ताज़ा खबर
 

बीजेपी सांसद बैठे उपवास पर तो कांग्रेस पूर्व सांसद बोले सब नौटंकी

विपक्ष द्वारा लोकसभा न चलने देने के खिलाफ भाजपा सांसद पूरे देश में लोकतंत्र बचाओ के तहत एक दिवसीय उपवास पर हैं।
Author कानपुर | April 12, 2018 22:37 pm
विपक्ष द्वारा लोकसभा न चलने देने के खिलाफ भाजपा सांसद पूरे देश में लोकतंत्र बचाओ के तहत एक दिवसीय उपवास पर हैं।

विपक्ष द्वारा लोकसभा न चलने देने के खिलाफ भाजपा सांसद पूरे देश में लोकतंत्र बचाओ के तहत एक दिवसीय उपवास पर हैं। इसी क्रम में गुरुवार को कचहरी स्थित चेतना चौराहे पर सांसद देवेन्द्र सिंह भोले के नेतृत्व में भाजपाइयों ने उपवास रख कांग्रेस पर जमकर हमला बोला। इसी तरह मिश्रिख सांसद अंजू बाला ने बिल्हौर में उपवास रख कहा कि विपक्ष सदन में हो-हल्ला करके चर्चा करने के लिये तैयार नहीं है। विपक्ष सदन चलने नहीं दे रहा है, जिससे देश के विकासपरक मुद्दों पर चर्चा नहीं हो पा रही है। सदन में चर्चा नहीं होगा तो देश का धन बर्बाद होगा। उपवास पर बैठे नेताओं का कहना है कि कांग्रेस और विपक्षी पार्टियों ने संसद को चलने नहीं दिया,जिसके कारण हमें उपवास करना पड़ रहा है।लोकसभा में लगातार विरोध किए जाने से नाराज भाजपाइयों ने गुरूवार को चेतना चौराहे पर उपवास किया।इस मौके पर सांसद देवेंद्र सिंह भोले ने करीब-करीब सभी पूर्व अध्यक्षों को एकजुट कर अपनी ताकत का एहसास कराया।

इस मौके पर भाजपा नेताओं ने कांग्रेस को कठघरे में खड़ा किया और उस पर संसद को न चलने देने का आरोप लगाया।भाजपा नेताओं ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चार वर्ष की उपलब्धियों का भी उपवास के दौरान खुलकर जिक्र किया। सांसद भोले ने कहा कि इस समय देश में सबके मान सम्मान की रक्षा करने वाली मजबूत सरकार है। जिसने चीन जैसे देश को पीछे लौटने पर मजबूर कर दिया है। ऐसी लोकप्रिय सरकार के खिलाफ विपक्षी दल एकजुट होकर समाज को बांटने की कोशिश कर रहे है। सभी विपक्षी दल लोकसभा या राज्य सभा में हंगामा करके सदन नहीं चलने देते है। जिसके चलते प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के निर्देश पर विपक्षी दलों को सद्बुद्धि देने के लिए सामूहिक उपवास किया गया है। सांसद ने आरोप लगाते हुए कहा कि विगत दिनों कांग्रेस ने जिस तरह संसदीय लोकतंत्र को तार-तार कर संसद को ठप करने का घृणित प्रयास किया है, वह निंदनीय है। कहा कि संसद चर्चा के लिये है लेकिन हाल में समाप्त हुए बजट सत्र के दूसरा भाग एक महीना बाधित हुआ जो कि दुर्भाग्य है।

इस सत्र में सदन में कई बिल थे जिन पर चर्चा होनी थी। उन्होंने सवालिया लहजे में कहा कि कांग्रेस ने दलितों के लिये क्या किया है, ये किसी से छिपा नहीं है। हमने दलितों के उत्थान के लिये सरकार बनने से अभी तक कई योजनाएं लागू की है। सबसे ज्यादा लोन दलितों को दिया गया है। लेकिन कांग्रेस को पीड़ा है कि मोदी सरकार को दलितों का प्यार और वोट मिल रहा है। मोदी सरकार का सबका साथ, सबका विकास का नारा था जो आज भी लागू है। भाजपा का असली है यह उपवास कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे जिलाध्यक्ष सुरेन्द्र मैथानी ने कांग्रेस के उपवास पर तंज कसते हुए कहा कि भाजपा छोले-भटूरे जैसे उपवास नहीं करती यह उपवास असली है। कहा यह काफी दुःखद है कि कांग्रेस और विपक्ष ने संसद को बंधक बनाकर बजट सत्र के दूसरे भाग में एक भी दिन संसद को चलने नही दिया, जिसके कारण उपवास करना पड़ा है।

उन्होंने कांग्रेस सरकार पर हमलावर होते हुए कहा कि कांग्रेस सत्ता से क्या दूर हो गई वह देश के आर्थिक विकास को रोकने में लगी है। झूठी अफवाहें फैलाकर लोगों को विभाजित करने का कार्य कर रही है। कहा, मोदी सरकार किसानों की लड़ाई लड़ रही है और जनहित में कार्य कर रही है, जिससे सबका विकास हो। बताते चलें कि हाल ही में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की अगुवाई में कांग्रेस पार्टी ने देशभर में उपवास रखा था। कांग्रेस का ये उपवास मोदी सरकार के राज में दलितों के खिलाफ हो रहे अत्याचार को लेकर था। लेकिन इस उपवास में भी काफी विवाद हुआ। पहले सिख दंगों के आरोपी नेता जगदीश टाइटलर और सज्जन कुमार दिल्ली में उपवास वाले पंडाल पहुंचे तो बाद में दिल्ली कांग्रेस के नेताओं की छोले-भटूरे खाती हुई तस्वीर ने बवाल कर दिया।

