ताज़ा खबर
 

स्कूली छात्रा से दुष्कर्म मामले में भीड़ ने किया पुलिस पर पथराव, 15 घायल

पुलिस ने बलात्कार का मामला उजागर होने के बाद कुछ लोगों द्वारा स्कूल में घुसकर बेकसूर शिक्षकों की पिटाई करने के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों को रोकने की कोशिश की थी।

Author धर्मशाला | Published on: August 1, 2017 4:48 AM
इस तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीक के तौर पर किया गया है। (Source: Express Archives)

चंबा जिले की चुराह घाटी में एक शिक्षक द्वारा स्कूली छात्रा से दुष्कर्म मामले में सोमवार को प्रदर्शन कर रही भीड़ ने पुलिस पर पथराव कर दिया जिसमें 15 लोग घायल हो गए।
पुलिस ने बलात्कार का मामला उजागर होने के बाद कुछ लोगों द्वारा स्कूल में घुसकर बेकसूर शिक्षकों की पिटाई करने के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों को रोकने की कोशिश की थी। इस पर गुस्साए प्रदर्शनकारियों ने पुलिस अधिकारियों पर पथराव शुरू कर दिया जिसमें चंबा के एडीएम बलवीर ठाकुर, एएसपी बीरेंद्र्र ठाकुर, तीसा के एसएचओ दिनेश धीमान, एएसआइ कुलदीप कुमार और अन्य पुलिस कर्मचारियों सहित 15 लोग घायल हो गए। हालात पर काबू पाने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज किया और आंसू गैस का भी इस्तेमाल किया। इस दौरान तीन प्रदर्शनकारी ग्रामीणों को भी चोटें आई हैं। घायलों को अस्पताल ले जाया गया है। इस मामले में आरोपी शिक्षक के अलावा स्कूल के कुछ बाकी पेज 8 पर
अन्य शिक्षकों की पिटाई की बात सामने आई है। बताया जाता है कि इसके लिए किसी दिलदार अली बट्ट नामक व्यक्ति ने उकसाया था। गुस्साए लोग उसके घर की ओर कूच कर रहे थे। पुलिस ने उन्हें रोकने की कोशिश तो दोनों पक्षों में टकराव हो गया।

बताते चलें कि 27 जुलाई को खुशनगरी इलाके के एक सरकारी अध्यापक पर ग्यारहवीं की छात्रा के साथ बलात्कार के आरोप लगने और मेडिकल जांच में इसकी पुष्टि से क्रोधित एक तबके ने दिलदार अली की कथित शह पर स्कूल के बाकी निर्दोष शिक्षकों की भी परिसर में घुसकर जमकर धुनाई कर दी थी। नतीजतन उस मारपीट से गुस्साए दूसरे तबके के लोगों ने रविवार को भंजराडू में आधा दर्जन दुकानों में तोड़फोड़ की और चाय की दुकान को आग लगाने के अलावा थाने पर पथराव कर दिया था।रविवार के तनावपूर्ण माहौल के मद्देनजर प्रशासन ने घाटी में अतिरिक्त पुलिस बल का बंदोबस्त कर रखा था। सोमवार को भी बड़ी तादाद में घरों से बाहर निकले लोगों ने पहले भंजराडू बाजार में रैली की और फि र खुशनगरी में हज कमेटी के सदस्य दिलदार के घर की ओर कूच किया। हालात पर नजर रखने के लिए अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट बलबीर ठाकुर रविवार से ही भंजराडू में हैं जबकि सोमवार को पथराव की जानकारी मिलते ही जिलाधीश सुदेश मोखटा भी घाटी पहुंच गए हैं।

प्रदर्शनकारियों का कहना है कि जब बलात्कार का आरोपी शिक्षक पुलिस गिरफ्त में है तो बाकी शिक्षकों के साथ मारपीट क्यों की गई? लोगों ने दिलदार की आइटीआइ पर भी पथराव किया लेकिन आगे बढ़ रहे प्रदर्शनकारियों को पुलिस ने डोगरा बणी पुल पर रोक लिया। इससे भड़के लोगों ने पुलिस पर पथराव कर दिया। इसमें दो पुलिसकर्मी घायल हो गए। स्कूल के अन्य शिक्षकों की पिटाई के मामले में पुलिस ने चार लोगों को गिरफ्तार कर रखा है लेकिन इसके बावजूद एक वर्ग के लोगों में आक्रोश है। पुलिस-प्रशासन का दावा है कि स्थिति नियंत्रण में है लेकिन अब मामला दो समुदाय के बीच फंस गया है। मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए खुशनगरी और आसपास के क्षेत्र में अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किया गया है।

 

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 लोकसभा में मुलायम ने पूछा ऐसा सवाल कि सब रह गये चुप, सिर्फ 1 बीजेपी नेता ने खड़ा किया हाथ
2 अदालत ने ओला, ऊबर को आरोपी के तौर पर तलब किया