scorecardresearch

आंध्र प्रदेश: जिले का नाम बदलने पर भड़की हिंसा, प्रदर्शनकारियों ने मंत्री के घर में लगायी आग

प्रदर्शनकारियों ने पुलिस जीप पर भी हमला किया और अमलापुरम अस्पताल पर पथराव किया। इस झड़प में कई पुलिसकर्मी और प्रदर्शनकारी घायल हो गए।

आंध्र प्रदेश में जिले का नाम बदलने पर भड़की हिंसा (Source- screengrab/ ANI)

आंध्र प्रदेश के अमलापुरम में मंगलवार को हिंसक विरोध प्रदर्शन हुए। जिसके बाद गुस्साए प्रदर्शनकारियों ने कोनसीमा जिले का नाम नहीं बदलने की मांग को लेकर पुलिस के साथ झड़प की और परिवहन मंत्री पी विश्वरूप के घर में आग लगा दी। स्थिति नियंत्रण से बाहर होता देख पुलिस ने मंत्री और उनके परिवार के सदस्यों को सुरक्षित बाहर निकाला।

प्रदर्शंकारी कोनासीमा जिले का नाम डॉ बीआर अंबेडकर कोनासीमा जिला रखने का विरोध कर रहे थे। क्षेत्र में उस समय तनाव बढ़ गया जब कोनासीमा जिला साधना समिति के सदस्य क्लॉक टॉवर सेंटर पर विरोध प्रदर्शन के लिए एकत्र हुए। जल्द ही हालात खराब हो गए और प्रदर्शनकारियों ने पथराव करना शुरू कर दिया और सार्वजनिक संपत्तियों को नुकसान पहुंचाया। जब पुलिस ने स्थिति को नियंत्रण में करने की कोशिश की तो प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पथराव किया जिसके जवाब में पुलिस ने लाठीचार्ज किया।

परिवहन मंत्री के घर पर लगायी आग: प्रदर्शनकारियों ने परिवहन मंत्री पी विश्वरूप के घर को निशाना बनाया और आग लगा दी। स्थिति नियंत्रण से बाहर होता देख पुलिस हरकत में आई और मंत्री और उनके परिवार के सदस्यों को सुरक्षित बाहर निकाला। प्रदर्शनकारियों ने अमलापुरम में मंत्री के कैंप कार्यालय पर भी हमला किया। उन्होंने कार्यालय में तोड़फोड़ की और मंत्री के एस्कॉर्ट वाहन में आग लगा दी।

इसके साथ ही कोनासीमा जिले के मुम्मिडीवरम में मंगलवार को गुस्साए प्रदर्शनकारियों ने प्रदर्शनकारियों ने YSRCP विधायक सतीश के घर में आग लगा दी। पुलिस परिवहन मंत्री पी विश्वरूप और विधायक सतीश के घरों की सुरक्षा करने में विफल रही।

पुलिस की जीप पर हमला: प्रदर्शनकारियों ने एक बस में आग लगा दी और कई वाहनों में तोड़फोड़ की। प्रदर्शनकारियों ने पुलिस की जीप पर भी हमला किया और अमलापुरम अस्पताल पर पथराव किया। इस झड़प में कई पुलिसकर्मी और प्रदर्शनकारी घायल हो गए। लोगों ने पथराव किया और पुलिस को निशाना बनाते हुए वाहनों में आग लगा दी। इस घटना में 20 पुलिसकर्मी घायल हो गए। पुलिस सूत्रों के अनुसार कुछ प्रदर्शनकारी हिरासत में लिए गए और कुछ पुलिस से बचकर कलेक्ट्रेट की ओर भाग गए।

राज्य की गृह मंत्री ने कहा, “यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि इस घटना में 20 से अधिक पुलिसकर्मी घायल हो गए। हम घटना की गहन जांच करेंगे और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करेंगे।” उन्होंने आरोप लगाया कि कुछ राजनीतिक दलों और असामाजिक तत्वों ने स्पष्ट रूप से आगजनी को उकसाया।

4 अप्रैल को नए कोनासीमा जिले को तत्कालीन पूर्वी गोदावरी से अलग करके बनाया गया था। पिछले हफ्ते, राज्य सरकार ने एक अधिसूचना जारी कर कोनासीमा का नाम बदलकर बी आर अंबेडकर कोनासीमा जिले के रूप में करने की मांग की और लोगों से इस संबंध में कोई आपत्ति हो तो दर्ज कराने को कहा था।

पढें राज्य (Rajya News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट