ताज़ा खबर
 

अराजक नहीं, अच्छी सरकार चुनें: नरेंद्र मोदी

विवेक सक्सेना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली विधानसभा चुनाव के पूर्व आम आदमी पार्टी व अरविंद केजरीवाल को अपना प्रमुख प्रतिद्वंदी मानते हुए उनको अराजकतावादी करार दिया। साथ ही उन्होंने जनता से सरकार बीच में ही छोड़ कर भाग जाने के लिए जनता से केजरीवाल को सजा देने की अपील की। चुनाव प्रचार का बिगुल […]

Author January 11, 2015 9:24 AM
गणतंत्र दिवस के मौके पर केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय की तरफ से जारी विज्ञापन में संविधान की प्रस्तावना को गलत तरीके से पेश किए जाने के पीछे की सरकारी मंशा अब उजागर होने लगी है (फ़ोटो-पीटीआई)

विवेक सक्सेना

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली विधानसभा चुनाव के पूर्व आम आदमी पार्टी व अरविंद केजरीवाल को अपना प्रमुख प्रतिद्वंदी मानते हुए उनको अराजकतावादी करार दिया। साथ ही उन्होंने जनता से सरकार बीच में ही छोड़ कर भाग जाने के लिए जनता से केजरीवाल को सजा देने की अपील की। चुनाव प्रचार का बिगुल फूंकते हुए उन्होंने दिल्लीवासियों को 24 घंटे बिजली, 2022 तक सबको पक्के मकान और मनमुताबिक बिजली कंपनी की सेवाएं लेने की आजादी देने का वादा किया। उन्होंने अमित शाह को भाजपा का अब तक का सर्वाधिक सफल अध्यक्ष बताया।

राष्ट्रीय राजधानी में 49 दिन की सरकार चलाने वाले पूर्व मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का नाम लिए बिना उन पर जोरदार प्रहार करते हुए मोदी ने कहा कि कभी ऐसा नेता देखा है जो खुद कहे कि मैं अराजकतावादी हूं। अगर वे अराजकता चाहते हैं तो जंगलों में जाकर नक्सलियों के साथ जुड़ जाएं। दिल्ली में नक्सलवाद नहीं चलने दिया जा सकता।

यहां ऐतिहासिक रामलीला मैदान में आप नेतृत्व पर कटाक्ष करते हुए उन्होंने कहा कि जिनको जो काम आता है, उन्हें वह काम दीजिए। जिन्हें फुटपाथ पर बैठने, धरना देने की आदत और मास्टरी हो, उन्हें वह मास्टरी करने दें और हमारी मास्टरी अच्छी सरकार बनाने की है, हमें वह करने दें। उन्होंने दिल्ली की जनता से अपील की कि जिन लोगों ने दिल्ली का एक साल बर्बाद और तबाह किया, उन्हें ऐसी सजा दें कि वे फिर नहीं पनप पाएं।

झुग्गी-झोपड़ियों में रहने वाली दिल्ली की विशाल जनसंख्या से मुखातिब होते हुए उन्होंने वादा किया कि 2022 तक सभी कच्ची बस्तियों को पक्के मकानों में बदल दिया जाएगा। दिल्लीवासियों को 24 घंटे बिजली मुहैया कराने वायदा करते हुए मोदी ने कहा कि इससे दिल्ली जेनरेटर मुक्त हो जाएगी और उसका पर्यावरण स्वच्छ होगा।

उन्होंने कहा कि उनकी सरकार एक और क्रांतिकारी कदम उठाने जा रही है और वह है मोबाइल फोन सेवाओं की तरह ही जनता को अपनी पसंद की बिजली कंपनियों को चुनने की आजादी। मोदी ने कहा कि मोबाइल कंपनियों की ही तरह इस कदम से बिजली कंपनियों में भी प्रतिस्पर्धा बढ़ेगी और बिजली के दाम अपने आप घट जाएंगे। उनकी सरकार की इस योजना की शुरुआत दिल्ली से होगी।

दिल्ली में इन दिनों राष्ट्रपति शासन है और अगले महीने नए सिरे से विधानसभा चुनाव होने की संभावना है। मोदी ने कहा कि आम आदमी पार्टी (आप) की तरफ से रिटायरमेंट की उम्र 60 से घटा कर 58 साल करने जैसे कई झूठ फैलाए जा रहे हैं। दिल्ली में झूठ की बड़ी फैक्टरी पूरे जोर शोर से चल रही है। वे झूठ बोलने में माहिर हैं। लेकिन मोदी कोई पीठ में छुरा घोंपने वाला इंसान नहीं है। यह सरासर झूठ है। आगे भी ऐसे जाने कितने झूठ फैलाए जाएंगे, लेकिन आप उन पर भरोसा नहीं करना।
भाजपा के नेतृत्व में पूर्ण बहुमत वाली सरकार बनाने का दिल्लीवासियों से आग्रह करते हुए उन्होंने कहा कि भाजपा दिल्ली में ऐसी स्थिर और मजबूत सरकार देगी जो न सिर्फ खराब हुए एक साल की खाई भरेगी बल्कि 15 साल में (कांग्रेस शासन) अधूरे रह गए सपनों को भी पूरी करेगी। लोकसभा चुनाव के दौरान किए गए वादों को

