ताज़ा खबर
 

डकैती नाकाम करने पर मालिक ने टी-शर्ट दिया इनाम, नाराज स्टाफ मालिक के 70 लाख लेकर फरार

शिकायत पर दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने मामला न केवल सुलझाया। बल्कि याकूब को गिरफ्तार भी कर लिया। छानबीन में पता लगा कि बिष्ट ने मालिक से कुछ रकम उधार मांगी थी।

तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (फोटोः Pixabay)

अज्ञात बदमाशों से लड़-भिड़ कर एक स्टाफकर्मी ने मालिक के यहां 80 लाख रुपए की डकैती को नाकाम कर दिया। पर इस हीरोगिरी के चक्कर में उसे चोटें भी आईं और उसका कुछ खासा फायदा भी न हुआ। कारण- डकैती के बाद मालिक से वह इनाम में बड़ी रकम की आस लगाए बैठा था। मगर उसकी बहादुरी और सूझबूझ की कीमत एक सामान्य सी टी-शर्ट से चुकाई गई। यही बात उसे अखर गई और वह नाराज होकर मालिक के 70 लाख रुपए लेकर फरार हो गया।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, यह मामला देश की राजधानी नई दिल्ली से जुड़ा है। मूलरूप से उत्तराखंड का रहने वाला धनपाल सिंह बिष्ट दिल्ली में एक फायनैंसर के यहां काम करता था। हाल ही में जब उसने मालिक के 80 लाख रुपए डकैतों से बचाए, तो उसे बदले में मनचाहा इनाम न मिला। उसने इसके बाद याकूब नाम के दोस्त के साथ साजिश रची और मालिक ने जो 70 लाख रुपए उसे दिल्ली के मॉडल टाउन स्थित बैंक में जमा करने को कहे थे, उन्हें लेकर वे नैनीताल भाग निकले।

हालांकि, शिकायत पर दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने मामला न केवल सुलझाया। बल्कि याकूब को गिरफ्तार भी कर लिया। छानबीन में पता लगा कि बिष्ट ने मालिक से कुछ रकम उधार मांगी थी, जो कि उसने देने से इन्कार कर दी थी। नतीजतन उसने दोस्त के साथ मिलकर मालिक के पैसे लेकर भागने की साजिश रची थी।

एडिश्नल कमिश्नर राजीव रंजन ने एक अंग्रेजी अखबार को बताया, “याकूब को वारदात में शामिल होने के लिए चार लाख रुपए बिष्ट ने दिए थे। याकूब के बैंक खाते में जमा कराए गए तीन लाख रुपए के बारे में हमें पता चला है।”

जांच के आधार पर पुलिस ने आगे कहा, “बिष्ट अपनी तीन बेटियों की शादी के लिए रुपयों का बंदोबस्त कर रहा था। पर डकैती रोकने के दौरान आई चोटों के चलते उसे डॉक्टरों ने बिस्तर पर आराम करने को कहा था, लिहाजा उसने साजिश रची कि अगली बार जब मालिक बैंक में पैसे जमा करने को देगा, तो वह उसे दोस्त के साथ लेकर भाग निकलेगा।”

28 अगस्त को मालिक ने उसे एक ग्राहक से पैसे लेकर आने को कहा था। बिष्ट ने पैसे लेकर याकूब से संपर्क साधा और फिर वे मारुति डिजायर से नैनीताल भाग निकले। बिष्ट को छोड़कर आने के बाद वह अपना कमिशन लेकर दिल्ली लौट आया था, जहां पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App