ताज़ा खबर
 

मौसम विभाग ने की मानसून केरल पहुंचने की घोषणा, उत्तर भारत को अभी कोई राहत नहीं

मौसम विभाग ने पहले ही मानसून में 6-7 दिन की देरी की भविष्यवाणी की थी। मानसून के आगमन पर केंद्रीय विज्ञान व प्रौद्योगिकी मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने ट्विट कर खुशी जाहिर की।

Author नई दिल्ली | June 9, 2016 02:10 am
बुधवार को केरल में मानसून की बौछारों के साथ ही देश में मानसून के आगमन का इंतजार आखिरकार खत्म हुआ।

बुधवार को केरल में मानसून की बौछारों के साथ ही देश में मानसून के आगमन का इंतजार आखिरकार खत्म हुआ। भारतीय मौसम विभाग (आइएमडी) ने दक्षिण-पश्चिम मानसून के केरल में पहुंचने की आधिकारिक घोषणा कर दी है। मौसम विभाग ने कहा है कि देश के अंदर मानसून के गति पकड़ने की स्थितियां अनुकूल हैं और अगले कुछ दिनों में इसके केरल के शेष भागों और दक्षिण भारत के अन्य क्षेत्रों में पहुंचने की संभावना है। हालांकि, मध्य और उत्तर पश्चिम भारत में फिलहाल कुछ दिनों तक गर्मी से कोई राहत नहीं मिलने वाली।

दक्षिण-पश्चिम मानसून ने सात दिनों की देरी के बाद बुधवार को केरल में दस्तक दी। मौसम विभाग ने पहले ही मानसून में 6-7 दिन की देरी की भविष्यवाणी की थी। मानसून के आगमन पर केंद्रीय विज्ञान व प्रौद्योगिकी मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने ट्विट कर खुशी जाहिर की। हालांकि, केरल में पिछले कुछ दिनों से अच्छी बारिश हो रही थी लेकिन मानसून आगमन के सारे मापदंड पूरे नहीं हो पा रहे थे। 8 जून को ये सभी मापदंड पूरे हो गए।

मौसम विभाग में वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉक्टर डी एस पई ने कहा, ‘मानसून अगले दो दिनों में तटीय कर्नाटक पहुंच जाएगा और पूर्वानुमान है कि अगले पांच दिनों में महाराष्ट्र के तटीय इलाकों में पहुंचे। एक बार देश के तटीय इलाकों के मानसून के दायरे में आने के बाद इसके और आगे अंदरूनी भागों में बढ़ने का पूर्वानुमान लगाया जाएगा।’ मौसम विभाग के अनुसार अगले 48 घंटों में केंद्रीय अरब सागर के कुछ भागों, तटीय कर्नाटक, केरल के शेष हिस्सों और तमिलनाडु, दक्षिण आंतरिक कर्नाटक के कुछ और भागों में, दक्षिण आंध्र प्रदेश के कुछ भागों और बंगाल की खाड़ी के मध्य हिस्सों में दक्षिण पश्चिम मानसून के आगे बढ़ने के लिए स्थिति अनुकूल है।

मानसून आगमन के बीच मध्य और उत्तर पश्चिम भारत को भीषण गर्मी से फिलहाल कोई राहत नहीं है। बुधवार को भी राजस्थान और मध्य प्रदेश के कई हिस्से भीषण गर्मी और लू की चपेट में रहे। राजस्थान के चुरू में 7 जून को अधिकतम तापमान 48.2 डिग्री दर्ज किया गया।

मौसम विभाग के अनुसार अगले 2-3 दिनों तक तापमान में कोई विशेष बदलाव की संभावना नहीं है। पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश में लू की स्थिति नहीं है लेकिन तापमान 40 डिग्री सेल्सियस के आसपास बना रहेगा और आर्द्रता रहेगी। वहीं उत्तर-पूर्वी और प्रायद्वीपीय भारत के कई हिस्से मानसून-पूर्व बारिश की बौछारों का आनंद ले रहे हैं और यह स्थिति जारी रहेगी। वहीं, हिमाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में अगले एक दो दिन में आंधी-पानी के आसार हैं। उत्तराखंड में 11 और 12 जून को भारी बारिश हो सकती है।

मौसम विभाग द्वारा जारी पूर्वानुमान के अनुसार देश भर में 2016 का मानसून सामान्य से अधिक रहने की उम्मीद है। मौसम विभाग के अनुसार जून में मानसून की रफ्तार थोड़ी कम रहेगी, लेकिन जुलाई से तेजी आएगी। जून से सितंबर तक औसतन 106 फीसद बारिश की संभावना बताई गई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App