सरकार बनने पर पूरा नहीं करने के कांग्रेस के आरोप पर भी पलटवार करते हुए मोदी ने कहा कि चालीस साल से वोट पाने के लिए झूठे नारे दिए जाते रहे। चालीस साल पहले कांग्रेस ने गरीबी हटाओ का नारा दिया लेकिन जितनी तेजी से गरीबी हटाओ के नारे लगे, उतनी ही तेजी से गरीबी बढ़ी।

उन्होंने कहा कि इसी तरह 40 साल पहले ही कांग्रेस की सल्तनत ने बैंकों का राष्ट्रीयकरण यह कह कर किया कि बैंक अमीरों के कब्जे में हैं और उनसे गरीबों को कोई लाभ नहीं मिल रहा है। लेकिन बैंकों को सरकारी कब्जे में लेने के बाद उन्हें भ्रष्टाचार का अड्डा बना दिया गया। गरीबों के लिए उनके दरवाजे नहीं खुले।

मोदी ने कहा कि उनकी सरकार ने जनधन योजना के तहत बिना बैलेंस के गरीबों के खाते खुलवाने का कार्यक्रम शुरू किया जिसके तहत अब तक 11 करोड़ खाते खुल चुके हैं जबकि 26 जनवरी तक सात करोड़ खाते खोलने का ही लक्ष्य था। यही नहीं, इस योजना के तहत गरीबों का एक लाख रुपए का मुफ्त बीमा भी कराया गया है ताकि किसी के यहां अनहोनी होने पर उसके परिवार को यह राशि मिल सके।

उन्होंने कहा, 30-40 साल पहले हिंदुस्तान में यह राजनीति चलती थी कि झूठे नारे दो और गरीबों को भड़काने के लिए दो-चार अमीरों को गाली देकर अपना उल्लू सीधा करते रहो। लेकिन अब वक्त बदल गया है। दो-चार अमीरों को गाली देने से उल्लू नहीं सीधा होगा बल्कि आम आदमी सवाल कर रहा है कि मेरे लिए क्या किया, मेरा हिस्सा दो।

प्रधानमंत्री ने भ्रष्टाचार उन्मूलन के वादे को पूरा करने की दिशा में आगे बढ़ने का दावा करते हुए कहा कि सात महीने हो गए मुझे प्रधानमंत्री बने हुए, क्या किसी ने कोई शिकायत की, क्या विपक्ष सहित किसी ने आरोप लगाया? मैंने भ्रष्टाचार का विरोध किया। मैं जहां बैठता हूं, वहां से शुरू किया। अब धीरे धीरे सड़कों- गलियों तक यह जाएगा। आपको पैसे देने पड़ते हैं। आटो वाला भी ज्यादा पैसे लेता है।

जम्मू कश्मीर की जनता को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस बात की बधाई दी कि भारत विरोधी माहौल बनाने की अलगाववादियों की लाख कोशिशों के बावजूद उन्होंने हाल में हुए विधानसभा चुनाव में रेकार्ड मतदान करके दुनिया को जता दिया है कि भारतीय लोकतंत्र में उनका पूरा विश्वास है। उन्होंने कहा, एक समय ऐसा भी था जब जम्मू कश्मीर में दो फीसद मतदान भी नहीं हो पाता था, लेकिन पिछले महीने वहां हुए विधानसभा चुनाव में 65 से 70 फीसद तक मतदान हुआ। सरकार गठन को लेकर राज्य में अभी तक कायम गतिरोध के बारे में वे हालांकि खामोश रहे।

काले धन के मुद्दे पर भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि इस मामले में कार्रवाई करने में अंतरराष्ट्रीय संधियों के आड़े आने के कारण यह जटिल विषय है। लेकिन इन अंतरराष्ट्रीय संधियों का समाधान निकालने के बाद अपराधियों को उचित सजा दी जाएगी। उन्होंने संसद में महत्त्वपूर्ण विधेयकों को पारित नहीं होने देने के लिए विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि देश को विकास के रास्ते पर बढ़ने से रोकने की उनकी सारी कोशिशें बेकार साबित होंगी।

