ताज़ा खबर
 

एमपी : डीपीसी मांग रहे पैसे और स्मार्ट लड़कियां, शिक्षिकाओं ने कहा कैसे पढ़ाऊं, कलेक्टर से कार्रवाई की गुहार

मध्यप्रदेश के हरदा जिले की तीन शिक्षिकाओं ने कलेक्टर से शिकायत की है कि डीपीसी उनसे वेतन का एक हिस्सा और स्मार्ट लड़कियों की मांग कर रहे हैं। शिक्षिकाओं ने मामले की जांच कराकर कार्रवाई की मांग की है। उनका कहना है कि डीपीसी उनको प्रताड़ित कर रहे हैं।

Author हरदा | Updated: September 22, 2019 1:25 PM
प्रतीकात्मक तस्वीर (फोटो सोर्स – इंडियन एक्सप्रेस)

मध्यप्रदेश के हरदा जिले के सरकारी स्कूलों की तीन शिक्षिकाओं ने डीपीसी पर गंभीर आरोप लगाया है। उन्होंने जिला कलेक्टर से इन आरोपों की जांच कर कार्रवाई करने की मांग की है। इनमें वेतन का कुछ हिस्सा मांगने और हॉस्टल की स्मार्ट लड़कियां लाने जैसे आरोप शामिल हैं। हालांकि डीपीसी ने शिकायतों को आधारहीन बताते हुए कहा कि शिक्षिकाएं खुद अनियमितता बरतने की दोषी हैं। उन पर कार्रवाई होने वाली है। इसी से बचने के लिए वे ऐसे आरोप लगा रही हैं।

पढ़ाई-लिखाई करा पाना मुश्किल : शिक्षिकाओं ने जिला कलेक्टर से कहा है कि डीपीसी के रवैए से पढ़ाई-लिखाई करा पाना मुश्किल हो रहा है। वे अपनी मांग नहीं मानने पर प्रताड़ित करते हैं। उन्होंने डीपीसी पर कार्रवाई की गुहार लगाई।

वेतन और स्मार्ट लड़कियों की मांग : शासकीय प्राथमिक शाला गुठानिया, शासकीय हाईस्कूल खामा पड़वा और शासकीय माध्यमिक शाला मगरधा की शिक्षिकाओं का कहना है कि दो दिन पहले डीपीसी डॉ. आरएस तिवारी ने अपने कार्यालय में बुलाया था। उन्होंने कहा कि तुम लोग अपने वेतन का एक हिस्सा मुझे दो, नहीं तो तुम लोगों का वेतन रोक दूंगा। उन्होंने छात्रावास की स्मार्ट लड़कियों को भी ले आने को कहा।

National Hindi News, 22 September 2019 LIVE Updates: देश की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

स्कूलों का प्रदर्शन बेहतर के बावजूद प्रताड़ना : शिक्षिकाओं का आरोप है कि उनके स्कूलों का दक्षता उन्नयन बेहतर है। वाल ऑफ फेम में स्कूल को कांस्य श्रेणी में रखा गया है। इसके बाद भी उन्हें प्रताड़ित किया जा रहा है। शिक्षिकाओं ने जिला कलेक्टर और थाने में शिकायत कर कार्रवाई की मांग की।

Uttar Pradesh Rains, Weather Forecast Today Live Updates: उत्तर प्रदेश में आई बाढ़ की खबरों के लिए क्लिक करें

खुद को बचाने के लिए लगाए आरोप: मामले में डीपीसी डॉ. आरएस तिवारी का कहना है कि दो शिक्षिकाओं पर पढ़ाने के साथ-साथ छात्रावास का भी प्रभार है। गड़बड़ियों की वजह से उनके हटाने की कार्रवाई की जा रही है। तीसरी शिक्षिका पर मध्याह्न भोजन का गेहूं बेचने का आरोप है। इन सब की वजह से तीनों पर कार्रवाई होनी है। उनसे बचने के लिए तीनों इस तरह के निराधार आरोप लगा रहे हैं।

पुलिस कर रही जांच  : सिटी कोतवाली के एसआई उम्मेद सिंह ने कहा कि शिक्षिकाओं ने जो शिकायतें की हैं, उनकी जांच की जा रही है। दोनों पक्षों का बयान लिए जाएंगे। उसके बाद जो भी दोषी होगा, उसके खिलाफ जिला कलेक्टर कार्रवाई करेंगे। फिलहाल कोतवाली में सिर्फ शिकायतें आई हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories