ताज़ा खबर
 

नीतीश के दल को अरुणाचल में झटका! 7 में से 6 MLAs JDU छोड़ BJP में गए, पास बचा सिर्फ एक

राजद-कांग्रेस गठबंधन का आरोप है कि अरुणाचल प्रदेश में जो कुछ भी हुआ वह बिहार में होने वाले परिवर्तन का संकेत है, जहां जदयू गठबंधन में बड़ी पार्टी की भूमिका खो चुकी है।

BJP, JDU, Arunachal Pradeshअरुणाचल प्रदेश में विधायकों के भाजपा में शामिल होने की घटना को सीएम नीतीश कुमार ने नहीं दिया महत्व (फोटो- PTI)

बिहार में भाजपा के साथ एनडीए का हिस्सा बन कर चुनाव लड़ने वाली जदयू को अरुणाचल प्रदेश में अपने साझेदार से ही झटका लगा है। यहां शुक्रवार को पार्टी के के 7 में से 6 विधायक भाजपा में शामिल हो गए। राज्य विधानसभा की ओर से जारी बुलेटिन में कहा गया है कि रमगोंग विधानसभा क्षेत्र के तालीम तबोह, चायांग्ताजो के हेयेंग मंग्फी, ताली के जिकके ताको, कलाक्तंग के दोरजी वांग्दी खर्मा, बोमडिला के डोंगरू सियनग्जू और मारियांग-गेकु निर्वाचन क्षेत्र के कांगगोंग टाकू भाजपा में शामिल हो गए हैं।

बता दें कि जदयू ने 26 नवंबर को ही सियनग्जू, खर्मा और टाकू को ‘पार्टी विरोधी’ गतिविधियों के लिए कारण बताओ नोटिस जारी किया था और उन्हें निलंबित कर दिया था। दरअसल, इन 6 विधायकों ने इससे पहले पार्टी के परिष्ठ सदस्यों को कथित तौर पर बताए बिना तालीम तबोह को विधायक दल का नया नेता चुन लिया था। पीपीए विधायक को भी क्षेत्रीय पार्टी ने इस महीने की शुरुआत में निलंबित कर दिया था।

नीतीश कुमार बोले- अरुणाचल में विधायक अपने रास्ते चले गए: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शुक्रवार को अरुणाचल प्रदेश में जनता दल (यूनाइटेड) में टूट और उसके सात में से छह विधायकों के भाजपा में चले जाने को कोई महत्व नहीं दिया। जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष कुमार ने पूर्वोत्तर राज्य में हुए इस राजनीतिक परिवर्तन को एक मुस्कान के साथ खारिज कर दिया। सप्ताहांत में होने वाली जदयू की राष्ट्रीय कार्यकारिणी और राष्ट्रीय परिषद की बैठक से पहले पत्रकारों के सवाल के जवाब में कुमार ने कहा, “हमारा ध्यान अपनी प्रस्तावित बैठक पर केंद्रित है। वह अपने रास्ते चले गए हैं।”

भाजपा के साथ बिहार तक ही गठबंधन होने का दावा करती रही है जदयू: जनता दल यूनाइटेड ने पिछले साल अरुणाचल विधानसभा चुनाव में सात सीटें जीती थी और वह मुख्य विपक्षी दल के रूप में उभरी थी। अरुणाचल प्रदेश में मिली विजय ने जदयू को वहां क्षेत्रीय पार्टी का दर्जा दिलाया था। जदयू कई राज्यों में भाजपा के समर्थन के बिना विधानसभा चुनाव लड़ रही है और दावा कर रही है कि भाजपा के साथ उसका गठबंधन “बिहार तक ही सीमित है।” अपवाद के रूप में इस साल की शुरुआत में केवल दिल्ली विधानसभा का चुनाव था जिसमें जदयू ने भाजपा के साथ गठबंधन कर प्रत्याशी उतारे थे। हालांकि इस चुनाव में भाजपा और जदयू को आम आदमी पार्टी के हाथों करारी शिकस्त का सामना करना पड़ा था।

राजद-कांग्रेस बोलीं- यह बिहार में होने वाले बदलाव का इशारा: इस बीच राजद-कांग्रेस गठबंधन का आरोप है कि अरुणाचल प्रदेश में जो कुछ भी हुआ वह बिहार में होने वाले परिवर्तन का संकेत है, जहां जदयू गठबंधन में बड़ी पार्टी की भूमिका खो चुकी है। राजद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी ने अपने बयान में कहा, “गठबंधन धर्म का उल्लंघन कर भाजपा ने संदेश दे दिया है कि वह नीतीश कुमार को महत्व नहीं देती। वहीं दूसरी तरफ नीतीश कुमार इस पर प्रतिक्रिया देने से भी घबरा रहे हैं।” तिवारी ने यह भी दावा किया कि हाल ही में राष्ट्रीय राजधानी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ हुई बैठक में राज्य के दो उप मुख्यमंत्रियों तार किशोर प्रसाद और रेनू देवी को बताया गया है कि बिहार के लोगों ने भाजपा में विश्वास जताया है जिसके चलते पार्टी को ज्यादा सीटें मिली हैं।

Next Stories
1 TRP Scam: अर्नब गोस्वामी के Republic TV पर गड़बड़झाले का आरोप पुलिस ने दोहराया, जानें क्या कहा
2 ट्रेन में रेप कर बाहर फेंक दिया, बेसुध पड़ी रही महिला, खतरे में जान
3 बंगाल की कहानी, असम में भी शुरू? ‘दगाबाजी’ पर नेत्री को Congress ने निकाला, बन सकती हैं BJP का हिस्सा
ये पढ़ा क्या?
X