शाह ने कहा कि काला धन वापस लाना बहुत जटिल विषय है। विदेशों में जमा काला धन वापस लाना केवल भारत के हाथ में नहीं है क्योंकि कई अंतरराष्ट्रीय संधियां आड़े आ रही हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुनियाभर में काले धन के मुद्दे पर माहौल बनाया है और इस समस्या से निपटने के लिए अनेक देशों के बीच आम सहमति बनाई है। मैं आपको भरोसा दिलाता हूं कि एक बार अंतरराष्ट्रीय संधियों का समाधान निकाल लिया जाए तो भाजपा अपराधियों को उचित सजा दिलाएगी।

शाह ने अरविंद केजरीवाल को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि आप नेता प्रधानमंत्री बनने की उम्मीद में वाराणसी तक चले गए थे लेकिन जनता ने उन्हें वापस भेज दिया। लोगों से भाजपा सरकार बनाने के लिए वोट देने की अपील करते हुए उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी जो वादे करती है, उन पर कायम रहती है। शाह ने कहा कि लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान पार्टी ने जो वादे किए थे, उनमें से कुछ पूरे कर लिए गए हैं और अन्य पर काम शुरू हो गया है।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि उनकी पार्टी लोकसभा चुनावों के बाद से सभी चार चुनावों में सफल रही है। किसी ने जम्मू कश्मीर के ऐसे नतीजों की कल्पना नहीं की होगी। हमें अब तक की सर्वाधिक सीटें मिली हैं। केंद्र की भाजपा सरकार को उम्मीद का प्रतीक बताते हुए उन्होंने कहा कि सरकार विकास के रास्ते से नहीं हटेगी।

पाकिस्तान के साथ सीमा पर तनाव के बीच भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद से बड़ा बदलाव आया है क्योंकि पहले के विपरीत अब भारतीय सेना संघर्ष विराम उल्लंघनों का कड़ा जवाब दे रही है। मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद पाकिस्तानी सैनिकों की सीमा पार से गोलीबारी से निपटने के मामले में बड़ा बदलाव हुआ है। इससे पहले, पाकिस्तान गोलीबारी शुरू करता था और वही इसे खत्म भी करता था। लेकिन अब वे इसे शुरू करते हैं, लेकिन हम इसे खत्म करते हैं। यह अंतर है।

मोदी ने अमित शाह को पार्टी का अभी तक का सर्वाधिक सफल अध्यक्ष बता कर उनकी प्रशंसा की। रैली में महाराष्ट्र, हरियाणा और झारखंड में हाल ही में गठित भाजपा सरकारों का नेतृत्व करने वाले मुख्यमंत्रियों के अलावा केंद्रीय मंत्रियों में एम वेंकैया नायडू और पीयूष गोयल सहित पार्टी के कई नेता मौजूद थे।

 

24 घंटे बिजली, सबको छत

मोबाइल फोन सेवाओं की तरह ही जनता को अपनी पसंद की बिजली कंपनी चुनने की आजादी देंगे। मोबाइल कंपनियों की ही तरह इस कदम से बिजली कंपनियों में भी प्रतिस्पर्धा बढ़ेगी और बिजली के दाम अपने आप घट जाएंगे। साथ ही दिल्लीवासियों को 24 घंटे बिजली मुहैया कराएंगे। इससे दिल्ली जेनरेटर मुक्त हो जाएगी और पर्यावरण भी बेहतर होगा। 2022 तक सभी कच्ची बस्तियों को पक्के मकानों में बदल दिया जाएगा।
इशारों में साधा निशाना

कभी ऐसा नेता देखा है जो खुद कहे कि मैं अराजकतावादी हूं। अगर वे अराजकता चाहते हैं तो जंगलों में जाकर नक्सलियों के साथ जुड़ जाएं। दिल्ली में नक्सलवाद नहीं चलने दिया जा सकता। जिनको जो काम आता है, उन्हें वह काम दीजिए। जिन्हें फुटपाथ पर बैठने, धरना देने की आदत और मास्टरी हो, उन्हें वह मास्टरी करने दें और हमारी मास्टरी अच्छी सरकार बनाने की है, हमें वह करने दें।
हिसाब नहीं हिस्सा

30-40 साल पहले हिंदुस्तान में यह राजनीति चलती थी कि झूठे नारे दो और गरीबों को भड़काने के लिए दो-चार अमीरों को गाली देकर अपना उल्लू सीधा करते रहो। लेकिन अब वक्त बदल गया है। दो-चार अमीरों को गाली देने से उल्लू नहीं सीधा होगा बल्कि आम आदमी सवाल कर रहा है कि मेरे लिए क्या किया, मेरा हिस्सा दो।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App