ताज़ा खबर
 

आरएसएस की इफ्तार पार्टी का मुस्लिम संगठनों ने किया बहिष्कार, बोले- गुनाह है ये

वहीं कुछ मुस्लिम संगठनों द्वारा इस पार्टी का बहिष्कार करने का फैसला कर लिया गया है। मुस्लिम संगठनों का कहना है कि राइट विंग ग्रुप के द्वारा इस तरह की पार्टी का जो आयोजन किया जा रहा है, उसका बहिष्कार किया जाना चाहिए।

मुस्लिम संगठनों ने किया आरएसएस की इफ्तार पार्टी का बहिष्कार (एक्सप्रेस आर्काइव फोटो)

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) द्वारा सोमवार को मुंबई में दी जा रही इफ्तार पार्टी में कई मुस्लिम संगठनों ने शामिल होने से इनकार कर दिया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक आरएसएस की इफ्तार पार्टी में करीब तीस मुस्लिम देशों के प्रतिष्ठित व्यक्ति शामिल हो सकते हैं। वहीं इस पार्टी में गैर-मुस्लिम समुदाय के भी करीब 100 लोग शिरकत करने वाले हैं।

आरएसएस की शाखा मुस्लिम राष्ट्रीय मंच (एमआरएम) द्वारा इस पार्टी का आयोजन किया जा रहा है। इस भव्य इफ्तार पार्टी में करीब 200 मुस्लिम नागरिकों को आमंत्रित किया गया है। एमआरएम के राष्ट्रीय संयोजक विराग पाचपोर का कहना है कि संघ यह संदेश देना चाहता है कि वह किसी भी समुदाय के विरोध में नहीं है, इसलिए इफ्तार पार्टी का आयोजन किया जा रहा है। उनका कहना है, ‘सच्चाई यह है कि आरएसएस शांति का पक्षधर है। वह चाहता है कि देश में मौजूद हर समुदाय के लोगों के बीच शांति, समृद्धि और भाईचारा बना रहे।’

वहीं कुछ मुस्लिम संगठनों द्वारा इस पार्टी का बहिष्कार करने का फैसला कर लिया गया है। मुस्लिम संगठनों का कहना है कि राइट विंग ग्रुप के द्वारा इस तरह की पार्टी का जो आयोजन किया जा रहा है, उसका बहिष्कार किया जाना चाहिए। इसके साथ ही यह भी कहा गया है कि जब तक आरएसएस अपनी एंटी मुस्लिम पॉलिसी को छोड़ नहीं देती, तब तक इस तरह की पार्टियों का बहिष्कार किया जाना चाहिए। रिपोर्ट्स के मुताबिक मुस्लिम संगठनों का कहना है कि आरएसएस इफ्तार पार्टी देकर मुस्लिम वोटरों को साल 2019 के चुनाव में बीजेपी के पक्ष में करना चाहता है। जिन समूहों द्वारा इस पार्टी का बहिष्कार किया गया है उनका कहना है कि मुस्लिम समुदाय के लोगों को गोहत्या और लव जिहाद के नाम पर बहुत सी परेशानियों का सामना करना पड़ा है। आरएसएस की इफ्तार पार्टी को गुनाह बताते हुए मुस्लिम समूहों ने इसमें न शामिल होने का फैसला किया है। इसके साथ ही उन्होंने दूसरे लोगों से भी संघ की इफ्तार पार्टी का बहिष्कार करने की अपील की है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App