संवैधानिक व्यवस्था में विपक्ष को नहीं है विश्वास-

कल्याणपुर विधायिका नीलिमा कटियार ने कहा कि विपक्ष लोकतांत्रिक मर्यादाओं को खत्म करने पर तुला है। सामाजिक मुद्दों पर चर्चा करने के बजाय विपक्षियों द्वारा सदन में शोरगुल मचाया जा रहा है। विपक्ष के गैर जिम्मेदराना रवैये से एक बात साफ हो रही है कि कांग्रेस सहित सभी विपक्षी दल जो आगामी लोकसभा चुनाव से घबराये हुए हैं उनको संवैधानिक व्यवस्था पर विश्वास नहीं है।

कांग्रेस का उजागर हो गया विकास विरोधी चेहरा-

बिल्हौर में उपवास पर बैठी मिश्रिख सांसद अंजू बाला ने कहा कि संसद में एक तरफ माननीय प्रधानमंत्री का भाषण हो रहा था और दूसरी तरफ कांग्रेस और उसके सहयोगी भाषण के दौरान हल्ला कर रहे थे, यह काफी निराशाजनक है। गत बजट सत्र में एक दिन भी संसद नहीं चल सका, जिससे एक भी बिल पारित नही सका। ऐसे में कांग्रेस और उसके सहयोगियों का अलोकतांत्रिक और विकास विरोधी चेहरा उजागर हो गया है। कांग्रेस के लोगों ने छोले भटूरे खाकर उपवास कर राजनीति का उपहास किया है। हम लोग कांग्रेस के उपवास के जवाब में अनशन नहीं कर रहे हैं। कांग्रेस के लोगों ने बेवजह सदन में हंगामा कर लोकतंत्र की हत्या की है और हम लोग उपवास के माध्यम के विपक्ष की मंशा को उजागर करना चाहते हैं। विपक्ष ने गत बजट सत्र नही चलने दिया जिससे वहां कोई काम नहीं हुआ इसलिए भाजपा के सभी सांसदों ने अपना एक महीने का वेतन-भत्ता नही लेने का निर्णय लिया है। कहा, आजादी के बाद देश की ये पहली घटना है कि सदन को बेवजह चलने नहीं दिया गया है। इसके पीछे सिर्फ एक कारण है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जो लोगों का समर्थन मिल रहा है उसे विपक्ष पचा नहीं पा रहा है।

भाजपाइयों ने किया शक्ति प्रदर्शन-

लोकतंत्र बचाने को भाजपाइयों ने सिविल लाइन्स स्थित चेतना चौराहे पर सांसद देवेंद्र सिंह भोले के नेतृत्व में उपवास किया। लेकिन इससे पहले भाजपाइयों ने शहर भर में वाहनों के जरिये रैली निकाली। इसके बाद उपवास स्थल सब लोग पहुंचे। यह देख काफी देर तक वहां से गुजरने वाले राहगीर और आम जनता यह नहीं समझ पा रहे थे कि उपवास है या शक्ति प्रदर्शन। भारी भीड़ देख लोगों के मुंह से अनायास निकलने लगा कि भाजपा आगामी लोकसभा चुनाव को देखते हुए उपवास के बहाने शक्ति प्रदर्शन कर रही है। इस दौरान यातायात व्यवस्था भी चरमरा गई और पुलिस ने किसी तरह से वाहनों को पास कराया।

यह रहें मौजूद-
अलग-अलग जगहों पर हुए उपवास कार्यक्रम में सांसद देवेन्द्र सिंह भोले, सांसद अंजू बाला,विधायक नीलिमा कटियार, विधायक महेश त्रिवेदी, एमएलसी अरूण पाठक, विधायक भगवती सागर जिलाध्यक्ष उत्तर सुरेन्द्र मैथानी, दक्षिण जिलाध्यक्ष अनीता गुप्ता, ग्रामीण जिलाध्यक्ष रामशरण कटियार, राहुल सोनकर, पूर्व जिलाध्यक्ष राधेश्याम पांडेय, गोपाल अवस्थी, विनोद शुक्ला, पूनम कपूर, नीरज चतुर्वेदी, अनूप अवस्थी, मुकुंद मिश्रा, हरीश मतरेजा, सुरेश अवस्थी, प्रकाश शर्मा, पूर्व महापौर रवीन्द्र पाटनी, पूर्व महापौर जगतवीर सिंह द्रोण, पूर्व विधायक राकेश सोनकर और श्याम बाबू गुप्ता आदि मौजूद रहें।

कांग्रेस ने बताया नौटंकी-

कांग्रेस के पूर्व सांसद राजाराम पाल ने कहा कि भाजपा यह उपवास कर सिर्फ नौटंकी कर रही है।कहा कि जुमलों और राग अलापने से सुर्खियों में बने रहने की बजाय प्रधानमंत्री जन की बात (जनता की बात) करें तो ज्यादा बेहतर होगा। कहा कि भाजपा मीडिया को मैनेज कर आए दिन अनावश्यक के मुद्दों को हवा दे रही है जिससे जनता का ध्यान विकास की ओर न जा सके। कहा कि देश की संसद को ठप कराने की परंपरा बीजेपी ने ही शुरू की थी। लिहाजा बीजेपी को पहले देश से माफी मांग कर अपने किए का प्रायश्चित करनी चाहिए और फिर उपवास पर बैठना चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App