ताज़ा खबर
 

अखिलेश शिवपाल से मिलने उनके घर जाएंगे- मुलायम सिंह यादव

मुलायम ने इशारा किया कि अखिलेश यादव मंत्रिमंडल से निकाली गई गायत्री प्रजापति को दोबारा मंत्रिमंडल में शामिल किया जा सकता है।

देर रात मुलायम सिंह से मुलाकात के बाद पार्टी अध्यक्ष शिवपाल यादव ने जारी की थी लिस्ट

उत्तर प्रदेश की सियासी घटनाक्रम तेजी से बदल रहे हैं। सोमवार (12 सितंबर) से शुरू हुई राजनीतिक जंग शुक्रवार (16 सितंबर) को भी जारी है। शुक्रवार को सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने कहा कि राज्य के सीएम अखिलेश जल्द ही शिवपाल यादव से मिलने उनके घर जाएंगे। शिवपाल ने गुरुवार रात को मंत्रीमंडिल और पार्टी के सभी पदों से इस्तीफा दे दिया था। हालांकि सीएम अखिलेश ने उनका इस्तीफा स्वीकार नहीं किया है। पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए मुलायम ने इशारा किया कि अखिलेश मंत्रिमंडल से निकाले गए मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति को दोबारा मंत्रिमंडल में शामिल किया जा सकता है। इसके थोड़ी देर बाद ही शिवपाल यादव मुलायम से मिलने उनके घर पहुंचे।

जब मुलायम लखनऊ में सपा कार्यालय में कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रहे थे तो उसी समय अखिलेश एक टीवी कार्यक्रम में पार्टी और सरकार के बीच चल रही उठापटक पर जवाब दे रहे थे। अखिलेश ने कहा कि पार्टी के अंदर कोई मतभेद नहीं है और उन्होंने शिवपाल का इस्तीफा स्वीकार नहीं किया है। अखिलेश ने कहा कि उन्होंने और नेताजी (मुलायम सिंह यादव) ने फैसला किया है कि उनके बीच कोई “बाहरी” नहीं आएगा। अखिलेश ने कहा कि सारा झगड़ा “मुख्यमंत्री की कुर्सी की वजह” से है।

अखिलेश और शिवपाल के बीच जारी जंग की शुरुआत तब हुई जब 12 सितंबर को अखिलेश ने यूपी के मुख्य सचिव दीपक सिंघल को पद से हटा दिया। सिंघल को शिवपाल का करीबी माना जाता है। उसी दिन सीएम अखिलेश ने अपने दो मंत्रियों गायत्री प्रजापति और राज किशोर सिंह को मंत्रिमंडल से बाहर कर दिया। 13 सितंबर को मुलायम ने अखिलेश को हटाकर शिवपाल को पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष बना दिया। जिसके बाद अखिलेश ने उसी दिन शिवपाल यादव के सभी प्रमुख मंत्रालय छीन कर केवल सामाजिक कल्याण मंत्रालय उनके पास रहने दिया। तेजी से बदलते घटनाक्रम के दौरान दोनों पक्षों की तरफ से बयानबाजियों का दौर अभी जारी है।

पढ़िए चाचा-भतीजे के बीच कलह की शुरुआत कब और कैसे हुई-

21 जून 2016: समाजवादी पार्टी (सपा) के प्रांतीय प्रभारी और यूपी के वरिष्ठ कैबिनेट मंत्री शिवपाल सिंह यादव ने कौमी एकता दल के अध्यक्ष अफजाल अंसारी के साथ संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस में इस विलय का औपचारिक ऐलान किया था। उन्होंने कहा कि अंसारी पहले भी सपा में रह चुके हैं और अब वह अपने घर वापस आ गए हैं। सीएम अखिलेश यादव मंगलवार को जौनपुर गए थे। उनके लौटकर आने से इससे पहले ही यह विलय हो चुका था।

22 जून: अखिलेश को विलय की खबर मिली। उन्होंने वापस आते ही यूपी के माध्यमिक शिक्षा मंत्री बलराम सिंह यादव को बर्खास्त कर दिया है। बलराम सिंह उन प्रमुख नेताओं में शामिल थे जिन्होंने कौमी एकता दल का विलय करवाने में अहम रोल अदा किया था। बलराम सिंह यादव पर हुई कार्रवाई के बाद सवाल भी उठे थे कि क्या अखिलेश अपने चाचा शिवपाल के खिलाफ भी कोई एक्शन लेंगे। क्योंकि वह भी विलय के वक्त वहीं पर थे। इसी दिन शिवपाल ने सफाई भी दी थी कि विलय कौमी एकता दल का हुआ है मुख्तार अंसारी का नहीं।

