ताज़ा खबर
 

मध्य प्रदेश में बारिश पर सियासत, सीएम कमलनाथ ने विरोधियों पर कसा तंज, बोले- अब इंद्र देवता मेहरबान

मुख्यमंत्री कमल नाथ ने अपने ट्विटर हैंडल से एक ट्वीट किया जिसमें उन्होंने लगे हाथ विरोधियों पर भी तंज कस दिया। उन्होंने बारिश को जनता के लिए सबकुछ अच्छा होने की संभावना का संकेत बताया।

Author भोपाल | Published on: September 9, 2019 3:40 PM
मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमल नाथ (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

मध्य प्रदेश में शुरुआती दौर में मॉनसून कमजोर रहने के बाद लगातार बारिश का दौर जारी है। मूसलाधार बारिश के चलते राज्य के कई इलाकों में दो से तीन बार बाढ़ जैसे हालात बन गए। इस सीजन में पर्याप्त बारिश को लेकर मुख्यमंत्री कमल नाथ ने अपने ट्विटर हैंडल से एक ट्वीट किया जिसमें उन्होंने लगे हाथ विरोधियों पर भी तंज कस दिया। उन्होंने बारिश को जनता के लिए सबकुछ अच्छा होने की संभावना का संकेत बताया।

‘चारों ओर पानी-पानी, सारा सूखा खत्म’: प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष और राज्य सरकार के मुखिया कमल नाथ ने सोमवार (9 सितंबर) को ट्वीट करते हुए लिखा, ‘वैसे तो बारिश से राजनीति का कोई लेना-देना नहीं होता है लेकिन कुछ लोगों ने इसे राजनीति और हमारी सरकार से जोड़ दिया। उस दिन से ही इंद्र देवता प्रदेश पर इतने मेहरबान हैं कि बरसात रूक ही नहीं रही है। चारों ओर पानी-पानी, सारा सूखा खत्म। संदेश आ गया कि प्रदेश में अब सब अच्छा-अच्छा ही होगा।’

नदियां-बांध सब लबालबः गौरतलब है कि राज्य में जुलाई और अगस्त के बाद अब सितंबर में भी भारी बारिश का दौर जारी है। राज्य के अधिकांश जिलों में नदी-नाले उफान पर चल रहे हैं। कई नदियां खतरे के निशान के आसपास बह रही हैं। चंबल-नर्मदा समेत सभी छोटी-बड़ी नदियों में भरपूर पानी है। राज्य के सबसे बड़े बांधों में शुमार खंडवा के इंदिरा सागर जलाशय में 20 में से 12 गेट खोले जा चुके हैं। कमोबेश ऐसा ही हाल मंदसौर जिले में स्थित गांधी सागर बांध का भी है।

National Hindi News, 9 September 2019 LIVE News Updates: देश-दुनिया की तमाम अहम खबरों के लिए क्लिक करें

Weather Forecast Today Live Latest News Updates: पढ़ें देशभर के मौसम का हाल

कथित तौर पर कुछ बीजेपी नेताओं ने शुरुआती मॉनसून कमजोर रहने के बाद राज्य में अरसे बाद सत्ता में लौटी कांग्रेस सरकार को निशाने पर लिया था। इसी के जवाब में कमल नाथ ने यह ट्वीट किया है। वैसे विरोधियों के निशाने के बाद इन दिनों राज्य में कांग्रेस के अंदरूनी हालात भी ठीक नहीं दिख रहे हैं। खेमेबाजी की पुरानी समस्या से पार्टी एक बार फिर जूझती हुई नजर आ रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 मध्य प्रदेशः भारी बारिश से हरदा की जेल में घुसा पानी, कैदियों को बैरक से निकालना पड़ा, बने बाढ़ जैसे हालात
2 दिल्ली पीसीआर नंबर 112 पर एक दिन में आ रहीं साढ़े 3 लाख शिकायतें, कॉलर्स बोले- 10 रुपए का रिचार्ज करा दो
3 दिल्ली-अलवर RRTS कॉरिडोरः पहले चरण के काम ने राजीव चौक पर पकड़ी रफ्तार, 106 किमी के रास्ते में होगी 70 मिनट की बचत