ताज़ा खबर
 

लोकसभा उपचुनाव के लिए नेशनल कांफ्रेंस व कांग्रेस ने मिलाया हाथ

पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने मीडिया को बताया कि नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला श्रीनगर से और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष जी.ए. मीर अनंतनाग से चुनाव लड़ेंगे।

Author March 15, 2017 3:57 PM
उमर ने कहा, “श्रीनगर और अनंतनाग में सत्तारूढ़ पीडीपी से मुकाबले के लिए संयुक्त रणनीति तैयार करने के लिए नेकां और कांग्रेस में गहन विचार विमर्श हुआ।”

नेशनल कांफ्रेंस (नेकां) और कांग्रेस ने बुधवार को घोषणा की कि वे जम्मू एवं कश्मीर में श्रीनगर और अनंतनाग के उप चुनाव साथ मिलकर लड़ेंगी। पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने मीडिया को बताया कि नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला श्रीनगर से और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष जी.ए. मीर अनंतनाग से चुनाव लड़ेंगे। उमर ने कहा, “श्रीनगर और अनंतनाग में सत्तारूढ़ पीडीपी से मुकाबले के लिए संयुक्त रणनीति तैयार करने के लिए नेकां और कांग्रेस में गहन विचार विमर्श हुआ।”

उन्होंने कहा, “विचार विमर्श के बाद फैसला लिया गया कि नेशनल कांफ्रेंस और कांग्रेस मिलकर उप चुनाव लड़ें।” उन्होंने मीडिया से कहा, “कांग्रेस ने हमें आश्वासन दिया है कि उसके सभी कार्यकर्ता और शुभचिंतक श्रीनगर में फारूक अब्दुल्ला की जीत के लिए काम करेंगे और वहीं अनंतनाग में हमारी पार्टी मीर साहब की जीत के लिए काम करेगी।” जीत के भरोसे के सवाल पर उमर ने कहा, “कोई भी 100 प्रतिशत भरोसे के साथ चुनाव नहीं लड़ सकता, लेकिन हमें भरोसा है कि हम ये दोनों सीटें जीतेंगे।”

पीपुल्स डेमोकेट्रिक पार्टी (पीडीपी) ने घोषणा की है कि मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती के भाई तसद्दुक हुसैन सैयद अनंतनाग से और कांग्रेस छोड़कर पीडीपी में शामिल हुए नजीर अहमद खान श्रीनगर से मैदान में उतरेंगे। बता दें पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहते हैं। इससे पहले अब्दुला ने पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव के लिए हो रही मतगणना के दौरान उत्तर प्रदेश के रुझानों को देखकर कहा कि यूपी में भारतीय जनता पार्टी के नाम की ‘सुनामी’ दिख रही है, और इसे छोटे-से तालाब में उठने वाली लहर न समझा जाए. उन्होंने इसके साथ ही विपक्षी पार्टियों को वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव के बारे में भूलकर वर्ष 2024 के आम चुनाव की तैयारियां शुरू करने की सलाह दी।

उमर अब्दुल्ला ने कहा कि देशभर में कोई ऐसा नेता नहीं है, जो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का मुकाबला कर सके और कोई ऐसी पार्टी नहीं है, जो 2019 में बीजेपी को चुनौती दे सके. जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि विपक्ष को ‘केवल आलोचना करने के बजाय एक सकारात्मक विकल्प’ के रूप में अपनी रणनीति बदलने की ज़रूरत है और अन्य राज्यों के नतीजे यह उम्मीद जगाते हैं कि बीजेपी अपराजेय नहीं है।

जम्मू-कश्मीर विधानसभा में राष्ट्रगान के अपमान पर हंगामा; राज्य सरकार पर भड़के उमर अब्दुल्ला

उमर अब्दुल्ला को इमिग्रेशन जांच के लिए न्यूयॉर्क एयरपोर्ट पर रोका गया; अब्दुल्ला ने कहा- “तीसरी यात्रा में यह तीसरी बार हुआ”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App