेश के किसानों को उनकी फसल का उचित दाम नहीं मिलता और किसानों से सस्ती फसल लेकर आगे महंगी बेची जाती है। किसान कर्ज में डूबता जा रहा है और सरकार किसानों की आवाज नहीं सुन रही है। संजय सिंह ने कहा कि हम जब किसानों से मिलने मध्य प्रदेश गए तो लोगों ने हमें बताया कि किसानों की मौत सरकार की वजह से हुई है, सरकार ने किसानों की हालत बेहद दयनीय कर दी है। नीमच में 62 तरह की फसल होती है। किसानों को आंदोलन करने की जरूरत इसलिए पड़ी क्योंकि वहां किसानों से सस्ते दाम में फसल खरीदकर आगे महंगी बेची जाती है। मध्य प्रदेश की भाजपा सरकार किसानों को अनदेखा कर मुनाफाखोरों को बढ़ावा दे रही है, इसलिए किसान सड़कों पर उतरा है।

उन्होंने कहा कि किसानों को फसल की लागत के 50 फीसद मुनाफे की बात खुद भाजपा ने कही थी, लेकिन आज हालात यह हैं कि मध्य प्रदेश में रोज 5 किसान आत्महत्या कर रहे हैं। आम आदमी पार्टी पूछना चाहती है कि किसानों के साथ अन्याय क्यों किया जा रहा है। क्यों दिल्ली में पीएमओ के पास जाकर किसान को मूत्र पीना पड़ता है? कर्जमाफी के नाम पर क्यों उत्तर प्रदेश के किसानों को धोखा देने की कोशिश हो रही है? अगर भाजपा सरकार अपने बड़े-बड़े पूंजीपति मित्रों से कर्ज लेकर वो पैसा किसानों को दे दे तो उनकी मुसीबत दूर हो सकती है, लेकिन भाजपा सरकार ऐसा नहीं कर रही है। मध्य प्रदेश में एक किसान को 4000 रुपए का कर्ज वापस न करने पर जेल में बंद कर दिया जाता है, लेकिन विजय माल्या सरकारी बैंकों का 9000 करोड़ रुपया डकार कर लंदन में क्रिकेट मैच देख रहे हैं और सरकार उन पर कोई एक्शन नहीं ले रही है। इससे भाजपा की किसान विरोधी मानसिकता का पता चलता है।

आप नेता ने कहा कि भारत एक कृषि प्रधान देश है और 70 फीसद देश किसान और खेती के ऊपर ही निर्भर करता है, लेकिन दुर्भाग्य की बात है कि भाजपा आज देश के इसी अन्नदाता को कुचलने और खत्म करने की कोशिश कर रही है। हम मांग करते हैं कि किसानों की हत्या करने वाले पुलिस अधिकारियों पर कार्रवाई की जाए, साथ ही प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह को अपने पद पर बने रहने का भी कोई हक नहीं है। पहले सरकार किसानों का कर्ज माफ करे और उसके बाद स्वामीनाथन रिपोर्ट के अनुसार किसानों को उनकी फसल का उचित दाम दिया जाए।

 


Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App