ताज़ा खबर
 

VIDEO: फीता काटने के लिए नहीं मिली कैंची तो उखड़ गए मुरली मनोहर जोशी

भाजपा के वरिष्ठ नेता और सांसद मुरली मनोहर जोशी एक अधिकारी से उस वक्त नाराज हो गए जब उन्हें फीता काटने के लिए कैंची नहीं मिली। समाचार एजेंसी एएनआई ने एक वीडियो ट्वीट किया है, जिसमें मुरली मनोहर जोशी नराजगी जाहिर करते हुए नजर आ रहे हैं।

भाजपा के वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी की फाइल फोटो।

उत्तर प्रदेश के कानपुर में भाजपा के वरिष्ठ नेता और सांसद मुरली मनोहर जोशी एक अधिकारी से उस वक्त नाराज हो गए जब उन्हें फीता काटने के लिए कैंची नहीं मिली। समाचार एजेंसी एएनआई ने एक वीडियो ट्वीट किया है, जिसमें मुरली मनोहर जोशी नराजगी जाहिर करते हुए नजर आ रहे हैं। 1.9 मिनट के वीडियो में मुरली मनोहर जोशी कैंची न मिलने पर हाथ से ही पोल से बंधे फीते को खोलते हुए दिखते हैं और जब कैंची लाई जाती है तो वह अधिकारी पर भड़कते हुए दिखाई देते हैं। वह वीडियो में अधिकारी को खरी-खोटी सुनाते हुए दिखाई देते हैं। वह कानपुर की कलेक्ट्रेट में सौर ऊर्जा पैनल का उद्घाटन करने पहुंचे थे। वह जब मौके पर पहुंचे तो फीता काटने के लिए कैंची नहीं थी। इस पर उनसे रहा नहीं गया और नाराजगी में उन्होंने हाथ से ही फीता खोल दिया। बता दें कि अटल ज्योति योजना के तहत सांसद निधि से कानपुर में सौर ऊर्जा वाली लाइटें लगाई जानी है।

अटल ज्योति योजना के ही तहत गुरुवार (22 फरवरी) को कलेक्ट्रेट में उद्घाटन का कार्यक्रम रखा गया था, जिसमें मुरली मनोहर जोशी को फीता काटना था। कैंची न होने पर मुरली मनोहर जोशी ने जब हाथ से ही फीता निकाल दिया तो मौके पर मौजूद अधिकारी ने फिर से फीता लगाकर उन्हें मनाने की कोशिश की, लेकिन वह नहीं माने। वीडियो में मुरली मनोहर जोशी कहते हुए दिखते हैं- ”उद्घाटन हो गया” और वह वहां से चले जाते हैं।

घटना के बाद डीएम सुरेंद्र सिंह ने मीडिया को बताया कि अटल ज्योति योजना के तहत सौर ऊर्जा की लाइटें लगाई जानी हैं, इसी के तहत उद्घाटन करने के लिए सांसद जी कलेंक्ट्रेट आए थे। बता दें कि 2014 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को वाराणसी से चुनाव लड़ाने के कारण बीजेपी ने मुरली मनोहर जोशी को कानपुर से टिकट दिया था। मुरली मनोहर जोशी कानपुर से ही सांसद हैं। पिछले दिनों उन पर पत्रकारों पर भड़कने के भी आरोप लगे थे। मुरली मनोहर जोशी भाजपा में वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी के खेमे के माने जाते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App