अरविंद केजरीवाल को झटका देकर प्रशांत भूषण के साथ जाएंगे आशीष खेतान? बोले- उनके साथ काम करना चाहता हूं

साल 2015 में खेतान और भूषण के बीच विवाद हुआ था। भूषण का आरोप था कि खेतान ने खबरें 2जी घोटाले के आरोपियों के पक्ष में लिखी थीं। खेतान तब तहलका पत्रिका में काम करते थे। खेतान ने हाल ही में एक टीवी चैनल से इस संबंध में बात की। जानिए भूषण के करीबी होने के सवाल पर उन्होंने क्या कहा।

प्रशांत भूषण और आशीष खेतान के बीच साल 2015 में विवाद हुआ था। (फोटोः फेसबुक)

दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी (आप) के संयोजक अरविंद केजरीवाल को पार्टी नेता आशीष खेतान ने झटका दिया है। आप नेता ने जाने-माने वकील प्रशांत भूषण के साथ जुड़ने की इच्छा जताई है। खेतान ने कहा है कि वह भूषण के साथ काम करना चाहते हैं। खेतान पहले दिल्ली डायलॉग एंड डेवलेपमेंट कमीशन में उपाध्यक्ष थे। दो दिन पहले ही उन्होंने इस पद से इस्तीफा दे दिया था। आपको बता दें कि साल 2015 में खेतान और भूषण के बीच विवाद हुआ था। भूषण का आरोप था कि खेतान ने खबरें 2जी घोटाले के आरोपियों के पक्ष में लिखी थीं। खेतान तब तहलका पत्रिका में काम करते थे।

खेतान ने हाल ही में सीएनएन-न्यूज 18 से इस संबंध में बातचीत की। यह पूछे जाने पर कि आप भूषण के करीबी रहे हैं। क्या आप उनसे साथ काम करने को तैयार हैं। वह बोले, “बिल्कुल। मैं प्रशांत जी के साथ काम करने के तैयार हूं। मैं उनका बहुत सम्मान करता हूं और जब कोई सार्वजनिक कारण होगा या कोई कानूनी केस होगा तो हम साथ आ सकते हैं। मुझे ऐसा करने में खुशी होगी।”

भूषण के साथ अपने पूर्व विवाद पर खेतान ने कहा कि वह बात पुरानी हो गई है। उसे भूल जाना चाहिए। भूषण और केजरी के साथ आने के सवाल पर कहा, “अगर वह साथ काम कर सकते हैं तो यह अच्छा ही होगा। जीवन में कुछ भी हो सकता है।”

याद दिला दें कि खेतान ने दिल्ली डायलॉग कमीशन में उपाध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के बाद कहा था कि वह वकालत करना चाहते हैं। तीन साल पहले उन्हें इस पद के लिए चुना गया था, जबकि कमीशन के अध्यक्ष खुद केजरीवाल हैं।

खेतान ने इस संबंध में ट्वीट कर कहा था, “मैं कानूनी पेशे से जुड़ रहा हूं। दिल्ली बार में पंजीकरण करा रहा हूं, जिसकी वजह से डीडीसी से इस्तीफा देना आवश्यक है। बार काउंसिल के नियम के अनुसार कोई भी व्यक्ति वकालत करते समय निजी या सरकारी नौकरी नहीं कर सकता।”

पढें राज्य समाचार (Rajya News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।