ताज़ा खबर
 

रनवे छोड़ टैक्‍सी के रास्‍ते से कर रहे थे टेक-ऑफ, जेट एयरवेज के दो पायलट्स का लाइसेंस सस्‍पेंड

नागरिक उड्डयन महानिदेशालय ने सऊदी अरब में रियाद हवाईअड्डे पर रनवे के समानांतर बने टैक्सीवे से उड़ान भरने के मामले में जेट एयरवेज के दो पायलटों का लाइसेंस निलंबित कर दिया है।

Author नई दिल्ली | Updated: August 6, 2018 5:40 PM

नागरिक उड्डयन महानिदेशालय ने सऊदी अरब में रियाद हवाईअड्डे पर रनवे के समानांतर बने टैक्सीवे से उड़ान भरने के मामले में जेट एयरवेज के दो पायलटों का लाइसेंस निलंबित कर दिया है। एयरलाइन ने कहा कि मुंबई आ रहे उस विमान में 148 लोग सवार थे। तीन अगस्त को हुए इस घटना में जेट एयरवेज विमान को कोई नुकसान नहीं पहुंचा है। विमानन नियामक डीजीसीए के एक अधिकारी ने बताया कि रनवे पर अवरोध होने की जानकारी मिलने के बाद पायलटों ने नजदीके के टैक्सीवे से उड़ान भरने का निर्णय लिया था। अधिकारी ने कहा कि डीजीसीए ने दोनों पायलटों के लाइसेंस निलंबित कर दिए गए हैं। मामले की जांच जारी है। इससे पहले सऊदी के विमानन जांच ब्यूरो (एआईबी) की ओर से जारी विज्ञप्ति में कहा गया था कि विमान ने रनवे के समानांतर बने टैक्सीवे से उड़ान भरी। एआईबी ने कहा कि 141 यात्रियों और चालक दल के सात सदस्यों के साथ मुंबई जा रहे जेट एयरवेज बोइंग बी737, वीटीजेएफएस विमान ने टैक्सीवे से उड़ान भरी, जिसके कारण उसे टैक्सीवे (के) के उत्तर में टैक्सीवे (जीएफ) के पास उतरना पड़ा।

इससे पहले जेट एयरवेज के पायलटों की यूनियन नेशनल एविएटर्स गिल्ड (एनएजी) ने शनिवार को कहा था कि उड्डयन क्षेत्र वित्तीय रूप से ‘संकट’ के दौर से गुजर रहा है, इसलिए वे कंपनी के साथ सहयोग की कोशिश कर रहे हैं। यह बयान ऐसे समय आया है, जब एयरलाइन ने कहा कि वह लागत घटाने के लिए अपने कर्मचारियों और प्रमुख हितधारकों के साथ वेतन में कटौती जैसे कदम उठाने के लिए चर्चा कर रही है।

यूनियन ने शनिवार को एक बयान में कहा, “एनएजी को यह अहसास है कि उड्डयन क्षेत्र अशांति के दौर से गुजर रहा है। ईंधन कीमतें बढ़ी हुई हैं, रुपया सर्वकालिक निचले स्तर पर पहुंच चुका है और विमान किराए भी कम हैं। इन कारणों से सभी विमानन कंपनियां चुनौतियों से गुजर रही हैं।”
यूनियन ने कहा, “लागत घटाने और सेवा मानकों को बढ़ाने के लिए हम प्रबंधन के साथ बैठकें करके और समाधान का हिस्सा बनकर इन चुनौतियों का सामना करने में हमारी कंपनी की सहायता करने का प्रयास कर रहे हैं। इसके अलावा, यूनियन ने अपने सदस्यों को सलाह दी है कि वे प्रबंधन का साथ दें और “अफवाहों और आधारहीन अटकलों का शिकार ना बनें।

आईएनएस के इनपुट के साथ।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 परेशानी: सीलिंग के साए में चार हजार से अधिक कारखाने, 25 हजार लोगों के रोजगार पर संकट
2 देशों से प्रत्यर्पण संधि में दहेज उत्पीड़न को शामिल किया जाए : समिति
3 दिल्ली विधानसभा का मानसून सत्र आज से, एक-दूसरे पर बरसने को तैयार सरकार और विपक्ष