ताज़ा खबर
 

केंद्रीय मंत्री बोले- देश में अल्‍पसंख्‍यकों को अधिकार मिले हैं, बहुसंख्यकों को नहीं

केंद्रीय मंत्री सत्यपाल सिंह ने आज कहा कि अल्पसंख्यकों को कई अधिकार मिले हुए हैं जो कि बहुसंख्यकों को नहीं है।

Author नई दिल्ली | April 14, 2018 11:03 PM
केंद्रीय मंत्री सत्यपाल सिंह

केंद्रीय मंत्री सत्यपाल सिंह ने आज कहा कि अल्पसंख्यकों को कई अधिकार मिले हुए हैं जो कि बहुसंख्यकों को नहीं है। उन्होंने पिछले कुछ दशकों में संविधान की जिस तरह व्याख्या की गयी उसपर फिर से विचार करने की हिमायत की। यह उल्लेख करते हुए कानून के समक्ष सब समान है, केंद्रीय मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री ने कहा, ‘‘पिछले दो दशकों में जिस तरह संविधान की व्याख्या की गयी और कानून को परिभाषित किया गया, इस पर फिर से विचार की जरूरत है। हमें उनपर फिर से विचार करना चाहिए।’’ वह संविधान निर्माता की 127 वीं जयंती के उपलक्ष्य में दिल्ली विश्वविद्यालय में ‘कानून का शासन और राष्ट्रनिर्माण में बी आर आंबेडकर की भूमिका’’ विषय पर बोल रहे थे।

उन्होंने कहा, ‘‘संविधान में अल्पसंख्यकों को जिस तरह का अधिकार दिया गया, अभी भी वे इस बारे में ठगा हुआ महसूस करते हैं। उन्हें अपने संस्थान, धार्मिक संस्था चलाने का अधिकार है, लेकिन बहुसंख्यकों को यह हासिल नहीं है। कानून सबके लिए समान है।’’ उन्होंने कहा संविधान लागू हुए करीब 70 साल होने को है लेकिन हम लोग इसे अपने अंदर समाहित नहीं कर पाए हैं ।

HOT DEALS
  • Gionee X1 16GB Gold
    ₹ 8990 MRP ₹ 10349 -13%
    ₹1349 Cashback
  • Honor 7X Blue 64GB memory
    ₹ 16010 MRP ₹ 16999 -6%
    ₹0 Cashback

उन्होंने कहा, ‘‘कानून के शासन का मतलब है कि कानून हर किसी के लिए समान है । हालांकि, एक व्यक्ति जो सौ रूपया चोरी करता है, दूसरा जो सौ करोड़ रूपये चोरी करता है, उसे एक ही सजा मिलती है । क्या इससे समाज को न्याय मिलता है ? मैं कहता हूं यह नहीं होता। इसलिए कानून संशोधित करने की जरूरत है ।’’ साथ ही कहा कि बीते वक्त में कानून का शासन लागू नहीं हुआ और इससे बहुत भेदभाव हुआ। केंद्रीय मंत्री ने कहा, ‘‘आप एक मजबूत लोकतांत्रिक देश चाहते हैं जहां हर किसी को शिक्षा मिले । हमारे यहां शिक्षा का अधिकार (कानून) है लेकिन पिछले आठ साल में क्या हम इसे लागू कर पाए? अभी भी लाखों बच्चे स्कूल नहीं जाते क्योंकि कानून धारदार नहीं है।’’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App