मिहिर भोज जाति मामला: बोर्ड पर CM योगी के नाम पर कालिख पोतने का मामला गर्माया, जांच शुरू

राजा मिहिर भोज की प्रतिमा के नीचे लगे शिलापट्ट पर लिखे उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नाम पर कथित तौर पर काला रंग पोते जाने के बाद मंगलवार को ग्रेटर नोएडा में तनाव पैदा हो गया।

CM Yogi Adityanath
योगी आदित्यनाथ, मुख्यमंत्री, उत्तर प्रदेश (फाइल फोटो)

राजा मिहिर भोज की प्रतिमा के नीचे लगे शिलापट्ट पर लिखे उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नाम पर कथित तौर पर काला रंग पोते जाने के बाद मंगलवार को ग्रेटर नोएडा में तनाव पैदा हो गया। मूर्ति का अनावरण पिछले हफ्ते किया गया था। सोशल मीडिया पर नजर आ रहे घटना के कथित वीडियो के मुताबिक आदित्यनाथ के अलावा, भारतीय जनता पार्टी से राज्यसभा सदस्य सुरेंद्र सिंह नागर और दादरी के विधायक तेजपाल नागर के नामों पर भी कालिख पोत दी गई है।

अधिकारियों ने बताया कि पुलिस ने घटना की जांच शुरू कर दी है, जो कथित तौर पर गुर्जर समुदाय के कुछ सदस्यों द्वारा किया गया है। गुर्जर जाति के लोगों का राजपूत समुदाय के साथ विवाद चल रहा है। दोनों का दावा है कि नौवीं शताब्दी के राजा मिहिर भोज उनकी जाति के थे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 22 सितंबर को गौतम बुद्धनगर जिले के ग्रेटर नोएडा के दादरी इलाके में सम्राट की 15 फुट ऊंची प्रतिमा का अनावरण किया था।

शिलापट्ट पर सम्राट मिहिर भोज के नाम के आगे “गुर्जर” लगाने को लेकर विवाद छिड़ गया था।कार्यक्रम से पहले भी, इस मुद्दे पर राजपूत और गुर्जर समुदायों के बीच संघर्ष के कारण क्षेत्र में तनाव पैदा हो रहा था, जबकि मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने प्रतिमा के अनावरण के बाद टिप्पणी की थी कि “महान शख्सियतों को एक जाति तक सीमित नहीं किया जा सकता है, वे सभी के हैं।”

पट्टिका पर दर्ज नामों पर काला रंग पोते जाने की घटना राज्यसभा सदस्य सुरेंद्र सिंह नागर के मंगलवार सुबह राजा मिहिर भोज की प्रतिमा को श्रद्धांजलि अर्पित करने के बाद हुई। गुर्जर नेता, नागर ने सुबह में प्रतिमा के बगल में खड़े होकर खिंचवाई एक तस्वीर ट्विटर पर पोस्ट करते हुए लिखा, “सत्यमेव जयते।” इस बीच, एक अधिकारी ने कहा कि दादरी पुलिस को मंगलवार की घटना में प्राथमिकी दर्ज करने और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया है।

पढें राज्य समाचार (Rajya News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट