ताज़ा खबर
 

कब तक सीता को रुबिया बनने देंगे…, लव जिहाद कानून पर बोले मध्य प्रदेश के प्रोटेम स्पीकर

मध्य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्र ने कहा है कि 'लव जिहाद' के खिलाफ सख्त कानून बनाने के लिए प्रदेश सरकार अगले विधानसभा सत्र में एक विधेयक लाएगी।

love jihad national newsमध्य प्रदेश विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा। (एएनआई)

मध्य प्रदेश में लव जिहाद के खिलाफ विधेयक लाने के बीच प्रदेश विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा ने प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने बुधवार (18 नवंबर, 2020) को कहा कि पाकिस्तान और आईएसआई एजेंट सीता को रूबिया में बदलने की साजिश रच रहे हैं। सीता को कब तक मरने दिया जाएगा? उन्होंने कहा कि मुझे नरगिस और सुनील दत्त की तरह सच्चा प्रेम दिखाओ। मुझे बताओ कि कितनी नरगिस ने सुनीत दत्त विवाह किया है?

प्रोटेम स्पीकर ने न्यूज एजेंसी एएनआई से कहा कि एमपी में शिवराज चौहान सरकार ने लव जिहाद पर कानून बनाने का निर्णय लिया है। कानून के संदर्भ में गृह मंत्री ने ब्रीफिंग भी दी है। उन्होंने कहा कि लव जिहाद कानून को और भी सख्त बनाए जाने की जरुरत है। इस कानून में हम अधिक सजा के प्रावधान पर विचार करेंगे।

बकौल शर्मा जिन लड़कियों को डरा धमकाकर धर्म बदलवाया जाता है, ऐसे लोगों पर धर्म बदलने की कार्रवाई के साथ अपहरण, लूट और अन्य तरह की धाराएं भी लगाई जानी चाहिए। ऐसे मामलों में जिन सहयोगियों की मदद से पीड़िता को धमकाया या फुसलाया जाता है, उनके खिलाफ अपराधिक कार्रवाई हो। अगर बेटी के साथ गैंग रेप या रेप होता है या हत्या होती है इसके मामले भी सह आरोपी पर दर्ज हो।

उल्लेखनीय है कि मध्य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्र ने मंगलवार को कहा कि ‘लव जिहाद’ के खिलाफ सख्त कानून बनाने के लिए प्रदेश सरकार अगले विधानसभा सत्र में एक विधेयक लाएगी। मिश्र ने कहा कि ‘लव जिहाद को गैर जमानती अपराध घोषित कर मुख्य आरोपी और इसके सहभागियों को पांच साल की कठोर कारावास की सजा का प्रावधान किया जा रहा है। उन्होंने यहां संवाददाताओं को बताया, ‘धर्मांतरण करवा कर विवाह अब बहुत तेजी से चल रहा है। इसको आपकी भाषा में लव जिहाद कहते हैं। विधानसभा में हम ‘मध्यप्रदेश धर्म स्वातंत्र विधेयक-2020′ लाने की तैयारी कर रहे हैं । इसे हम अगले सत्र में विधानसभा में ला रहे हैं।’

मंत्री ने कहा, ‘प्रलोभन, बहकावा, धोखाधड़ी एवं बलपूर्वक शादी कर धर्मान्तरण कराने पर पांच साल के कठोर कारावास का प्रावधान इस विधेयक में हम हम रख रहे हैं।’ उन्होंने बताया कि इस विधेयक में यह अपराध संज्ञेय तथा गैर जमानती होगा। उन्होंने कहा, ‘इसी तरह से प्रलोभन, बलपूर्वक, धोखाधड़ी तथा बहकावे में धर्मान्तरण के लिए किए गए विवाह को अमान्य घोषित किए जाने का भी प्रावधान इसमें हम कर रहे हैं।’

मिश्र ने बताया, ‘इस विधेयक में अपराध घटित करने वाले का सहयोग करने वाले व्यक्तियों को भी अपराध घटित करने का मुख्य व्यक्ति की तरह ही आपराधिक सहभागिता माना जाएगा।’ उन्होंने कहा कि विधेयक में कार्रवाई के लिए धर्मान्तरण के लिए बाध्य किए गए व्यक्ति अथवा उसके माता-पिता अथवा भाई-बहन को शिकायत करना आवश्यक होगा। (एजेंसी इनपुट)

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 मध्यप्रदेश में शिवराज चौहान ने बनाई ‘गोकैबिनेट’, गोपाअष्टमी पर होगी पहली बैठक; जानें क्या होगा खास
2 दिल्ली से नोएडा आने वालों की बुधवार से होगी औचक कोविड-19 जांच, आवाजाही पर नहीं होगी रोक
3 नवंबर में बैठकर मार्च वाली बात क्यों कर रही है केजरीवाल सरकार, आतिशी के जवाब पर महिला डॉक्टर ने लगा दी क्लास
यह पढ़ा क्या?
X