ताज़ा खबर
 

डिलिवरी के दौरान कोख में छूटा नवजात का सिर, पुलिस पूछताछ के बाद अस्पताल कर्मियों ने वापस दिया धड़!

जोधपुर में जब प्रसव किया गया तो सिर्फ बच्चे का सिर ही निकला। वहां डॉक्टरों ने कहा ऐसा पहले कभी नहीं देखा गया कि प्रसव के दौरान शरीर के दो हिस्से हो जाएं।

प्रतीकात्मक तस्वीर

राजस्थान के जैसलमेर में प्रसव के दौरान लापरवाही के चलते एक दर्दनाक हादसा हो गया। जिले के रामगढ़ के सरकारी अस्पताल में दीक्षा कंवर को भर्ती कराया गया था। प्रसव के दौरान कथित तौर पर डॉक्टरों की लापरवाही के चलते नवजात का सिर और धड़ अलग-अलग हो गए। इतना ही नहीं बच्चे का धड़ तक का हिस्सा तो बाहर निकल गया लेकिन सिर अंदर ही रह गया। इसके बाद डॉक्टरों ने परिजनों को बिना कुछ जानकारी दिए ही महिला को जैसलमेर और वहां से जोधपुर भेज दिया। परिजनों को जोधपुर जाकर पूरी घटना की जानकारी मिल पाई।

लापरवाही के बाद ये बोला प्रबंधनः इस मामले में रामगढ़ अस्पताल प्रबंधन का कहना, ‘प्रसूता को जब अस्पताल लाया गया था तब प्रसव कक्ष में ले जाने पर नवजात के पैर बाहर नजर आ रहे थे। वो मृत अवस्था में था। इसके बाद अस्पताल में पूरी सुविधा न होने के चलते प्रसूता को रैफर कर दिया गया।’ दूसरी तरफ जैसलमेर के डॉक्टर ने कहा, ‘हमें कहा गया था कि डिलीवरी हो चुकी है लेकिन गर्भनाल अंदर रह गई है।’ इसके बाद उन्हें भी ज्यादा कुछ समझ नहीं आया तो उन्होंने महिला को जोधपुर भेज दिया।

जोधपुर में सिर्फ सिर बाहर निकलाः जोधपुर में जब प्रसव किया गया तो सिर्फ बच्चे का सिर ही निकला। वहां डॉक्टरों ने कहा ऐसा पहले कभी नहीं देखा गया कि प्रसव के दौरान शरीर के दो हिस्से हो जाएं। ऐसा कैसे हुआ यह जांच का विषय है। घटना से गुस्साए शोक संतप्त परिजन बच्चे का सिर लेकर रामगढ़ पुलिस थाने पहुंच गए। जब शिकायत के बाद पुलिस ने डॉक्टरों से पूछताछ की तो उन्होंने बच्चे का धड़ लाकर दे दिया। इसके बाद दोनों हिस्सों का अलग-अलग पोस्टमार्टम कराया गया।

सिर लेकर थाने पहुंचे परिजनः जोधपुर में डॉक्टर्स ने परिवार वालों को बच्चे का सिर सौंप दिया। इसके बाद वे बच्चे का सिर लेकर एफआईआर दर्ज कराने के लिए रामगढ़ पुलिस थाना पहुंच गए। पुलिस ने वहां के चिकित्साकर्मियों से पूछताछ की तो उन्होंने बच्चे का धड़ लाकर दिया। इसके बाद मामला दर्ज किया गया है। उपनिरीक्षक जालमसिंह ने बताया कि बच्चे के दोनों हिस्सों का अलग-अलग पोस्टमॉर्टम करवाया गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App