25 जून: अखिलेश की नाराजगी के बीच फैसला आ गया कि कौमी एकता दल के साथ विलय नहीं होगा। उस वक्त अखिलेश ने एक टीवी इंटरव्यू मे कहा था, ‘यह फैसला मैंने नहीं लिया था। मुझे प्रदेश अध्यक्ष की हैसियत से मुख्यमंत्री की हैसियत से जिस प्लेटफार्म पर कहना होगा, मैं कहूंगा। मैंने कह दिया ना कि मुख्तार नहीं होंगे हमारी पार्टी में।’

28 जून: कौमी एकता दल के अध्‍यक्ष अफजाल अंसारी ने अखिलेश को ‘घमंडी सीएम’ बताया था। साथ ही उन्होंने चेतावनी दी थी कि विधानसभा चुनावों में पूर्वी उत्‍तर प्रदेश में कौमी एकता दल अखिलेश को सबक सिखाएगा। उन्होंने शिवपाल सिंह यादव को ‘भगवान हनुमान’ बता दिया। जो मुलायम सिंह यादव के निर्देशों का ‘भगवान राम’ के एक ‘भक्‍त’ की तरह पालन करते हैं।

15 अगस्त: दरअसल, शिवपाल सिंह यादव ने पार्टी छोड़ने का इशारा किया था। इसपर मुलायम सिंह यादव ने उनका समर्थन करते हुए अखिलेश को डांट लगाई थी। उन्होंने कहा था कि अगर शिवपाल पार्टी छोड़ गए तो पार्टी टूट जाएंगे।

16 अगस्त: अखिलेश यादव के चाचा शिवपाल यादव ने कहा, ‘सब मंत्री गड़बड़ कर रहे हैं। असल कार्यकर्ताओं की उपेक्षा हो रही है।’ उन्होंने आरोप लगाया था कि सपा में खुशामद का दौर है। असल कार्यकर्ताओं की उपेक्षा हो रही है।

12 सितंबर: यूपी के सीएम अखिलेश यादव ने भ्रष्चाचार के आरोप में अपने दो मंत्रियों गायत्री प्रजापति और राजकिशोर सिंह को मंत्रिमंडल से बर्खास्त कर दिया है। दोनों मंत्रियों को मुलायम सिंह यादव का करीबी बताया जाता है।

13 सितंबर: पार्टी अध्‍यक्ष मुलायम सिंह यादव ने मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की जगह शिवपाल सिंह यादव को पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष बना दिया। 13 सितंबर को ही अखिलेश ने चाचा शिवपाल से तीन मंत्रालय वापस ले लिए थे।

14 सितंबर: शिवपाल सिंह यादव ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके साफ किया कि वह मुलायम सिंह यादव से बात करके आगे कोई फैसला लेंगे।

15 सितंबर: समाजवादी पार्टी से राज्यसभा सांसद रामगोपाल यादव ने बिना किसी का नाम लिए कहा कि एक आदमी पार्टी का नुकसान करने पर तुला हुआ है। साथ ही उन्होंने अखिलेश यादव को प्रदेश अध्यक्ष के पद से हटाए जाने को भी गलत बताया। इसी दिन शिवपाल सिंह यादव ने पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष के पद के साथ बाकी सभी पदों से इस्तीफा दे दिया था। अखिलेश ने उनका मंत्री पद से इस्तीफा नामंजूर कर दिया।

16 सितंबर: शिवपाल घर के बाहर प्रदर्शन कर रहे अपने समर्थकों से मिले। वे सब ‘शिवपाल को न्याय दो’ और ‘रामगोपाल को बाहर करो’ के नारे लगा रहे थे। शिवपाल ने सबको मुलायम सिंह यादव के पास जाने की सलाह दी। मुलायम सिंह यादव ने पत्रकारों से कहा कि अखिलेश शिवपाल के घर जाकर मिलेंगे। मुलायम के इस बयान के बाद शिवपाल उनके घर पर मुलाकात के लिए गए। उधर इस दौरान एक टीवी कार्यक्रम में शिरकत कर रहे अखिलेश ने कहा कि उन्होंने और नेताजी ने मिलकर फैसला किया है कि वो किसी “बाहरी” को अपने बीच नहीं आने देंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App