ताज़ा खबर
 

मुंबई अस्‍पताल अग्निकांड: डिलीवरी ब्‍वॉय ने बचाईं 10 लोगों की जान, बना हीरो

मुंबई के अस्पताल में लगी भयंकर आग के दौरान स्विगी के 20 वर्षीय एक्जीक्यूटिव (डिलिवरी ब्वॉय) ने इंसानियत की मिसाल पेश करते हुए अपनी जान जोखिम में डालकर 10 लोगों की जान बचाई।

Author मुंबई | December 19, 2018 6:02 PM
(Photo-ANI)

मुंबई के अस्पताल में लगी भयंकर आग के दौरान स्विगी के 20 वर्षीय एक्जीक्यूटिव (डिलिवरी ब्वॉय) ने इंसानियत की मिसाल पेश करते हुए अपनी जान जोखिम में डालकर 10 लोगों की जान बचाई। स्विगी कर्मचारी सिद्धू हुमानाबाड़े खाना पहुंचाने जा रहा था जब वहां से गुजरते हुए उसने ईएसआईसी कामगार अस्पताल के ऊपरी तलों से धुआं निकलते हुए देखा। अपनी मोटरसाइकिल खड़ी कर उसने दमकल र्किमयों से पूछा कि क्या वह लोगों को बचाने में उनकी मदद कर सकता है। अधिकारियों की अनुमति मिलने पर वह अग्निशमनर्किमयों की सीढ़ियों की मदद से इमारत के चौथे तल पर पहुंचा और वहां फंसे कुछ मरीजों एवं आगंतुकों को सुरक्षित निकाला।

बहादुरी दिखाते हुए उसने घने धुंए से भरी जगह में प्रवेश किया और दो घंटे में 10 लोगों को सुरक्षित निकाला। हालांकि दमघोंटू धुएं के कारण वह बेहोश हो गया। फिलहाल उसका पास के सेवन हिल्स अस्पताल में इलाज चल रहा है। अस्पताल में पीटीआई-भाषा से बात करते हुए सिद्धू ने बताया कि लोगों को मदद की गुहार सुनकर वह खुद को रोक नहीं पाया।

उसने बताया, ‘‘मैं राहत अभियान में दमकल के र्किमयों के साथ शामिल हुआ। शुक्र है कि उन्होंने चौथी मंजिल तक जाने के लिए मुझे अपनी सीढ़ी का इस्तेमाल करने दिया। मैंने कुल्हाड़ी से इमारत का कांच तोड़ा और अंदर घुसा।’’ सिद्धू ने कहा कि उसने मरीजों से खिड़की के किनारे आने को कहा और उन्हें एक-एक कर नीचे उतारा।

उसने बताया, ‘‘एक मरीज मेरे हाथ से फिसल गई थी लेकिन खुशकिस्मती से वह बच गई।’’ केंद्रीय श्रम एवं रोजगार राज्य मंत्री संतोष गंगवार शहर के विभिन्न अस्पतालों में भर्ती पीड़ितों से मंगलवार को मुलाकात करने के साथ ही सिद्धू से भी मिले और उसकी सेहत का जायजा लेकर उसकी जरूरतें पूछी।
हाल ही में 12वीं कक्षा पास करने वाले सिद्धू ने कहा, ‘‘उनसे तारीफ पाना अच्छा लगा।’’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X