ताज़ा खबर
 

जम्मू-कश्मीर में ढिलाई बरतने को तैयार नहीं मोदी सरकार, केंद्रीय गृह राज्य मंत्री ने दी यह जानकारी

जम्मू-कश्मीर में करीब 20 दिन से सुरक्षा बल तैनात हैं। अनुच्छेद 370 हटाने के बाद राज्य से कर्फ्यू हटा लिया गया है, लेकिन मोदी सरकार सुरक्षा बलों को हटाने के लिए तैयार नहीं है।

Author नई दिल्ली | Updated: August 22, 2019 1:52 PM
जम्मू-कश्मीर: आतंकवादी हमले से दहला बारामूला जिला, कई लोग घायल pic.. credit- indian express

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने कहा कि जम्मू कश्मीर में जारी तनाव के मद्देनजर वहां से सुरक्षा बलों को हटाने की केंद्र सरकार की तत्काल कोई योजना नहीं है। गौरतलब है कि जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधान वापस लेकर केंद्र ने राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांट दिया है।

रेड्डी ने पीटीआई को बताया, ‘‘जब पाकिस्तान उकसाने की कोशिश कर रहा है तो हम वहां से सेना को तुरंत कैसे हटा सकते हैं?’’ गृह राज्य मंत्री ने कहा, ‘‘पाकिस्तान कश्मीरियों को उकसाने और शांति भंग करने की कोशिश कर रहा है, जिससे वह अंतरराष्ट्रीय समुदाय के पास शिकायत करने जा सके। सुरक्षा बलों को वापस बुलाना है या नहीं, इस पर निर्णय स्थानीय प्रशासन द्वारा लिया जाएगा।’’ उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर में स्थिति अब शांतिपूर्ण है और गृह मंत्री अमित शाह स्थिति की नियमित निगरानी कर रहे हैं।

National Hindi News, 22 August 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की तमाम अहम खबरों के लिए क्लिक करें 

रेड्डी ने कहा कि स्कूल खुल गए हैं। धारा-144 हटा दी गई है। सरकारी कार्यालयों में काम हो रहा है और कुछ प्रतिबंधों में ढील दी गई है। कुछ जिलों को छोड़कर पूरे राज्य में इंटरनेट और टेलीफोन सेवाओं को भी बहाल कर दिया गया है। गृह राज्य मंत्री ने कहा कि सरकार पाकिस्तान के मंसूबों को देखते हुए सावधानी बरत रही है और विपक्षी नेताओं को धैर्य रखना चाहिए। उन्होंने बताया, ‘‘पाकिस्तान चाहता है कि जम्मू कश्मीर में शांति बाधित हो और वह दुनिया को कह सके कि कश्मीर को लेकर भारत सरकार के निर्णय गलत हैं।’’

Raj Thackeray IE&FS Case Live News Updates: ईडी दफ्तर में राज ठाकरे से हो रही पूछताछ, मुंबई के कई हिस्सों में बंद जैसा माहौल 

रेड्डी ने कहा, ‘‘बहुत समय है। विपक्षी नेता भी जम्मू कश्मीर जा सकते हैं, लेकिन कुछ दिनों के लिए शांति बनाए रखें। उसके बाद राहुल गांधी जितनी चाहें, बैठक कर सकते हैं। कौन मना कर रहा है? धैर्य रखें।’’ जम्मू कश्मीर के हालात और वहां हिंसा की खबरों पर प्रतिक्रिया देते हुए उन्होंने कहा कि छोटी-मोटी घटनाएं पहली बार नहीं हो रहीं। उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर में कोई तनावपूर्ण हालात नहीं हैं, जहां पहले महीनों तक कर्फ्यू रहता था। पहले भी नेता लंबे समय तक जेल में रहते थे।

रेड्डी ने बुधवार को यहां एक कार्यक्रम से संवाददाताओं से कहा, ‘‘यह नई बात नहीं है। हमने जम्मू कश्मीर में किसी भी तरह से कानून व्यवस्था अवरुद्ध करने की साजिश रचने और स्थिति को भड़काने की पाकिस्तान की मंशाओं को ध्यान में रखते हुए ऐहतियातन कदम के तौर पर पाबंदी लागू करने जैसे निर्णय लिए हैं। लोगों को परेशान करने के लिए यह कदम नहीं उठाए गए हैं। पहले भी कर्फ्यू लगाने, निषेधाज्ञा लागू करने, महीनों तक स्कूल बंद रहने और मुख्यमंत्रियों की गिरफ्तारी के कई वाकये हुए हैं।’’

उन्होंने बताया, ‘‘पाकिस्तान दुनिया के सामने यह साबित करने की भरसक साजिश रच रहा है कि भारत सरकार ने जो किया है, वह गलत है। आज पूरी दुनिया भारत के पक्ष में है, क्योंकि दुनिया अनुच्छेद 370 को समाप्त करने के विषय में भारत सरकार द्वारा लिए गए फैसलों के साथ खड़ी है।’’ गृह राज्य मंत्री ने कहा कि अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधान वापस लिए जाने के बाद राज्य में अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजातियों और पिछड़ा वर्ग के लोगों को आरक्षण तथा अन्य लाभ मिल सकेंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 उत्तर प्रदेश: सरकारी बैंक ने नहीं दिया लोन तो नौजवान ने दिया किडनी बेचने का विज्ञापन
2 Flood Updates: पंजाब, हरियाणा के कई गांव जलमग्न, वृन्दावन के निचले इलाकों में घुसा यमुना का पानी
3 P Chidambaram Arrested: कार्ति चिदंबरम बोले- डोनाल्ड ट्रम्प नहीं, बीजेपी ले रही राजनीतिक प्रतिशोध
जस्‍ट नाउ
X