ताज़ा खबर
 

मनसे कार्यकर्ताओं ने गैर मराठी कर्मचारियों पर किया हमला, सात गिरफ्तार

वीडियो में एमएनएस कार्यकर्ता कुछ लोगों का पीछा कर रहे होते हैं। वे रास्ते में बाइक सवार लोगों को रोकते हैं और उन पर लात-घूंसे चलाने लगते हैं।

सोशल मीडिया पर बुधवार को एक वीडियो वायरल हो रहा था, जिसमें कुछ महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के कार्यकर्ता बेवजह कुछ लोगों से मारपीट करते दिख रहे थे।

राज ठाकरे के नेतृत्व वाली मनसे के कथित सदस्यों ने एक फैक्ट्री के गैर मराठी कामगारों पर हमला किया। पुलिस के एक अधिकारी ने आज यह जानकारी दी। क्षेत्रीय दल मनसे कुपवाड़ में महाराष्ट्र औद्योगिक विकास निगम की इकाइयों में स्थानीय युवाओं को रोजगार में प्राथमिकता देने की मांग कर रहा है। पुलिस ने हमले के संबंध में सात लोगों को गिरफ्तार किया है। घटना कल शाम पश्चिम महाराष्ट्र में घटी थी। एक अधिकारी ने इस बारे में बताया कि कथित तौर पर महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) से जुड़े कार्यकर्ताओं के एक समूह ने उत्तर के राज्यों से आने वाले कामगारों पर तब हमला किया जब वह कुपवाड़ औद्योगिक इलाके में एक फैक्ट्री में काम करके लौट रहे थे। औद्योगिक क्षेत्र में कई ढलाईखाने, चक्कियां, फैक्ट्रियां और तेल उत्पादन इकाइयां हैं।

इंस्पेक्टर एएम कदम ने आगे इस बाबत कहा कि पीड़ितों में से एक ने एमआईडीसी पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई थी। उसी के आधार पर पुलिस ने सात लोगों को गिरफ्तार किया है। कदम ने बताया कि गिरफ्तार किए गए लोगों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है।

 एमएनएस की गैर मराठियों पर हमला करने की यह पहली घटना नहीं है। 2008 में भी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने उत्तर प्रदेश और बिहार से आए कई लोगों पर हमले किए थे। सितंबर 2016 में भी एमएनएस कार्यकर्ताओं ने मुंबई के घाटकोपर इलाके में एक गैर मराठी शख्स से फल की रेहड़ी न लगाने देने को लेकर मारपीट की थी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 रघुराम राजन को हटाने पर भाजपा को शिवसेना ने घेरा, बोली- जिसे अक्षम बताया, वही नोबेल को नामित हुआ
2 महाराष्ट्र के ग्राम पंचायत चुनावों में चला बीजेपी का जादू, 50% सीटों पर दर्ज की जीत
3 दीवाली पर निकालें बेटिकट यात्रियों का दिवाला, रेलवे के इस फरमान से मुश्किल में टीसी-टीटीई
ये पढ़ा क्या ?
X