ताज़ा खबर
 

‘अब जिंदगी में आराम करने का वक्त’, दो साल में तीन तबादले के बाद बोले गवर्नर सत्यपाल मलिक, पहले भी हुई आलोचना

गोवा के सीएम प्रमोद सावंत के साथ मतभेदों के बारे में पूछे जाने पर मलिक ने कहा, "मुझे अच्छा 'व्यक्तिगत तालमेल' पसंद है।

Author Edited By प्रमोद प्रवीण नई दिल्ली | Updated: August 20, 2020 1:03 PM
Satyapal Malik, Meghalaya Governorमेघालय के नए गवर्नर सत्यपाल मलिक। (फाइल फोटो)

दो साल में बिहार से जम्मू-कश्मीर और गोवा के गवर्नर बनाए गए सत्यपाल मलिक अब चौथे राज्य मेघालय के गवर्नर बन चुके हैं। मलिक ने यहां तथागत रॉय की जगह ली है। मेघालय जाने के रास्ते में मलिक ने कहा कि उन्होंने अपनी जिंदगी में कई घटनाएं और गतिविधियां देखी हैं और उनके गवाह रहे हैं। उन्होंने कहा, “अब आराम करने का वक्त आ गया है।”

जब इंडियन एक्सप्रेस ने उनसे पूछा कि आपका इतनी जल्दी-जल्दी तबादला क्यों हो रहा? क्या आपको हाइपर ऐक्टिव होने और अधिक बयान देने की सजा मिल रही है तो उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि मैंने जम्मू-कश्मीर में पर्याप्त कार्रवाई की है। हो सकता है कि वहां किए गए कार्य मेरे जीवनभर के लिए पर्याप्त हो। इसलिए अब मेरे लिए आराम करने का समय है। हर बार कार्रवाई करनी अच्छी बात नहीं है। तो मुझे इस बार मेघालय जैसे खूबसूरत जगह जाने दो। ”

बता दें कि सत्यपाल मलिक ने जम्मू-कश्मीर का गवर्नर रहते हुए बयान दिया था कि सुरक्षा कर्मियों को निशाना बनाने से बेहतर है कि आप उन्हें मारो, जिन्होंने आपके कश्मीर को लूटा है। उनके इस बयान की सियासी हलकों में खूब आलोचना हुई थी। एक बार उन्होंने दिल्ली से खुफिया जानकारी पर भरोसा करने से इनकार कर दिया था और कहा था कि वो उनके इनपुट्स नहीं मानते। गोवा में भी उन्होंने सीएम प्रमोद सावंत को कोरोना संकट से निपटने में सक्षम नहीं बताते हुए उनकी आलोचना की थी और सरकारी कदम में खामियां गिनाईं थीं।

गोवा के सीएम प्रमोद सावंत के साथ मतभेदों के बारे में पूछे जाने पर मलिक ने कहा, “मुझे अच्छा ‘व्यक्तिगत तालमेल’ पसंद है। लेकिन यह सच है कि मैं उन चीजों के बारे में मुखर हुआ करता था जो मुझे गलत लगती थीं। अगर इस तरह का कोई मामला या भ्रष्टाचार या अनियमितता है, तो मैं फिर बात करूंगा। हो सकता है, कुछ लोगों को यह पसंद नहीं आए। गवर्नर आमतौर पर ऐसा नहीं करते हैं।” मलिक इंडियन एक्सप्रेस से गुवाहाटी एयरपोर्ट पर फोन से बात कर रहे थे।

सत्यपाल मलिक ने कहा, “सीएम प्रमोद सावंत ने उन्हें अपने घर भोज पर आमंत्रित किया था लेकिन नहीं मैं नहीं जा सका।” उन्होंने कहा, “मेरे पास गोवा में करने के लिए बहुत कुछ नहीं था। मेघालय एक बड़ा राज्य है। मुझे वहां जाने दो।” इस सवाल पर जवाब देते हुए कि क्या उनकी समाजवादी पृष्ठभूमि मौजूदा राजनीतिक परिदृश्य में एक मुद्दा बन गई है, उन्होंने कहा: “नहीं, ऐसा कुछ नहीं है। भाजपा मेरे साथ बहुत सहज है।”

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ‘सुशांत केस की जांच CBI को मिलने के बाद बिहार डीजीपी ऐसे खुश हो रहे, जैसे चुनावी जीत मिल गई हो’, शिवसेना ने साधा निशाना
2 मोदी सरकार के मंत्री ने की गुजरात सरकार की खिंचाई- फंड देने के छह साल बाद भी पूरा नहीं हुआ काम
3 एक हजार आबादी वाले गांव की दावेदारी पर दो राज्य भिड़े, सीमा निर्धारण के लिए केंद्र को देनी पड़ी दखल, जानें- पूरा मामला
ये पढ़ा क्या?
X