ताज़ा खबर
 

श्रमिक ट्रेनों में प्रवासी मजदूरों का भूख-प्यास से बुरा हाल, दस घंटे की देरी से चल रहीं ट्रेनें, 43 डिग्री में पानी भी मयस्सर नहीं

उत्तर प्रदेश में चार अलग-अलग जिलों में प्रवासियों ने ट्रेनों की लेटलतीफी और खाने-पीने की कमी को लेकर हंगामा किया है।

उत्तर प्रदेश में स्पेशल ट्रेन में सवार मजदूरों ने रेलवे ट्रैक पर उतरकर प्रदर्शन किया। (फोटो- वीडियोग्रैब)

रेलवे देशभर में प्रवासी मजदूरों को श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के जरिए उनके गृह राज्य पहुंचाने की कोशिशों में जुटा है। उत्तर प्रदेश और बिहार के मजदूरों को उनके घर पहुंचाने के लिए अब तक सैकड़ों ट्रेनें चलाई जा चुकी हैं। इस बीच श्रमिकों ने ट्रेनों में बेवजह लेटलतीफी और खाने-पीने की सुविधाएं न मिलने के बाद हंगामा किया है। दो ताजे मामले उत्तर प्रदेश के हैं। यहां दीन दयाल उपाध्याय रेलवे जंक्शन पर श्रमिकों ने ट्रेन की लेटलतीफी को लेकर हंगामा किया और रेलवे ट्रैक को घंटो तक जाम कर के बैठ गए। इसके अलावा यूपी के ही उन्नाव में श्रमिकों ने ट्रेन में खाना न मिलने के बाद स्टेशन पर ही उतरकर तोड़फोड़ कर दी।

बताया गया है कि दीन दयाल उपाध्याय रेलवे जंक्शन के पास जो ट्रेन रोकी गई, वह आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम से बिहार जा रही थी। इसमें सवार प्रवासी मजदूरों ने आरोप लगाया कि ट्रेन को जंक्शन से बाहर आउटर पर करीब 10 घंटे तक खड़ा रखा गया। एक श्रमिक ने कहा, “ट्रेन कल रात 11 बजे यहां आई और फिर तब से यहीं है। हमारे पास दो दिन से खाना नहीं है।” कई मजदूरों ने इस दौरान ट्रेन से उतरकर ट्रैक को जाम कर दिया और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के खिलाफ नारे लगाए।

देश में कोरोना के रिकॉर्ड मरीज मिले, यहां क्लिक कर पढ़ें

दूसरी तरफ यूपी के वाराणसी में भी एक ट्रेन को मजदूरों ने 10 घंटे तक रोके रखा। यह ट्रेन महाराष्ट्र के पनवेल से जौनपुर जा रही थी। सोशल मीडिया पर जारी कुछ तस्वीरों में दिखाया गया कि प्रवासी ट्रैक पर ही बैठ गए और ट्रेन को आगे बढ़ने से रोक दिया। हालांकि, पुलिस के आने के बाद मजदूरों को खाना मुहैया कराया गया और ट्रेन को आगे भेजा गया।

इससे पहले कानपुर में भी गुजरात से बिहार जा रही श्रमिक स्पेशल ट्रेन में मजदूरों ने हंगामा किया था। उनकी शिकायत थी कि ट्रेन में उन्हें खराब खाना दे दिया गया है। श्रमिकों का कहना था कि टॉयलेट तक में पानी का इंतजाम नहीं है। इसके बाद उन्नाव के डीएम ने आगे सभी के लिए बेहतर खाने के इंतजाम का आश्वासन दिया।

Lockdown 4.0 Guidelines in Hindi

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, उत्तर प्रदेश में अब तक 930 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के जरिए 12 लाख 33 हजार लोग घर पहुंचाए जा चुके हैं। सरकार ने 1199 ट्रेनों से प्रवासी मजदूरों को लाने की अनुमति दी है। वहीं, रेलवे अब तक 2317 ट्रेनों से 31 लाख प्रवासी श्रमिकों को घर तक पहुंचा चुका है।

क्‍लिक करें Corona Virus, COVID-19 और Lockdown से जुड़ी खबरों के लिए और जानें लॉकडाउन 4.0 की गाइडलाइंस।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 अस्थि विसर्जन के लिए राजस्थान सरकार की मानवीय पहल, हरेक परिवार से तीन लोगों को फ्री में भेजेगी यूपी-उत्तराखंड
2 कोरोना से लड़ाई का हाल: जिले भर में एक एंबुलेंस, एक भी आईसीयू या वेंटिलेटर नहीं, केवल 37 डॉक्‍टर, मरीज दो हफ्ते में 0 से 96
3 Delhi, Haryana, Punjab Coronavirus Highlights: दिल्ली में कोरोना संक्रमितों की संख्या 13 हजार के करीब, 230 लोगों ने गंवाई जान