ताज़ा खबर
 

दिल्ली: पांच स्कूली लड़कों ने चलती बस में कर दिया मुस्लिम नौजवान का कत्ल, देखते रहे मुसाफिर

अनस फरीदाबाद की अल-फलाह यूनिवर्सिटी से बीकॉम कर रहा था। वह तीन बहन-भाइयों में सबसे बड़ा था।
Author नई दिल्ली | November 25, 2017 13:54 pm
मोहम्मद अनस।

आलोक सिंह

दिल्ली के दक्षिणी-पूर्वी इलाके में एक बहुत ही दिलदहला देने वाली घटना सामने आई है, जहां पर पांच स्कूली छात्रों द्वारा 17 साल के एक लड़के की चाकू घोंपकर हत्या कर दी गई। यह घटना न्यू फ्रैंड्स कॉलोनी की है। इस अपराध को एक कलस्टर बस में गुरुवार को अंजाम दिया गया। मृतक की पहचान मोहम्मद अनस के रूप में हुई है। अनस के परिजनों का कहना है कि जिस समय इस वारदात को अंजाम दिया गया उस वक्त बस में काफी लोग मौजूद थे लेकिन किसी ने भी आगे आकर उसकी मदद नहीं की। इलाके के डीसीपी रोमिल बानिया ने घटना की जानकरी देते हुए कहा कि इस मामले में पांच नाबालिग लड़कों को पकड़ा गया है। ये सभी एक सरकारी स्कूल के आठवीं, नौवीं और दसवीं के छात्र हैं।

बानिया के अनुसार आरोपी आश्रम चौक से 479 नम्बर की कलस्टर बस में चढ़े थे। उन्होंने अनस का फोन छीना और उसपर हमला कर बस से भाग खड़े हुए। बस कंडक्टर द्वारा पुलिस को दिए बयान के अनुसार यह घटना दोपहर के करीब 3:40 की है। अनस बार-बार लड़कों से कह रहा था कि “मेरा मोबाइल दो, मेरा मोबाइल दो।” मोबाइल को लेकर उनके बीच मारपीट हो गई और उनमें से एक छात्र ने अनस की गर्दन पर चाकू से कई वार कर दिए। बस में और भी यात्री मौजूद थे, लेकिन किसी ने भी आगे आकर अनस की मदद नहीं की क्योंकि आरोपी उसपर हमला कर बस से तुरंत भाग गए थे।

कंडक्टर ने घटना के बाद पीसीआर को फोन किया। मौके पर पहुंचे पुलिसकर्मियों ने अनस को एम्स ट्रोमा सेंटर पहुंचाया जहां पर डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में अनस के पिता भोलू खान ने बताया कि अनस फरीदाबाद की अल-फलाह यूनिवर्सिटी से बीकॉम कर रहा था। शुक्रवार को उसे अपने पहले सेमेस्टर की आखिरी परीक्षा देने जाना था। खान ने कहा कि मैंने अपनी पत्नी से फोन कर अनस को 1,500 रुपए लेकर उसे आश्रम चौक भेजने के लिए कहा था क्योंकि मेरी गाड़ी वहां पर खराब हो गई थी। अनस तीन बहन-भाइयों में सबसे बड़ा था। फिलहाल पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है और मामले की जांच में जुट गई है।

देखिए वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. F
    fazal
    Nov 25, 2017 at 3:29 pm
    Such murder has become very usual now a days by boys under 15-years of age because punishment is only for 3-years. Therefore act should be changed for severe punishment by hanging. Fazal Karim. B. E (Civil Engineer ) 15.26/26.11.2017/Patna /Bihar
    (0)(0)
    Reply
    1. N
      Narendra kumar
      Nov 25, 2017 at 3:20 pm
      Sir iss main muslim ku joda ja raha hai. Crime hua hai iss main dharm kaha se aaya. Agli baar kis hindu ki hatya ho to vaha bhi usska gharm batana.
      (0)(0)
      Reply
      1. मनीष तिवारी
        Nov 25, 2017 at 1:53 pm
        अरे वाह जनसत्ता चाचा जी.... नमस्ते, मुस्लीम बच्चे की बस में हत्या शर्म करो.....शर्म करो....... ऐसा भी तो हेडिंग हो सकता था......स्कुल मेॉ पडने वालो बच्चे ने एक बच्चे की हत्या की..... लेकिन कमब्ख्त जनसत्ता चाचा जी आपने इस खबर को कम्यूनल बनाने की कोशीश की......उन हत्यारो बच्चो ने मुस्लीम समझ कर उस बच्चे की हत्या नही की बल्की अपने निजी स्वार्थ (मोबाइल के लिये) हत्या की......हत्या करना जरूर ही बहुत बडा अपराध है पर आपके रिपोर्टींग से दंगा हुआ तो यह महापाप होगा......शर्म करो शर्म करो.....जनसत्ता चाचा.......अब तुम्हारे ऐसे रिपोर्टींग से कोई फर्क नही पडेगा.....गुजरात चुनाव पर या किसी जाती धर्म या भाषा पर
        (0)(0)
        Reply
        1. P
          Praveen
          Nov 25, 2017 at 1:02 pm
          बहुत ख़राब हुआ. मगर हंसी आते है आपके रिपोर्टर की बूढी पर. अगर क़तल किसे हिन्दू युवक का हुआ होता तो के ठीर्षक में हिन्दू शब्द होता. बंद करो ऐसी भद्दी रिपोर्टिंग.इश्वर से प्रार्थना है की रिपोर्टर तो सद्बुद्धि दे.
          (0)(0)
          Reply