ताज़ा खबर
 

मुलायम स‍िंंह यादव के घर अफसरों का धावा: नहीं चुकाया 4 लाख का बि‍जली ब‍िल, तय लोड से आठ गुना ज्‍यादा हो रही थी खपत

मुलायम सिंह यादव के उस घर में 12 से ज्यादा कमरे हैं, वहां निजी एयर कंडीशन प्लांट, एक तापमान नियंत्रित स्वीमिंग पूल और कुछ एलिवेटर भी हैं।
मुलायम सिंह यादव खुद यूपी के नए सीएम हो सकते हैं।

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी (सपा) के मुखिया मुलायम सिंह यादव के एक घर पर गुरुवार (20 अप्रैल) को बिजली विभाग ने छापा मारा। मुलायम सिंह यादव के उस घर में बिजली के तय वॉट से ज्यादा पॉवर का इस्तेमाल किया जा रहा था। खबरों के मुताबिक, घर के मीटर पर 5kW का लोड मान्य था लेकिन वहां उससे आठ गुना ज्यादा चलाया जा रहा था। इसके लिए उन्हें 4 लाख रुपए का बकाया बिल भरना होगा जो कि बकाया है। इसके लिए मुलायम सिंह यादव को महीने के अंत तक का वक्त दिया गया है। जिस घर में बिजली के ज्यादा इस्तेमाल का मामला सामने आया वह इटावा के सिविल लाइन्स इलाके में है। वह इलाके के सबसे बड़े घरों में से एक है। मुलायम सिंह यादव के उस घर में 12 से ज्यादा कमरे हैं, वहां निजी एयर कंडीशन प्लांट, एक तापमान नियंत्रित स्वीमिंग पूल और कुछ एलिवेटर भी हैं।

गौरतलब है कि मार्च से पहले मुलायम सिंह यादव के बेटे अखिलेश यादव साल 2012 के मार्च से साल 2017 तक राज्य के मुख्यमंत्री थे। तब इनमें से किसी अधिकारी की हिम्मत मुलायम सिंह के इटावा स्थित घर में दस्तक देने की नहीं थी लेकिन जैसे ही राज्य में भाजपा की सरकार आई है, ये अधिकारी भी हरकत में आ गए हैं। जिस वक्त ये अधिकारी वहां पहुंचे थे, उस वक्त मुलायम सिंह लखनऊ में थे।

आपको बता दें कि मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ ने एक महीने के कार्यकाल में यह संदेश देने की कोशिश की है कि राज्य में कानून का राज है। वो खुद सभी विभाग के अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक कर रहे हैं और अधिकारियों को जरूरी दिशा निर्देश दे रहे हैं। योगी ने राज्य में बिजली की स्थिति सुधारने का भी फरमान जारी किया है। सरकारी आदेश के मुताबिक सभी शहरों और जिला मुख्यालयों में 24 घंटे, तहसीलों में 22 घंटे और गांवों में 18 घंटे बिजली देने का फैसला हुआ है। इस फैसले की भी पहली मार इटावा स्थित मुलायम सिंह के पैतृक गांव सैफई पर पड़ी जहां 24 घंटे रहने वाली बिजली में कटौती कर दी गई।

देखिए संबंधित वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.