X

झारखंड में मॉब लिंचिंग: लड़की देखने आए लोगों को भीड़ ने चोर समझ पीटा, एक की मौत

बकौल गुड्डू, "गांव वाले उसी सूचना के आधार पर लाठियां-डंडे लेकर पहुंच गए। हम चारों को उसके बाद घर से निकाला गया और जमकर पीटा। हमें फिर वहां से तिसीबार ले जाया गया। वहां भी हम लोगों को पीटा गया।"

झारखंड के मेदिनीनगर में मॉब लिंचिंग का एक मामला सामने आया है। लड़की देखने आए लोगों को यहां भीड़ ने गलतफहमी में पीट दिया। गांव वाले उन्हें चोर समझ बैठे थे। घटना के दौरान हुई पिटाई के कारण एक शख्स की मौत हो गई, जबकि दो लोग जख्मी हुए। वहीं, खबर लिखे जाने तक एक व्यक्ति लापता था। शिकायत मिलने पर पुलिस ने इस मामले में दो मामले दर्ज कर लिए। फिलहाल जांच-पड़ताल जारी है।

हुआ यूं कि विश्रामपुर के दरुआ गांव में बुधवार (पांच सितंबर) शाम चार लोग लड़की देखने के लिए आए थे। पर गांव वाले उन्हें चोर समझ बैठे, जिसके बाद उन्होंने चारों की पिटाई कर दी। रिपोर्ट्स के मुताबिक, 24 वर्षीय बब्लू मुसहर को उस दौरान भीषण चोटें आईं। इलाज के दौरान उसे पास के अस्पताल ले जाया गया, जहां कुछ देर बाद उसने दम तोड़ दिया।

वहीं, विकास मुसहर और गुड्डू भी गंभीर रूप से जख्मी हुए, जबकि घटना के बाद से अमरजीत मुसहर का कोई अता-पता नहीं है। गुड्डू मूलरूप से बिहार के औरंगाबाद के रहने वाले हैं। उन्होंने एक स्थानीय पत्रकारों को बताया, “मैं मंगलवार को रिश्तेदारों के साथ लड़की देखने के लिए दरुआ गांव के ललन के घर आया था। बात पक्की हो गई थी। बुधवार को हमें लोगों ने यह कह कर रोक लिया कि मेहमानों को कुछ समय के लिए ठहरने दीजिए। शाम को उसी बीच ललन की बेटी ने हल्ला कर दिया कि चोर आए हैं।”

बकौल गुड्डू, “गांव वाले उसी सूचना के आधार पर लाठियां-डंडे लेकर पहुंच गए। हम चारों को उसके बाद घर से निकाला गया और जमकर पीटा। हमें फिर वहां से तिसीबार ले जाया गया। वहां भी हम लोगों को पीटा गया।” किसी तरह इस घटना की खबर पुलिस को हुई, तो मौके पर पहुंचे पुलिसकर्मियों ने हवाई फायरिंग कर भीड़ को भगाया। आनन-फानन में जख्मी लोगों को पास के अस्पताल ले जाया गया, जहां बब्लू की मौत हो गई।

  • Tags: Jharkhand,