ताज़ा खबर
 

राजग के चार साल, कांग्रेस मनाएगी विश्वासघात दिवस

केंद्र की राजग सरकार के चार साल पूरा होने के मौके को कांग्रेस विश्वासघात दिवस के तौर पर मनाएगी। इसके तहत सभी राज्यों की राजधानियों व जिला मुख्यालयों पर धरना-प्रदर्शन किया जाएगा।

Author नई दिल्ली, 23 मई। | Published on: May 24, 2018 6:39 AM
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने वरिष्ठ नेताओं के साथ विचार-विमर्श के बाद यह फैसला किया है कि 26 मई को पार्टी विश्वासघात दिवस मनाएगी।

केंद्र की राजग सरकार के चार साल पूरा होने के मौके को कांग्रेस विश्वासघात दिवस के तौर पर मनाएगी। इसके तहत सभी राज्यों की राजधानियों व जिला मुख्यालयों पर धरना-प्रदर्शन किया जाएगा। कांग्रेस के मीडिया विभाग के प्रमुख रणदीप सिंह सुरजेवाला ने बुधवार को पार्टी मुख्यालय में बताया कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने वरिष्ठ नेताओं के साथ विचार-विमर्श के बाद यह फैसला किया है कि 26 मई को पार्टी विश्वासघात दिवस मनाएगी। राजग सरकार के विश्वासघात का जनता के सामने पर्दाफाश किया जाएगा। उन्होंने कहा कि 26 मई को सभी राज्यों की राजधानियों और जिला स्तरों पर धरना- प्रदर्शन किए जाएंगे।

उन्होंने आरोप लगाया कि यह सरकार भ्रष्टाचार, कालेधन, महंगाई, आतंकवाद और विदेश नीति को लेकर पूरी तरह नाकाम रही है। इस अवसर पर कांग्रेस महासचिव अशोक गहलोत ने विश्वासघात शीर्षक वाला एक पोस्टर जारी करते हुए कहा कि मीडिया और आम लोग समझ गए हैं कि उनके साथ विश्वासघात हुआ। उन्होंने कहा कि चार साल पहले खूब वादे किए गए थे और जनता ने भी विश्वास जताया। लेकिन चार साल में इस कदर विश्वासघात हुआ कि उसकी कल्पना नहीं की जा सकती। उन्होंने भाजपा को लेकर कहा कि ये लोग चाल, चरित्र और चेहरा अलग होने का दावा करते थे लेकिन इन्होंने अपने ही सिद्धांतों की धज्जियां उड़ा दीं।

उन्होंने कहा कि ये लोग हर साल जश्न मनाते हैं और जनता के पैसे उड़ाते हैं। खूब विज्ञापन दिए जा रहे हैं। कांग्रेस ने सरकार में रहते हुए यह कभी नहीं किया।कांग्रेस महासचिव ने दावा किया कि देश में अविश्वास, भय और हिंसा का माहौल है। हर वर्ग परेशान है। सबके साथ विश्वासघात हुआ है। भाजपा के लोग विपक्ष में रहते हुए महंगाई को लेकर तमाशा करते थे। लेकिन आज पेट्रोल और डीजल की कीमत कहां पहुंच गई। आम लोगों की जेब पर डाका डाला जा रहा है। गहलोत ने कहा कि राहुल गांधी ने पेट्रोल और डीजल की कीमत को जीएसटी के दायरे में लाने की मांग की, लेकिन सरकार तैयार नहीं हुई।

Next Stories
1 24 घंटे में दूसरी बार हैक हुई जामिया की वेबसाइट, इस बार लिख दिया ये
ये पढ़ा क्या?
X