मेरठ: सेक्‍स रैकेट चलाने के आरोप में इंस्‍पेक्‍टर गिरफ्तार, इस तरह चल रहा था गंदा धंधा

पुलिस के हत्थे चढ़े इन लोगों से पूछताछ के दौरान इस बात का खुलासा हुआ है कि ये लोग जिस्मफरोशी का धंधा शास्त्रीनगर, जागृति विहार और गंगानगर समेत कई जगहों पर चलाते थे। इतना ही नहीं, इनका धंधा ऑनलाइन भी चलता था।

merrut, police
इस तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रतीक के तौर पर किया गया है।

जिनके कंधों पर कानून की रखवाली की जिम्मेदारी थी, वो ही खुद गैरकानूनी कामों में लिप्त पाए गए। मामला उत्तर प्रदेश के मेरठ का है। मेरठ के शास्त्रीनगर इलाके में ब्यूटी पार्लर और मसाज पार्लर की आड़ में सेक्स रैकेट चलाने का भंडाफोड़ हुआ है। इस मामले में पुलिस ने एंटी करप्शन विभाग के एक इंस्पेक्टर विजय वीर सिंह सहित दो अन्य युवकों और तीन युवतियों को पकड़ा है। जानकारी के मुताबिक, विजय वीर सिंह ही इस मसाज पार्लर को चलाता था। वीर सिंह के अलावा पकड़े गए एक अन्य आरोपी का नाम बाबू अशोक शर्मा है जो फर्म रजिस्ट्रेशन विभाग में तैनात है। जबकि तीसरा आरोपी बीबीए का छात्र है।

पुलिस के हत्थे चढ़े इन लोगों से पूछताछ के दौरान इस बात का खुलासा हुआ है कि ये लोग जिस्मफरोशी का यह धंधा शास्त्रीनगर, जागृति विहार और गंगानगर समेत कई जगहों पर चलाते थे। इतना ही नहीं, इनका धंधा ऑनलाइन भी चलता था। वॉट्सऐप और फेसबुक के जरिए इन्होंने अपना नेटवर्क फैला रखा था। कई ग्राहकों से वो इसी माध्यम से संपर्क करते थे और लड़कियों की ऑनलाइन बुकिंग भी की जाती थी। पूछताछ में इन लोगों ने खुलासा किया कि कई बड़े लोग इनके ग्राहकों में शामिल हैं। आरोपियों के मोबाइल खंगालने पर यह भी खुलासा हुआ है कि इन लोगों ने कई छात्राओं को अपने धंधे में शामिल कर रखा था।

एंटी करप्शन विभाग का इंस्पेक्टर विजय वीर सिंह अभी दो महीने पहले ही इन धंधेबाजों के साथ जुड़ा था। एक इंस्पेक्टर के धंधे में जुड़ जाने के बाद से इनके अंदर से कानून का डर भी खत्म हो गया था। ये लोग खुलेआम जिस्मफरोशी का धंधा करते थे। जिस दौरान पुलिस ने इन तीनों को हिरासत में लिया था, उस वक्त भी इनके मोबाइल फोन पर इनके ग्राहकों के लगातार फोन और मैसेज आ रहे थे।

पूछताछ की पूरी प्रक्रिया के दौरान इनका फोन बजता रहा। कई लोग इनसे लड़कियों की फोटो देखकर पेमेंट देने की बात भी कर रह थे। पुलिस की गिरफ्त में आई तीनों युवतियां भी आसपास के इलाके की ही बताई जा रही हैं। पूछताछ में इन युवतियों ने बतलाया कि भावनपुर, मेडिकल और लिसाड़ीगेट की 20 से ज्यादा युवतियां इस रैकेट से जुड़ी हुई हैं। फिलहाल पुलिस इस मामले की तह तक जाने की कोशिश में लगी हुई है।

पढें राज्य समाचार (Rajya News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।