ताज़ा खबर
 

मेरठ: सिख युवक पर हत्या की कोशिश के मुकदमे ने पकड़ा तूल, भाजपा-सिख समुदाय की एसएसपी से झड़प

रविवार (27 मार्च) की रात जब भारत ने ऑस्ट्रेलिया पर जीत दर्ज कर सेमी फाइनल में प्रवेश किया तो इस जीत के जश्न में सैकड़ो लोग बेगमपुल पर पहुंच गये थे।

Meerut, Sikh in Meerut, BJP, Merrut Police, Samajwadi Party, India vs Australiaतमिलनाडु सरकार ने 67 कैदियों को रिहा किया। (प्रतीकात्मक तस्वीर)

भारत द्वारा ऑस्ट्रेलिया पर जीत के बाद बेगमपुल पर जश्न मना रहे एक सिख युवक पर पुलिस द्वारा हत्या के प्रयास का मुकदमा किये जाने के बाद मामला तूल पकड़ता जा रहा है। अदालत द्वारा युवक को जेल भेजे जाने के बाद सिख समुदाय व भाजपा के लोगो की एसएसपी से तीखी झड़प हुई। मेरठ कैंट के भाजपा विधायक सत्यप्रकाष अग्रवाल को एसएसपी आवास पर धरने पर ही बैठ गये। उधर मंगलवार (29 मार्च) को थापर नगर गुरुद्वारे सभा का प्रतिनिधिमंडल इस मामले को लेकर डी0एम0 पंकज यादव से मिला। यह मामला अब समाजवादी पार्टी के लिए भी गले की फांस बन रहा है। हाल ही में समाजवादी पार्टी ने मेरठ कैंट विधानसभा सीट से परविंदर सिंह को अपना प्रत्याषी घोषित किया है।

रविवार (27 मार्च) की रात जब भारत ने ऑस्ट्रेलिया पर जीत दर्ज कर सेमी फाइनल में प्रवेश किया तो इस जीत के जश्न में सैकड़ो लोग बेगमपुल पर पहुंच गये थे। जिसके बाद बेगमपुल पर तैनात पुलिस से उनकी कहासुनी हो गयी। इसी दौरान एक सिपाही प्रमोद व उसके साथी ने एक सिख युवक कुलदीप भाटिया के साथ मारपीट करते हुए उसकी पगड़ी खींच दी। जिसके बाद वहॉ माहौल गरमा गया। गुस्साई भीड़ ने पुलिस को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा। भीड़ द्वारा पुलिस पर किये गये पथराव ने थाना सदर प्रभारी गजेन्द्र यादव घायल हो गये। जिनको नजदीक के एक नर्सिंग होम में भर्ती कराया गया। इस घटना के बाद कई थानों की पुलिस फोर्स मौके पर पहुंची। पुलिस ने भीड़ पर लाठीचार्ज कर तितर-बितर किया। एस0पी0 सिटी ओमप्रकाश ने इस मामले में अज्ञात हमलावरों के खिलाफ थाना सदर बाजार में मुकदमा कायम कराया। पुलिस ने जिस सिख युवक कुलदीप की पगड़ी को खींचा था उसे बाद में पुलिस हिरासत में ले लिया गया।

कुलदीप को पुलिस ने सी.जी.एम. संजय सिंह की अदालत में पेश किया जहॉ अदालत ने उसे न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया। कुलदीप को जेल भेजे जाने के बाद सिख समुदाय में पुलिस के खिलाफ नाराजगी बढ़ गई। सिख समुदाय ने गुरुद्वारा थापर नगर में एक बैठक बुलायी। जिसमें भाजपा विधायक सत्यप्रकाष अग्रवाल, मेयर हरिकान्त अहलुवालिया ने भी षिरकत की। पुलिस कायर्वाही को गलत बताते हुए ये लोग एसएसपी दिनेष चन्द्र दुबे से मिलने उनके आवास पहुंचे। एसएसपी द्वारा पूरे मामले की जॉच क्राइम ब्रांच के एस0पी0 से कराने पर सहमति हो गई। लेकिन इसी दौरान भाजपा नेता कमलदत्त षर्मा तेज आवाज में अपनी बात कहने लगे। जिसको लेकर एसएसपी व भाजपा के लोगो के बीच तीखी नोंकझोंख हो गयी।

एसएसपी ने पुलिसिया अंदाज में भाजपा नेताओं को अन्दर कराने की धमकी तक दे डाली। बाद में एसएसपी के रुख से नाराज विधायक अग्रवाल अपने समथर्कों के साथ एसएसपी आवास पर धरने पर बैठ गये। इस मामले की जानकारी मिलने पर भाजपा के दूसरे नेता भी वहॉ इक्टठा हो गये। जिसके बाद एसएसपी ने विधायक का हाथ पकड़ा उनको धरने से उठाकर अपने कार्यालय में उनसे बातचीत की। भाजपा व सिख समुदाय की मॉग है कि कुलदीप पर लगी संगीन धाराओं को हटाया जाये। इस मामले में भाजपा के कड़े रुख के बाद सपा के उम्मीदवार परविंदर सिंह भी एसएसपी आवास पहुंचे जहॉ सिख समुदाय के लोगो ने ही उनका विरोध किया। दरअसल कैंट विधानसभा सीट पर सरदार, पंजाबी खासी तादाद में है जिसके बाद सपा खेमे में काफी बेचेनी है। मंगलवार (29 मार्च) को थापर नगर गुरुद्वारा सभा के मंजीत सिंह कोछड़ के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल ने डीएम से मिलकर कुलदीप पर लगी संगीन धाराओं को हटाने की मॉग की।

Next Stories
1 असम में बोले राहुल- भाजपा को जिताया तो नागपुर से चलाएगी सरकार
2 पाकिस्तान की टीम को पठानकोट हमले की जांच की अनुमति देना गलत: शिवसेना
3 स्टिंग में रिश्वत लेते हुए देखे गये नेताओं को पार्टी से बाहर निकालें ममता बनर्जी: अमित शाह
यह पढ़ा क्या?
X