योगी आदित्‍यनाथ सरकार के फरमान पर मुस्‍लिमों की मांग- आरएसएस के स्कूलों में भी मने ईद-बकरीद

राज्य सरकार ने हाल ही में एक फरमान जारी कर प्रदेश के सभी मदरसों में नई छुट्टियों को लेकर ऐलान किया है।

तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है।

उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ सरकार ने मदरसों को लेकर एक फरमान जारी किया है। मदरसों के लिए इसमें हिंदू त्यौहारों पर छुट्टी देने की बात कही गई है। मुस्लिम समुदाय की ओर से इस फरमान का स्वागत जरूर किया गया है। मगर सरकार के सामने एक खास मांग भी रखी गई है। मुस्लिमों का कहना है कि मदरसों की तरह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के स्कूलों में ईद और बकरीद जैसे त्यौहार मनाए जाने चाहिए। वहां भी अन्य धर्मों के बारे में बच्चों को शिक्षा दी जानी चाहिए। इसके साथ ही उनका कहना है कि रमजान के महीने के दौरान छुट्टियां कम नहीं की जानी चाहिए। आपको बता दें कि राज्य सरकार ने हाल ही में एक फरमान जारी किया था, जिसके तहत यहां के सभी मदरसों में नई छुट्टियों का ऐलान किया गया। जबकि, सरकार ने रमजान के दौरान 92 छुट्टियों को घटाकर 86 कर दी हैं। मुस्लिम धर्मगुरुओं और सामाजिक कार्यकर्ताओं ने नई छुट्टी बढ़ाने पर फैसले का स्वागत किया है। मगर रमजान पर मदरसों में छुट्टियां कम होने पर उन्होंने ऐतराज जताया। उनकी ओर से मांग की गई है कि मदरसों की तरह आरएसएस के स्कूलों में ईद-बकरीद जैसे त्यौहार मनाए जाने चाहिए।

सामाजिक कार्यकर्ता ताहिरा हसन ने इस बारे में एक न्यूज वेबसाइट से बात की। वह बोलीं, “यह फैसला अच्छा है। हम लोकतांत्रिक देश में रहते हैं। गंगा-जमुनी तहजीब यहां दिखती है। ऐसा अगर योगी जी कर रहे हैं तो अच्छा है।” लेकिन उन्होंने आगे कहा, “आरएसएस के स्कूलों में भी ईद, शबे-बरात को लेकर शिक्षा दी जानी चाहिए। वहां बताया जाना चाहिए कि ये त्यौहार क्यों मनाए जाते हैं। रमजान की छुट्टी कम करना ठीक नहीं है।”

वहीं, मुस्लिम धर्मगुरु सूफियान निजामी का कहना है, “पहले 92 छुट्टियां मिलती थीं, जो अब 86 रह गई हैं। सरकार इसमें बदलाव करे। मुस्लिमों के लिए यह महीना मायने रखता है। ऐसे में छुट्टियां घटाई नहीं जानी चाहिए। वैसे एक दूसरे के धर्म के बारे में जानना-समझना अच्छी बात है। शिशु मंदिर में ईद, बकरीद सरीखे त्यौहार के बारे में बताया जाना चाहिए।” राज्य में सभी मदरसे नवमी, दशहरा, दीपावली, रक्षाबंधन, बुद्ध पूर्णिमा और महावीर जयंती पर बंद रहेंगे। जबकि ईदमिलादुन्नबी की छुट्टी को एक दिन की जगह दो दिन का कर दिया गया है। मदरसा बोर्ड की ओर से यह फरमान जारी किया गया है।

अपडेट
X