ताज़ा खबर
 

दिग्विजय सिंह और कमलनाथ नाग हैं, पर ज्योतिरादित्य सिंधिया शेर- Congress से BJP में आईं इमरती देवी का पलटवार

बकौल इमरती देवी, "ज्योतिरादित्य सिंधिया ने तो जनता के लिए और किसानों के लिए एक पार्टी को समर्थन किया है। वो नाग नहीं शेर हैं। नाग तो वो हैं जो डंस डंसकर अपनी पार्टियां ही फेल कर रहे हैं।"

Imarti Devi, BJP, Jyotiraditya Scinda, Lion, Congressज्योतिरादित्य सिंधिया भी पहले Congress में थे, पर बाद में वह पार्टी की कार्यशैली से खफा होकर BJP में आ गए थे। (फोटोः एजेंसी)

Congress नेता अरुण यादव द्वारा ज्योतिरादित्य सिंधिया पर तंज कसते हुए नागपंचमी वाले ट्वीट पर मध्य प्रदेश सरकार में कबीना मंत्री इमरती देवी ने पलटवार किया है। शनिवार को उन्होंने कहा दिग्विजय सिंह और कमलनाथ के साथ अरुण यादव को भी नाग करार दिया। कहा कि ये लोग अपनी ही पार्टी को खा रहे हैं।

वहीं, उन्होंने कांग्रेस से BJP में आए सूबे के कद्दावर नेता सिंधिया को शेर बताया। बता दें कि इमरती देवी पहले कांग्रेस में थीं, जबकि मौजूदा समय में वह बीजेपी का हिस्सा हैं और म.प्र में महिला-बाल विकास मंत्री हैं।

दरअसल, नागपंचमी के मौके पर @MPArunYadav ने ट्वीट सिंधिया का फोटो ट्वीट करते हुए सभी को नागपंचमी की शुभकामनाएं दी थीं। उन्होंने इस ट्वीट में #NaagPanchami के साथ सांप के चिह्न वाले ईमोजी का इस्तेमाल किया था। ऐसे में समझा जा सकता है कि यादव ने बिना किसी का नाम नहीं लिए ही सिंधिया के लिए सांप शब्द का इस्तेमाल किया।

यादव के नागपंचमी की बधाई वाले ट्वीट पर पलटवार करते हुए इमरती देवी ने समाचार एंजेसी एएनआई से कहा- पहले वो (कांग्रेसी) अपनी पार्टी में एकता बना लें। दिग्विजय सिंह नाग हैं, कमलनाथ नाग हैं या अरूण यादव नाग हैं। वो तो अपनी ही पार्टी को खा रहे हैं।

बकौल इमरती देवी, “ज्योतिरादित्य सिंधिया ने तो जनता के लिए और किसानों के लिए एक पार्टी को समर्थन किया है। वो नाग नहीं शेर हैं। नाग तो वो हैं जो डंस डंसकर अपनी पार्टियां ही फेल कर रहे हैं।”

‘आपदा ड्यूटी में आँगनवाड़ी कार्यकर्ता और सहायिका की मौत पर परिवार की महिला सदस्य को नौ‍करी’: कबीना मंत्री इमरती देवी ने शनिवार को कहा कि राष्ट्रीय या राज्य स्तरीय आपदा प्रबंधन अधिनियम के अंतर्गत प्रदेश में काम करने वाली आंगनवाड़ी कार्यकर्ता एवं सहायिका की काम के दौरान मृत्यु होने पर उसके परिवार की महिला सदस्य को आँगनवाड़ी कार्यकर्ता एवं सहायिका के पद पर नियुक्ति दी जायेगी।

उन्होंने कहा कि वर्तमान में महामारी कोविड-19 में आँगनवाड़ी कार्यकर्ता एवं सहायिका भी कोरोना योद्धा के रूप में कार्य कर रही है। देवी ने बताया, ‘‘आंगनवाड़ी कार्यकर्ता एवं सहायिका की कोविड-19 ड्यूटी के दौरान मौत होने पर या भविष्य में राष्ट्रीय या राजकीय आपदा घोषित होने पर ड्यूटी के दौरान अगर उनकी मौत होती है तो निर्धारित अर्हताएं पूरी करने पर उनके परिवार की महिला सदस्यों को सीधे नियुक्ति किया जाएगा।”

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Bhopal Lockdown Guidelines: जिले में कौन आ सकता है और कौन नहीं, जानिए ई-पास से जुड़ी जरूरी बातें
2 UP: अब शापिंग मॉल में मिलेगी विदेशी शराब, पर परिसर में नहीं मिलेगी पीने की अनुमति
3 UP: योगी आदित्यनाथ सरकार ने बदला कानपुर का एसएसपी, 14 और आईपीएस अफसरों का भी तबादला
IPL 2020 LIVE
X