scorecardresearch

यूपीः जिस मंदिर में मुस्लिमों का प्रवेश वर्जित, वहीं साधु पर चाकुओं से देर रात जानलेवा हमला! गला रेतने की कोशिश व फाड़ा पेट

जानकारी के मुताबिक, पुलिस को डासना देवी मंदिर से पेपर कटर मिले हैं। माना जा रहा है कि इन्हीं के जरिए हमला किया गया।

Dasna Devi Mandir, Hindu Temple
डासना देवी मंदिर में लगा था मुस्लिमों के प्रवेश वर्जित का बैनर। (फोटो- ट्विटर/@TinkuChaubey50)
उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में स्थित डासना देवी मंदिर में कुछ अज्ञात लोगों ने स्वामी नरेश आनंद सरस्वती पर जानलेवा हमला कर दिया। बताया गया है कि हमलावरों ने साधु पर धारदार हथियार से कई वार किए, जिससे वे गंभीर रूप से जख्मी हो गए। बताया गया है कि उनका गला दबाने की कोशिश भी की। फिलहाल उन्हें अस्पताल में भर्ती किया गया है। बता दें कि यह वही डासना देवी मंदिर है, जहां कुछ दिनों पहले एक मुस्लिम लड़के के घुसने पर विवाद पैदा हो गया था। इसके बाद मंदिर प्रमुख महंत नरसिंहानंद सरस्वती के आदेश पर परिसर में मुसलमानों के प्रवेश पर रोक लगा दी गई थी।

जानकारी के मुताबिक, पुलिस को डासना देवी मंदिर से पेपर कटर मिले हैं। माना जा रहा है कि इन्हीं के जरिए साधू पर हमला किया गया। मंदिर परिसर के सीसीटीवी बंद पाए गए हैं। इसके अलावा मंदिर परिसर के बाहर तैनात रहने वाली पुलिस को घटना के 15 मिनट बाद इसकी जानकारी अंदर मौजूद किसी शख्स ने दी।

इस घटना पर गाजियाबाद पुलिस के एसपी ग्रामीण का बयान भी आया। उन्होंने बताया, “आज रात लगभग 3.30-3.45 बजे की घटना है। नरेश आनंद जी हैं, जो कि डासना मंदिर में रुके हुए थे। वे समस्तीपुर बिहार से आए हुए थे किसी कार्यक्रम में हिस्सा लेने। वो बाहर सोए हुए थे, खुले में। इस दौरान कोई व्यक्ति आया और उन पर कई वार किए। अभी उनकी स्थिति ठीक है, उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां उनका इलाज कराया जा रहा है। इस मामले में आरोपी कोई जानकार या आसपास का व्यक्ति भी हो सकता है।”

दो महीने पहले भी नरसिंहानंद ने कही थी जान के खतरे की बात: बता दें कि यह पहली बार नहीं है जब मंदिर परिसर में किसी साधु पर हमला हुआ है। दो महीने पहले ही मंदिर के महंत स्वामी नरसिंहानंद ने दावा किया था कि दो संदिग्ध युवक खुद को हिंदू बताते हुए मंदिर में घुस आए थे। लेकिन सेवादारों ने शक होने पर उन्हें दबोच लिया। तलाशी के दौरान आरोपियों के कब्जे से सर्जिकल ब्लेड बरामद होने से सनसनी फैल गई। मंदिर महंत यति नरसिंहानंद सरस्वती ने आरोपियों को खुद की हत्या के लिए भेजे हुए आतंकवादी बताया। पुलिस ने बाद में दोनों को हिरासत में ले लिया था।

पढें राज्य (Rajya News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट