ताज़ा खबर
 

ससुराल वालों से परेशान मुस्लिम महिला ने दी धमकी- हिंदू बन जाऊंगी

न्याय न मिलने से परेशान रेहाना, उसकी बच्ची और परिवार बुधवार को रेहाना की ससुराल पहुंच गए। हालांकि रेहाना के ससुरालवालों ने उसे घर के अंदर नहीं घुसने दिया। जिसके बाद रेहाना और उसका परिवार घर के बाहर धरने पर बैठ गया।
सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि अगर कोई पति एक बार में तीन तलाक बोलता है, तो अब विवाह समाप्त नहीं होगा। (Photo Source: Twitter)

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ के जमालपुर इलाके में पति और सुसरालवालों की प्रताड़ना और घर में न घुसने देने पर मुस्लिम महिला ने ससुराल वालों को धमकी दी है। महिला ने परिवारवालों को हिंदू धर्म अपना लेने की धमकी दी है। वहीं, इस मामले में हिंदू संगठन के दखल देने के कारण इलाके में तनाव उत्पन्न हो गया है। 30 साल की पीड़िता रेहाना ने कहा कि वह अपनी 4 साल की बेटी और अपने लिए इंसाफ चाहती है, लेकिन अगर यह अस्वीकार हो गया तो वह हिंदू धर्म में शामिल होने जैसे कदम उठा सकती है। पुलिस के मुताबिक रेहाना बुलंदशहर जिले की रहने वाली है और उसकी शादी 2012 में मोहम्मद शरीफ के साथ हुई थी। रिश्ते में तनाव आने के कारण वह अपनी बेटी के साथ माता-पिता के घर चली गई थी।

न्याय न मिलने से परेशान रेहाना, उसकी बच्ची और परिवार बुधवार को रेहाना की ससुराल पहुंच गए। हालांकि रेहाना के ससुरालवालों ने उसे घर के अंदर नहीं घुसने दिया। जिसके बाद रेहाना और उसका परिवार घर के बाहर धरने पर बैठ गया। इस देखकर मौके पर लोगों की भीड़ जमा हो गई। रेहाना का कहना है कि उस मामला ट्रिपल तलाक नहीं है।

एक अंग्रेजी अखबार से बातचीत में रेहाना ने अपने पति पर किसी महिला के साथ संबंध होने का आरोप लगाया था। उसने बताया था कि एक साल पहले वह रिश्तेदार की मौत पर अपने मां के घर गई थी और तब से लेकर अभी तक वह वहीं रह रही थी। जब उसने पति से घर वापस ले जाने के लिए कहा तो वकील आए और उन्होंने जल्द ही घर वापस ले जाने का भरोसा दिया और वापस नहीं आए। इसके बाद उसने खुद पति के घर जाने का फैसला किया। जब वह पति के घर पहुंची तो घर पर ताला लगा देखा। जिसके बाद पीड़िता पति के घर के सामने धरने के बाहर बैठ गई।

गौरतलब है कि पूरे देश भर में ट्रिपल तलाक, निकाह हलाला को लेकर चर्चा जारी है। यह मामला अब सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है। हाल ही में उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी की पत्नी सलमा अंसारी ने ट्रिपल तलाक को गैर-इस्लामिक करार दिया था। सलमा अंसारी ने कहा कि तीन तलाक के मुद्दे को लेकर भारत में महिलाओं को गुमराह किया जा रहा है। ऐसे में महिलाओं को अपनी शंका दूर करने के लिए खुद कुरान पढ़नी चाहिए। तीन तलाक पर उन्होंने कहा, कुरान में ऐसा कुछ भी नहीं है, लोगों ने इसे बिना बात के मुद्दा बना लिया है। जो महिलाएं इस पर बोल रहीं हैं, उन्होंने खुद इसके बारे में नहीं पढ़ा है।

 

 

“मुस्लिम संगठन भी कर रहे हैं वर्तमान तीन तलाक प्रक्रिया का विरोध”: कानून आयोग

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.